Home » Cover Story » एनीमिया के बोझ को कम करने के लिए महिलाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार जरुरी

एनीमिया के बोझ को कम करने के लिए महिलाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार जरुरी

स्वागता यदवार,
Views
1749

Women Anaemia_620
 

नई दिल्ली: महिलाओं की शिक्षा में सुधार, पोषण और स्वास्थ्य उपायों के अलावा भारत के एनीमिया के बोझ को कम करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण हस्तक्षेप हो सकता है। यह जानकारी अगस्त 2018 में मेडिकल जर्नल बीएमजे ग्लोबल हेल्थ में प्रकाशित एक अध्ययन में बताई गई है।

 

अध्ययन के लिए, वाशिंगटन स्थित अंतर्राष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान (आईएफपीआरआई) के गरीबी, स्वास्थ्य और पोषण प्रभाग के शोधकर्ताओं ने भारत के राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों के दो दौरों की तुलना की – 2005-06 और 2015-16 – और छह से 24 महीने के बच्चों और 15 से 49 साल की गर्भवती और गैर-गर्भवती महिलाओं में एनीमिया की प्रवृत्ति की जांच की है।

 

अध्ययन के अनुसार गर्भावस्था में एनीमिया को कम करने के लिए एक महिला की शिक्षा सबसे महत्वपूर्ण कारक साबित हुई है। बच्चों के मामले में, आयरन और फोलिक एसिड ( आईएफए) की गोलियां, डीवर्मिंग और पूर्ण टीकाकरण और विटामिन ए पूरकता जैसे हस्तक्षेपों ने बहुत अच्छा काम किया है।

 

उन्होंने 30 कारकों में परिवर्तन का चयन किया और प्रतिगमन नामक सांख्यिकीय प्रक्रिया का उपयोग किया, ताकि यह पता लगाया जा सके कि एनीमिया के स्तर में कौन-कौन से कारक परिवर्तन करते हैं।

 

एनीमिया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें किसी व्यक्ति के शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की एक अपर्याप्त संख्या या हीमोग्लोबिन की अपर्याप्त मात्रा होती है, जो ऑक्सीजन ले जाने के लिए उनके रक्त की क्षमता को कम कर देता है। महिलाओं के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन 12 ग्राम प्रति डेसीलीटर (जी / डीएलएल) और पुरुषों में 13 ग्राम / डीएल है।

 

एनएफएचएस के अनुसार, वर्ष 2016 में एनीमिया भारत में व्यापक है – 58.6 फीसदी बच्चे, 53.2 फीसदी गैर-गर्भवती महिलाएं और 50.4 फीसदी गर्भवती महिलाएं एनीमिक पाई गईं। 50 साल तक एनीमिया नियंत्रण कार्यक्रम होने के बावजूद भारत इस बीमारी का सबसे अधिक बोझ वहन करता है।

 

 वर्तमान में, भारत में बाल चिकित्सा आईएफए पूरकता और डीवॉर्मिंग खराब है, जैसा कि आईएफपीआरआई में स्वास्थ्य और पोषण प्रभाग में रिसर्च फेलो और पेपर के सह-लेखक, शमूएल स्कॉट ने बताया है।  एक ई-मेल साक्षात्कार में स्कॉट ने इंडियास्पेंड को बताया कि, पोषण और स्वास्थ्य प्रयास कवरेज में सुधार पर केंद्रित होना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें गुणवत्ता के साथ वितरित किया जाए। हस्तक्षेप के कवरेज में सुधार के लिए एनीमिया मुक्त भारत अभियान के तहत प्रयास किए जा रहे हैं।”

 

गर्भावस्था के दौरान एनीमिया से मृत्यु का खतरा दोगुना हो जाता है और बच्चों में खराब मानसिक विकास होता है। इस अध्ययन के अनुसार, यह वयस्कों में उत्पादकता कम कर सकता है और सकल घरेलू उत्पाद का 4 फीसदी तक का नुकसान कर सकता है। इसका मतलब 7.8 लाख करोड़ रुपये का नुकसान है, जो कि 2018-19 में स्वास्थ्य, शिक्षा और सामाजिक सुरक्षा के लिए भारत के बजट का पांच गुना है।

 

 भारत में 10 साल से 2015 तक, आयरन की कमी से उत्पन्न एनीमिया भी भारत में विकलांगता का प्रमुख कारण था, जैसा कि इंडियास्पेंड ने अक्टूबर 2016 की रिपोर्ट में बताया है।

 
उच्च हीमोग्लोबिन की दर, फिर भी एनीमिया
 

हालांकि औसत हीमोग्लोबिन की दर एक दशक में सभी समूहों के लिए बढ़ गई, लेकिन इसे एनीमिया के प्रसार को रोकने की दिशा में  महत्वपूर्ण कारक नहीं देखा गया। एनीमिया में सबसे ज्यादा कमी बच्चों और गर्भवती महिलाओं में हुई है।

