Home » Cover Story » गोवा में लक्जरी होटल 10 साल में 170 फीसदी बढ़े, लोग नाराज

गोवा में लक्जरी होटल 10 साल में 170 फीसदी बढ़े, लोग नाराज

निहार गोखले,
Views
1903

Goa_Hotels_620
 

( यह पतली सी सड़क दक्षिण गोवा में एरोसिम गांव के चारों ओर घूमती है और फिर समुद्र तट पर समाप्त होती है। इस सड़क के साथ एक रिसॉर्ट है, और दो अभी बनने हैं। गोवा में प्रमुख होटलों और रिसॉर्ट्स की संख्या 2008 में जितनी थी, उससे 42 फीसदी बढ़कर 2018 में 113 हो गई है। बजट होटल 2008 में 2,142 थे, वह 100 फीसदी बढ़कर 2018 में 4,286 हो गया है। )

 

एरोसिम (गोवा): ” हमारा गांव नारियल के आकार का है, यहां पांच बड़े रिसॉर्ट्स कैसे हो सकता है?” पूर्व नाविक एंथनी डी सिल्वा जब यह सवाल कर रहे थे तो उसी समय उस गांव के संकीर्ण सड़क पर एक लक्जरी कार तेज रफ्तार में  दक्षिण गोवा में एरसीम समुद्र तट की ओर गई।

 

एक ठेठ गोवन गांव की सड़क, लगभग पांच मीटर चौड़ी, टाइल छत वाले घरों के आसपास कई बार मुड़ती हुई, बारहमासी पेड़ों की छाया के तहत, अरब सागर के पास रेत के टीले के बीच एक सुनसान अंत में खुलने से पहले…एरोसिम समुद्र तट के चार किलोमीटर के आस-पास दो रिसोर्ट पहले से ही हैं और डेवलपर्स ने तीन और खोलने का प्रस्ताव दिया है।

 

एरोसिम समुद्री तट का एक दृश्य, एक चार किलोमीटर का फैलाव, जहां दो रिसॉर्ट्स पहले से ही हैं और तीन और प्रस्तावित हैं।

 

पर्यटन विभाग के अनुसार प्रमुख होटलों और रिसॉर्ट्स की संख्या में 170 फीसदी की वृद्धि हुई है। यह आंकड़े 2008 की तुलना में 42 फीसदी बढ़कर 2018 में 113 हुए है। तुलनात्मक रुप से, बजट होटल 2008 में 2,142 थे, जो 100 फीसदी बढ़कर 2018 में 4,286 हुए हैं। भारत के सबसे छोटे, लेकिन देश के सबसे समृद्ध और स्वस्थ राज्यों में से एक गोवा में एरोसिम लक्जरी पर्यटन के बढ़ते अस्तित्व के बीच बढ़ते संघर्ष का भी प्रतीक है। गोवा का सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यय भारतीय औसत से चार गुना है, जैसा कि इंडियास्पेन्ड ने फरवरी 2017 की रिपोर्ट में बताया है। यहां के चिकित्सा सुविधाओं में वृद्धि हुई है, और स्वास्थ्य पेशेवरों की कोई कमी नहीं है; लिंग अनुपात भारत मे सर्वश्रेष्ठ में से एक और बेहतर हो रहा है; और शिशु मृत्यु दर भारत के सबसे निचले हिस्से में से एक है।  चूंकि पर्यटन के माध्यम से गोवा सरकार अब बड़ी समृद्धि के लिए आगे बढ़ रही है,   ( जो 2010 में (नवीनतम डेटा उपलब्ध) राज्य के सकल घरेलू उत्पाद के 8 फीसदी के लिए जिम्मेदार था और 2017 में 7.8 मिलियन पर्यटकों को आकर्षित किया, या गोवा की आबादी का पांचवा हिस्सा है ) एरोसिम जैसे स्थानों के निवासियों ने आम भूमि के अतिक्रमण, समुदाय की पारिस्थितिक संपत्तियों का अधिग्रहण और कुछ मामलों में, भूमि और पर्यावरण कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाया है। शोधकर्ताओं के एक नेटवर्क, लैंड कॉन्फ्लिक्ट वॉच द्वारा एकत्रित आंकड़ों के मुताबिक, अक्टूबर 2018 तक, लगभग 200 हेक्टेयर भूमि (  या 374 फुटबॉल क्षेत्रों के बराबर ) सात पर्यटन-संबंधी संघर्षों में शामिल था, जिससे गोवा में लगभग 3,100 लोगों प्रभावित हुए थे। लैंड कॉन्फ्लिक्ट वॉच भारत में चल रहे भूमि संघर्षों के बारे में डेटा एकत्र करता है। नेटवर्क ने अभी तक भारत में 16 ऐसे पर्यटन-संबंधी संघर्षों को एकत्रित किया है। हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश और मणिपुर सहित आठ राज्यों में 8,500 हेक्टेयर, या लगभग 16,000 फुटबॉल क्षेत्र तक फैले हुए हैं और लगभग 75,000 लोगों को प्रभावित करते हैं। इनमें से ज्यादातर मामलों में, गरीब और हाशिए वाले समुदाय पर्यटन परियोजनाओं का विरोध करते हैं, क्योंकि उन्हें बेदखल होने का डर है।

