Home » Cover Story » अंतरिम बजट में ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य और मातृ कल्याण योजनाओं को नहीं मिली पर्याप्त राशि

अंतरिम बजट में ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य और मातृ कल्याण योजनाओं को नहीं मिली पर्याप्त राशि

अवनि कपूर,
Views
2057

New Delhi: Union Finance Minister Piyush Goyal addresses a press conference in New Delhi, on Feb 1, 2019. (Photo: IANS)
 

नई दिल्ली: 2014 में, सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी सरकार का पहला बजट पेश करते हुए, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने टिप्पणी की थी कि “बजट सरकार की सबसे व्यापक कार्य योजना है। 2022 तक बुनियादी ढांचा निर्माण और गुणवत्तापूर्ण सार्वजनिक सेवाओं के प्रावधान के माध्यम से नए भारत की परिकल्पना ग्रामीण विकास, और रोजगार पर केंद्रित होगी।” चार साल बाद, 01 फरवरी, 2019 को पेश किए गए अंतरिम बजट में सामाजिक क्षेत्र के लिए सरकार की वित्तीय प्रतिबद्धताओं पर एक नजर डाली जाए तो अभी भी स्पष्ट नहीं है कि इस परिकल्पना को कैसे महसूस किया जाए। हमारा निष्कर्ष 2018-19 और नए घोषित अंतरिम बजट के बीच मुख्य कल्याण योजनाओं के लिए आवंटन की तुलना पर आधारित है।

 

ग्रामीण विकास: आवंटन राशि से संकट से राहत की उम्मीद नहीं

 
 

ग्रामीण विकास विभाग के अंतरिम बजट में 2018-19 के संशोधित अनुमानों से केवल 5 फीसदी की वृद्धि देखी गई, जो महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ( मनरेगा ) के लिए 4,000 करोड़ रुपये की वृद्धि के बावजूद अपरिवर्तित रहा।

 

योजनाओं के अनुसार आवंटनों का ब्रेक-डाउन इस बदलाव को परिप्रेक्ष्य में रखता है।बजट अनुमानों के संदर्भ में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के लिए आवंटन,2016 से ही 19000 करोड़ रुपये पर स्थिर बना हुआ है। इसी तरह, सरकारी रिपोर्टों के अनुसार, 2018-19 के संशोधित अनुमानों में 11 फीसदी की वृद्धि के बाद मनरेगा के लिए आवंटन, अंतरिम बजट में फिर से 1.8 फीसदी गिरकर 60,000 करोड़ रुपये हो गया है। इस योजना पर खर्च के साथ, देय राशि सहित, पहले से ही 65,355 करोड़ रुपये पर, और 2.04 बिलियन व्यक्ति-कार्य अब तक उत्पन्न (लक्ष्य 2.3 बिलियन) हुआ है। इस आवंटन से ग्रामीण संकट दूर होने की संभावना नहीं है।

 

Source: MGNREGS Portal

 

इसी प्रकार, प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई-जी) के लिए आवंटन में 2018-19 के लिए संशोधित अनुमानों में 13 फीसदी और इस वर्ष 5 फीसदी की कमी आई है। यह आवंटन न्यूनतम आवश्यकता से कम है। नवंबर 2016 और मार्च 2019 के बीच, इस योजना के लिए 58,900 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं, जो स्वीकृत हिस्से से 24 फीसदी कम है। यदि इसमें हम इस तथ्य को जोड़ते हैं कि आवंटित किए गए सभी फंड जारी नहीं किए जाते हैं, तो यह स्पष्ट हो जाता है कि संघ सरकार द्वारा उपलब्ध कराया गया धन और भी कम है। यह कमी लाभार्थियों को भुगतान में देरी से परिलक्षित होती है।जिन लाभार्थियों ने अप्रैल 2014 और 31 दिसंबर 2018 के बीच निर्माण पूरा कर लिया था, उनमें से 10.4 लाख को अभी तक अपनी अंतिम किस्त नहीं मिली है, जैसा कि ‘अकाउन्टबिलिटी इनिश्यटिव’ ने पाया है। जनवरी 2019 और मार्च 2019 के बीच और 36.4 लाख घरों का निर्माण और निरीक्षण किए जाने के साथ, यह देखना बाकी है कि सरकार अपने 1 करोड़ के लक्ष्य को पूरा करेगी या नहीं।