 

बच्चों और व्यस्कों में एनीमिया का प्रसार – 2005-06 और 2015-16


 

आईएफपीआरआई शोधकर्ताओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले मॉडल बच्चों में एनीमिया के स्तर में 49 फीसदी बदलाव और गर्भवती महिलाओं में 66 फीसदी के अंतर को समझा सकते हैं।

 

बच्चों में, एनीमिया में गिरावट को पोषण और स्वास्थ्य हस्तक्षेप (18 फीसदी); महिलाओं की स्कूली शिक्षा (10 फीसदी) और सामाजिक आर्थिक स्थिति (7 फीसदी) द्वारा समझाया गया था। मांस और मछली की खपत में सुधार, स्वच्छता की सुविधाओं में सुधार, मातृ एनीमिया और कम शरीर द्रव्यमान सूचकांक में बदलाव के लिए प्रत्येक ने 2-3 फीसदी योगदान दिया है। गर्भवती महिलाओं में, एनीमिया में गिरावट को मातृ विद्यालय में सुधार (24 फीसदी), सामाजिक आर्थिक स्थिति (17 फीसदी), और पोषण और स्वास्थ्य हस्तक्षेप (7 फीसदी) द्वारा समझाया गया था। अन्य कारकों में सुधार स्वच्छता (9 फीसदी), पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की संख्या (6 फीसदी), मातृ आयु (2 फीसदी), और मांस और मछली की खपत (1 फीसदी) शामिल हैं।

 

एनीमिया कम करने में कारकों का योगदान, 2005-06 और 2015-16


 
स्वास्थ्य और पोषण हस्तक्षेप का खराब कवरेज
 

 बचपन के हस्तक्षेप ( जैसे कि स्तनपान कराने वाली माताओं, बाल चिकित्सा लोहे और फोलिक एसिड तालिकाओं और डीवर्मिंग के लिए एकीकृत बाल विकास योजना के हस्तक्षेप ) के साथ गर्भवती महिलाओं पर लक्षित स्वास्थ्य हस्तक्षेप से बच्चों में एनीमिया में कमी हो सकती हैं, जैसा कि अध्ययन में कहा गया है।

 

ये सेवाएं अब तेजी से उपलब्ध हैं लेकिन उनका कवरेज अपर्याप्त है। 2016 में, गर्भवती महिलाओं में आईएफए की खपत का कवरेज 30 फीसदी था, गर्भावस्था के दौरान डीवॉर्मिंग कवरेज 18 फीसदी और प्रारंभिक बचपन के दौरान 32 फीसदी था।

 

 राष्ट्रीय पोषण एनीमिया प्रोफिलैक्सिस कार्यक्रम के 50 वर्ष पूरे होने के बावजूद एनीमिया बना हुआ है क्योंकि पर्याप्त मात्रा में आयरन की खुराक सभी इच्छित लाभार्थियों तक पहुंच जरूर गई, लेकिन वास्तव में उसे खाया नहीं गया, जैसा कि इंडियास्पेंड ने नवंबर 2018 की रिपोर्ट में बताया है।

 

मांसाहार, पत्तेदार सब्जियों का सेवन पर्याप्त नहीं
 

 2005-06 और 2015-16 के बीच साप्ताहिक मांस और मछली की खपत में 7- से 9-प्रतिशत-अंक वृद्धि हुई और इसके कारण एनीमिया में लगभग 2-3 फीसदी गिरावट आई है। जबकि भारत में 80 फीसदी पुरुष और 70 फीसदी महिलाएं कभी-कभी मछली, अंडे और मांस का सेवन करती हैं, उनमें से 50 फीसदी से भी कम लोग साप्ताहिक रूप से ऐसा करते हैं, जैसा कि इंडियास्पेंड ने मई 2018 की रिपोर्ट में बताया है।

 

चूंकि मांसाहार आहार महंगा है, इसलिए गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियां पोषक तत्वों का अच्छा स्रोत साबित हो सकती हैं और एनीमिया को रोक सकती हैं, लेकिन एनएचएफएस के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले एक दशक में गहरे हरे पत्तेदार सब्जियों की खपत 64 फीसदी से घटकर 48 फीसदी हो गई है।

 

स्वच्छता में सुधार की आवश्यकता
 

 महिलाओं की शिक्षा में बच्चों में एनीमिया में 10 फीसदी और गर्भवती महिलाओं में 24 फीसदी गिरावट बताया है। लेकिन भारत में 31.6 फीसदी महिलाएं अभी भी निरक्षर हैं और केवल 35.7 फीसदी ने 10 साल से अधिक की स्कूली शिक्षा पूरी की है।

 