 

गोवा में पर्यटन-संबंधित भूमि संघर्ष 74,000 से अधिक लोगों पर प्रभाव डालता है

Source: Land Conflict Watch

 

गोवा में, जबकि प्रत्यक्ष बेदखल कठिन है, पर्यटन संघर्षों में आम तौर पर आम भूमि और सामुदायिक संसाधनों के लिए खतरे शामिल होते जा रहे हैं । उदाहरण के लिए, एक गोल्फ कोर्स एक गांव में 90 फीसदी भूमि लेने का प्रस्ताव कर रहा है, जिसमें कृषि भूमि और वन शामिल हैं।

 

ऐसी परिस्थितियों से बचने के लिए गोवा में रहने वाले  डी सिल्वा जैसे लोगों ने अपनी नौकरी और परिवार से समय बचाकर रोडब्लॉक और गांव परिषद की बैठकों में बहस करना शुरू कर दिया है कि क्या इन होटलों को स्थापित करने की अनुमति दी जानी चाहिए? वैसे भी अदालतों में चल रहे कई मामले पर्यटन राज्य के रूप में गोवा की वैश्विक छवि को चुनौती दे रहे हैं।

 
गोवा में होटलों की संख्या हर 10 साल में हो जाती है दोगुनी

 

 

2017 में, लगभग 7.8 मिलियन पर्यटक गोवा आए, जो चार साल पहले की तुलना में दोगुना है और राज्य की 1.5 मिलियन आबादी का पांच गुना है।

 

1998 से राज्य पर्यटन विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, होटलों की संख्या भी कई गुणा हो गई है ( लक्जरी होटल सबसे तेजी से बढ़ते खंड के साथ, हर 10 वर्षों में संख्या दोगुनी हो रही है। ) श्रेणी ए होटलों की संख्या में वृद्धि, जिसमें लक्जरी होटल शामिल हैं। 1982 के गोवा, दमन और दीव के पर्यटन व्यापार अधिनियम के पंजीकरण के तहत सभी होटल श्रेणियों में सबसे ज्यादा है और 1998 में 29 से बढ़कर 2008 में 42 हो गया, जो 31 मार्च, 2018 तक 113 हो गया, जैसा कि आंकड़ों से पता चलता है। इस श्रेणी में होटलों में से आधे होटल “स्टार होटल” हैं, जो होटलों की एक और शानदार श्रेणी है।

 

गोवा में 2008 और 2018 के बीच लक्जरी होटलों में 170 फीसदी की वृद्धि हुई


 

हालांकि, श्रेणी ए होटल सभी होटलों के केवल 2 फीसदी हैं, लेकिन वे आकार में बहुत बड़े हैं, और गोवा में उपलब्ध कमरों में से एक चौथाई होस्ट करते हैं।  एक श्रेणी ए होटल में औसत 110 कमरे होंगे। श्रेणी बी के तहत छोटे होटलों के कमरों की संख्या का लगभग तीन गुना और सबसे कम श्रेणी डी के होटल की तुलना में कमरों की संख्या से 25 गुना अधिक।  हालांकि छोटे होटल नियमित रूप से शोर और पर्यावरण कानून का उल्लंघन करते हैं लेकिन बड़े होटलों के लिए भूमि के बड़े इलाकों की आवश्यकता होती है। स्थानीय संसाधनों पर भी अधिक बोझ डाला जाता है, और अक्सर ग्रामीण इसका विरोध करते हैं।

 

निवासियों ने रिसॉर्ट्स के लिए लचर पर्यावरणीय जांच का विरोध किया
 

एरोसिम में, रिसॉर्ट्स के खिलाफ असंतोष 2006 में तेज हो गया, जब 20-एकड़ समुद्र तट पर 160 कमरे के पांच सितारा रिजॉर्ट का प्रस्ताव सामने आया।

 