 
अन्य स्वास्थ्य योजनाओ की लागत पर आयुष्मान भारत को बढ़ावा

 

सरकार की स्वास्थ्य रणनीति ने मोटे तौर पर तीन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है: नि: शुल्क दवाएं और निदान सुनिश्चित करना,  ग्रामीण स्वास्थ्य सांख्यिकी 2018 से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर ग्रामीण स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के सुदृढ़ीकरण के लिए स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र (एचडब्ल्यूसी) का निर्माण करना और गैर-संचारी रोगों के लिए रोग भार के स्थानांतरण को संबोधित करना और अंत में आयुष्मान भारत योजना के तहत रोगी की देखभाल के लिए 5 लाख रुपये का बीमा कवर के साथ 10.7 करोड़ गरीब परिवारों को कवर करना। 2018-19 के संशोधित अनुमानों में आवंटन 3,600 करोड़ रुपये से बढ़कर 8,000 करोड़ रुपये के साथ अंतरिम बजट आयुष्मान भारत के लिए अच्छी खबर लेकर आया है। हालांकि, यह अन्य स्वास्थ्य योजनाओ की लागत पर है, जैसा कि इंडियास्पेंड ने भविष्यवाणी की थी: 2018-19 की शुरुआत में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के लिए लगभग 30,130 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे, जो संशोधित अनुमानों में मामूली रूप से बढ़कर 30,683 करोड़ रुपये हो गए। अंतरिम बजट ने 1,062 करोड़ रुपये देने का वादा किया है। लेकिन यह राशि 2018-19 के लिए 34,882 करोड़ रुपये के अनुमानित योजना परिव्यय से 9 फीसदी नीचे है। “स्वास्थ्य संबंधी लक्ष्यों को कार्रवाई में अनुवाद करने के लिए वित्तीय प्रतिबद्धता की कमी इस तथ्य से स्पष्ट है कि हालांकि स्वास्थ्य क्षेत्र पर सरकारी खर्च में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) के प्रतिशत के रूप में मामूली वृद्धि हुई है, यह लगभग 1.2 फीसदी पर स्थिर हो गया है और स्वास्थ्य के लिए वर्ष-दर-वर्ष बजटीय आवंटन की वर्तमान गति 2025 तक सकल घरेलू उत्पाद के 2.5 फीसदी के लक्षित स्तर तक पहुंचने की संभावना नहीं है,” जैसा कि मार्च 2018 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग की 106 वीं मांग की रिपोर्ट पर टिप्पणी की गई थी।  रिपोर्ट में आगे टिप्पणी की गई थी कि, अपर्याप्त वृद्धि मानदंडों को पूरा करने और नए हस्तक्षेपों के कार्यान्वयन के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार और सुदृढ़ीकरण को प्रभावित करेगी।

 

स्वच्छ मिशन और पेयजल संकट

 

स्वच्छ भारत के लिए 2014 से बढ़ रहे आवंटन पेयजल की कीमत पर आए हैं। भारत को अपने इतिहास में सबसे खराब संकट का सामना करना पड़ रहा है, जिसमें लगभग 60 करोड़ भारतीय अत्यधिक जल-तनाव का सामना कर रहे हैं, और 2020 तक 21 भारतीय शहरों में भूजल की कमी होने की संभावना है।

 

 