शिक्षित महिलाओं के स्वस्थ बच्चे हैं,  इस मामले में इंडियास्पेंड ने यहां, यहां और यहां रिपोर्ट की है।  गर्भावस्था में उम्र में एक साल की वृद्धि और खुले में शौच में 10 फीसदी की कमी का परिणाम प्रत्येक गर्भवती महिलाओं में एनीमिया में 3.5 से 3.8 प्रतिशत तक की कमी हो सकता है, जैसा कि इंडियास्पेंड ने जून 2018 की रिपोर्ट में बताया है।  स्कॉट कहते हैं, “लड़कियों में स्कूल छोड़ने के प्राथमिक कारणों में से एक जल्दी शादी होना है, इस तरह देरी से शादी में मदद करने वाली योजनाओं से भी एनीमिया में लाभ हो सकता है।”

 

एनएफएचएस -4 के अनुसार, सुधारित स्वच्छता ने विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं में एनीमिया को कम करने में भूमिका निभाई (9 फीसदी), और फिर भी केवल 50 फीसदी परिवारों ने एक बेहतर स्वच्छता सुविधा का उपयोग किया है।

 

इसके अलावा, जातिगत छुआछूत और प्रदूषण के बारे में सामाजिक विश्वासों ने ग्रामीण भारत में 44 फीसदी भारतीयों को 2018 में खुले में शौच करने के लिए प्रेरित किया, जैसा कि इंडियास्पेंड ने जनवरी 2019 की रिपोर्ट में बताया है। अध्ययन में कहा गया है कि, “महिलाओं की शिक्षा, महिलाओं की आजीविका और घरेलू स्वच्छता में आगे निवेश, महिलाओं और बच्चों के बीच एनीमिया को कम करने के लिए आवश्यक है।”

 

किशोरों पर ध्यान नहीं
 

अक्सर गर्भवती महिलाओं और बच्चों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। भारत के राष्ट्रीय एनीमिया कार्यक्रम ने 2013 में किशोरों के लिए एक साप्ताहिक आईएफए पूरक कार्यक्रम शुरू किया था। लेकिन पिछले दशक में लड़कियों में एनीमिया में केवल 1.7 प्रतिशत-अंक की कमी (55.8 फीसदी से 54.1 फीसदी तक) को देखते हुए इसके प्रभाव पर संदेह है।

 

आईएफपीआरआई के शोधकर्ताओं ने कहा कि 10- से 14 साल के बच्चों में एनीमिया की व्यापकता राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण में शामिल नहीं है, लेकिन अन्य अध्ययनों से पता चला है कि यह शुरुआती किशोरावस्था में 50-90 फीसदी से ऊपर है।

 

अध्ययन में कहा गया है कि भारतीय लड़कियां 12 से 14 वर्ष की उम्र के बीच मासिक धर्म शुरू करती हैं और 8 फीसदी 15 से 19 साल की उम्र में पहले बच्चे की मां बन जाती है। इसलिए, इस समूह में जल्दी हस्तक्षेप करना और उसे ट्रैक करना महत्वपूर्ण है। स्कॉट कहते हैं, “ तेजी से बढ़ रहे किशोरों को भी उच्च पोषक तत्वों की आवश्यकताएं हैं। वे पोषक तत्वों की कमी के खतरे में हैं – इसलिए, एनीमिया का खतरा है।प्रारंभिक किशोरावस्था भी अच्छी आदतें बनाने का एक महत्वपूर्ण समय होता है, क्योंकि कई भारतीय अब भी किशोरावस्था में शादी करते हैं और माता-पिता बनते हैं।

 
केवल आयरन की कमी से एनीमिया नहीं
 

 कम आय वाले देशों में, केवल 15-25 फीसदी एनीमिया, आयरन की कमी के कारण होता है, जैसा कि ग्लोबल जर्नल न्यूट्रिएंट्स में प्रकाशित एक अत्यधिक उद्धृत 2016 पेपर में कहा गया है।  स्कॉट कहते हैं, जब 75-85 फीसदी एनीमिया आयरन की कमी से संबंधित नहीं है, तो आयरन की खुराक, समस्या को हल नहीं करेगी। एनीमिया के अन्य कारणों में कृमि संक्रमण, मलेरिया और संक्रामक रोग शामिल हैं, जो आंतों में सूजन का कारण बनते हैं और जो पोषक तत्वों के अवशोषण को कम करते हैं और जो लाल रक्त कोशिकाओं, रक्त की कमी और आयरन के अलावा, जैसे कि फोलेट, विटामिन ए और बी 12 पोषक तत्वों की कमी को प्रभावित करते हैं। फोलिक एसिड की कमी के अलावा, उन कारणों को आईएफए पूरकता द्वारा हल नहीं किया जाता है। स्कॉट कहते हैं, “ऐसा इसलिए क्योंकि भारत में 50 साल का आएफए अनुपूरण समस्या का समाधान करने में विफल रहा है।”

 
( यदवार प्रमुख संवाददाता है और इंडियास्पेंड के साथ जुड़ी हैं।)
 
यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 16 फरवरी, 2019 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code