 मारुति सुजुकी कारों के दिल्ली स्थित डीलरशिप कंपनी, ‘कंपटेंट ऑटोमोबाइल’ ने एक अमीर मालिक से संपत्ति खरीदी थी, जिसने ‘पॉर्टूगल-एरा लैंड’ नाम दिया गया। बिक्री पर कोई विवाद नहीं है, लेकिन ग्रामीणों के दो अलग-अलग समूह ( कैंसौलीम विलेजर्स एक्शन कमेटी (सीवीएसी) और कंसौलीम-अरोसिम-क्यूएलिम सिविक एंड कंज्यूमर फोरम (या सीएसी-सीसीएफ) ) तर्क देते हैं कि साइट जरूर एक निजी संपत्ति है, लेकिन यह समुदाय के लिए पारिस्थितिक रूप से महत्वपूर्ण है। यह क्षेत्र की जैव विविधता वाला ‘हॉटस्पॉट’ भी है। यह पूरा इलाका हरियाली में डूबा है। कई तरह के  जीव यहां रहते हैं और औषधीय जड़ी- बूटियों से भरा-पूरा है यह इलाका।

 

बाएं: तूफान से आने वाले समुद्री जल की गांव से निकास की नाली प्रस्तावित रिसॉर्ट साइट पर एकत्र हो जाती है और इस चैनल के माध्यम से अरब सागर में निकलती है। दाएं: नाले के रूप में यह एरोसिम समुद्र तट पर समुद्र से मिलता है।

 

सीएसी-सीसीएफ को हेड करने वाले कैंसौलीम स्थित चिकित्सक मार्कोनी कोर्रिया कहते हैं, ” जमीन का वह टुकड़ा पर्यावरण और पारिस्थितिकी को लेकर बहुत संवेदनशील है। यहां दो तूफान जल नालियां खुलती हैं जो हमारे पूर्वजों के समय से हैं। ” हर सुबह नारियल का घना बगीचा रिजॉर्ट भूमि पर सुबह सूरज की रोशनी के साथ खेल खेलता है। यहां मोर भी आपको मिलेंगे। हरे धान के खेत मन को मोहते हैं। इसी रास्ते गांव में आया पानी समुद्र में बहता है।

 

एरोसिम गांव में पांच सितारा रिज़ॉर्ट के लिए प्रस्तावित साइट। ग्रामीणों का आरोप है कि यह रिसॉर्ट इस इलाके की हरियाली और इसकी जैव विविधता को खत्म कर देगा।

 

डी सिल्वा कहते हैं, “ये जल चैनल गांव की जीवन रेखा है। जैसा कि उन्होंने इस रिपोर्टर को दिखाया कि रेत के टीले समुद्र के खिलाफ प्राकृतिक किले हैं। ये न हों तो हमारे गांव केरल की स्थिति का सामना करेंगे” उन्होंने अगस्त 2018 में केरल के हालिया बाढ़ का जिक्र करते हुए कहा।

 

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने कहा कि  केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने पर्यावरणीय प्रभाव आकलन अधिसूचना, 2006 के तहत आवश्यक पर्यावरण मंजूरी प्राप्त करने के लिए रिजॉर्ट को छूट मिल गई थी, जिसमें साइट के पर्यावरणीय मानकों का अध्ययन शामिल हो सकता था, जैसा कि सीएसी-सीसीएफ और सीवीएसी द्वारा दायर अपील में जनवरी 2017 के फैसले में बताया गया है। एनजीटी ने पर्यावरण मंजूरी के लिए प्रक्रिया का पालन करने के लिए मंत्रालय को निर्देश दिया।

 

एरोसिम समुद्र तट की ओर जमीन का वह टुकड़ा, जहां  अनधिकार प्रवेश के खिलाफ डेवलपर द्वारा चेतावनी का एक बोर्ड लगा है।

 

2017 में दिए गए एक पर्यावरण मंजूरी ने स्वीकार किया कि रिज़ॉर्ट की भूमि पर 500 पेड़ मौजूद थे और इनमें से 200 को गिराने की अनुमति दी गई थी। कोर्रिया ने कहा, “किसी भी तरह से पर्यावरण मंत्रालय परियोजना को पूरा करने का इच्छुक था।”

 

दिसंबर 2017 में, सभी मंजूरी के साथ, कॉम्पोटेंट ऑटोमोबाइल ने संपत्ति को डिफोडिल होटल प्राइवेट लिमिटेड को बेच दिया, जो दिल्ली स्थित एक और कंपनी है, जिसने रिज़ॉर्ट के निर्माण शुरू करने की कोशिश की। लेकिन निवासियों ने प्रतिरोध को और बढ़ा दिया। फरवरी 2018 में, ग्रामीणों ने अर्थ मूवर्स को जमान के उस टुकड़े से पेड़ गिराने से रोक दिया, जबकि मई में ग्राम सभा या गांव परिषद की बैठक में गरमा-गरम बहस और पुलिस की भारी उपस्थिति देखी गई, क्योंकि कई प्रदर्शनकारियों ने पंचायत से परियोजना के लाइसेंस रद्द करने को कहा। जुलाई में, उन्होंने साइट पर निर्माण सामग्री ले जाने से ट्रकों को बंद कर दिया।