स्वच्छता के लिए आवंटन को प्राथमिकता देने के कई वर्षों के बाद, यह उम्मीद की गई थी कि अंतरिम बजट (या कम से कम 2018-19 के लिए संशोधित आवंटन) अंत में एक बदलाव का संकेत देगा। सरकारी आंकड़ों के  9.2 करोड़ शौचालय पहले से ही निर्मित होने की रिपोर्ट के साथ, स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण आवंटन में गिरावट की उम्मीद थी। फिर भी, आश्चर्यजनक रूप से, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम ( एनआरडीडब्लूपी ) के लिए आवंटन में महत्वपूर्ण बदलाव नहीं हुआ है। इसके बजाय, 2018-19 के लिए बजट से संशोधित अनुमानों में आवंटन 22 फीसदी तक कम हो गया। अंतरिम बजट में 2018-19 के बजट अनुमानों में 17 फीसदी की वृद्धि देखी गई है। सरकार के अपने डेटा से पता चलता है कि केवल 44 फीसदी ग्रामीण बस्तियों में 01 जनवरी, 2019 तक प्रति दिन 55 लीटर (पीने का पानी)  प्रति व्यक्ति प्रदान किया जाता है, जो कि 2014-15 में 43 फीसदी से अधिक है, जैसा कि ‘अकाउन्टबिलिटी इनिश्यटिव’ की रिपोर्ट से पता चलता है। लगता नहीं है कि 2020 तक 80 फीसदी घरों में पाइप जलापूर्ति सुनिश्चित करने की भारत की प्रतिबद्धता पूरी हो पाएगी, क्योंकि यह कवरेज 31 दिसंबर, 2018 तक केवल 18 फीसदी थी।

 

 बाल कल्याण को बढ़ावा; मातृत्व योजनाओं में धन की तंगी जारी

 

भारत के 30 में से 24 राज्यों में, जिनके लिए डेटा उपलब्ध हैं, बाल और मातृ कुपोषण भारत के लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रमुख जोखिम कारक हैं, जैसा कि ‘हेल्थ ऑफ द नेशनस स्टेट’ रिपोर्ट से पता चलता है। और इसका हल भारत की कई दशक पुरानी योजना आईसीडीएसी (एकीकृत बाल विकास सेवा ) और प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के रूप में मातृत्व लाभ है।

 

 

अब सकारात्मकता के साथ शुरू करते हैं। कोर आईसीडीएस योजना ने 2019-20 के लिए अंतरिम बजट में आवंटन में, मुख्य रूप से आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए मानदेय में वृद्धि के साथ 17 फीसदी की वृद्धि देखी है। जबकि 2018-19 के आंकड़े महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा 18,007 करोड़ रुपये की अनुमानित राशि से कम है, नवीनतम आवंटन एक ऐसे क्षेत्र के लिए एक बहुत ही जरूरी बढ़ावा है, जिसने पूरक पोषण प्राप्त करने वाले लाभार्थियों की संख्या में गिरावट देखी है। इसके विपरीत, मातृत्व लाभ योजना ( राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत सभी महिलाओं के लिए एक कानूनी अधिकार -औपचारिक क्षेत्र में पहले से ही कवर किए गए लोगों को छोड़कर) ) ने एक मिश्रित तस्वीर देखी है।  2017 में, सरकार ने कुछ निश्चित प्रसव पूर्व देखभाल शर्तों को पूरा करने के बाद गर्भवती महिलाओं को 5,000 रुपये का नकद लाभ प्रदान करने के लिए पीएमएमवीवाई शुरू किया।बाद में इस योजना को पहले जीवित जन्म तक ही सीमित रखा गया था।हालांकि, आवंटन 2017-18 के बजट अनुमानों में 2,700 करोड़ रुपये से घटकर 2018-19 के बजट अनुमानों में 2,400 करोड़ रुपये हो गया है। यह संशोधित अनुमानों में आधे से घटाकर 1,200 करोड़ रुपये कर दिया गया है।

 

2017-18 की संख्या के नीचे अंतरिम बजट में आवंटन होने के कारण, पहले से ही अंडर-फंडिंग के लिए आलोचना होने वाली योजना को अब और मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा।

 
(कपूर सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च में फेलो हैं और अकाउंटेबिलिटी इनिशिएटिव की निदेशक हैं।)
 
यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 01 फरवरी, 2019 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।
 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code