 

सीवीएसी के एक सदस्य मल्लिका फर्नांडीस ने कहा, “हम किसी भी कीमत पर रिसॉर्ट की अनुमति नहीं देंगे।” ग्रामीणों ने कहा कि रिसॉर्ट के प्रतिरोध ने अरोसिम में अन्य दो प्रस्तावित परियोजनाओं को बंद कर दिया है। अगर यह परियोजना आती है तो अन्य दो भी स्वीकृत हो जाएंगे। फर्नांडीस कहते हैं, “ हमारा गांव ऐसे प्रोजेक्ट का भार नहीं ले सकता है।”

 

 कॉम्पोटेंट ऑटोमोबाइल और डैफोडिल ने प्रस्तावित रिसॉर्ट के पर्यावरणीय प्रभावों और गांव समूहों द्वारा उठाए गए चिंताओं के बारे में इंडियास्पेंड के प्रश्नों का जवाब नहीं दिया। योजना में पर्यटन पर जोर दिया गया, लेकिन गोवा की क्षमता को मापा नहीं गया। गोवा के तट और आंतरिक क्षेत्रों में कितने बड़े रिसॉर्ट्स खोले जा सकते हैं, इसे निर्धारित करने के लिए कोई अध्ययन नहीं किया गया है।

 

1987 और 2001 में तैयार किए गए मास्टर प्लान का लोगों ने जब सार्वजनिक ढंग से विरोध किया तो उसे ठंडे बस्ते में डाल दिया गया,
 
क्योंकि इन योजनाओं में राज्य की पारिस्थितिकी का आकलन किए बिना तटीय और गैर-तटीय क्षेत्रों में रिसॉर्ट्स की संख्या में वृद्धि की सिफारिश की थी।
 
विश्व बैंक ने गोवा के पर्यटन उद्योग पर 1 99 8 की एक रिपोर्ट में कहा, “पर्यटन से संबंधित न कोई स्पष्ट और न ही दृढ़ नीति रही है।” हालांकि सरकार ने ‘विज्ञापन के आधार पर’ लक्जरी होटल को मंजूरी दी। रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘अपमार्केट पर्यटन’ के उद्देश्य से होटलों के प्रति सकारात्मक पूर्वाग्रह था।
 
2013 में, गोवा सरकार ने अंतरराष्ट्रीय परामर्श केपीएमजी से एक और पर्यटन योजना तैयार करने के लिए कहा। 2014 में, गोवा ने एक नई राज्य निवेश नीति पेश की जिसमें ‘अधिक लक्जरी होटल’ को प्रोत्साहित करने की बात कही गई।
 

 नीति कहती है, “राज्य अर्थव्यवस्था पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालने और रोजगार प्रदान करने की क्षमता के साथ सरकार ने ज्यादा खर्च करने वाले पर्यटकों पर अपना ध्यान केंद्रित किया है।”

 

2016 में जारी पर्यटन योजना का एक मसौदा ‘घरेलू और विदेशी दोनों में, ज्यादा खर्च करने वाले पर्यटकों पर’ ध्यान देने के लिए तैयार किया गया था, लेकिन लक्जरी सुविधाओं को राज्य कितना ढो सकती है, इस पर विचार नहीं किया गया। आने वाले महीनों में इस योजना को अंतिम रूप देने की उम्मीद है।

 

फरवरी 2018 में, राज्य के कैबिनेट मंत्री विजई सरदेसाई ने बजट पर्यटकों को ‘पृथ्वी पर भार’ कह कर विवाद खड़ा कर दिया था, जबकि गोवा में अधिक “समृद्ध पर्यटकों” और गोल्फ कोर्स लाने के लिए बहस की थी। उन्होंने कहा, “हमारे पास बढ़िया सुविधाएं होनी चाहिए और बढ़िया पर्यटन होना चाहिए, जो हमें लाभ देता है।”

 

सरदेसाई की टिप्पणियां तिरकोल के तटीय गांव में लोगों के लिए विडंबनापूर्ण लगती थीं, जहां गोवा में सबसे ज्यादा पर्यटन-संबंधी संघर्ष है। 2012 में, दिल्ली स्थित एक अग्रणी लीडिंग होटल ने एक अंतरराष्ट्रीय मानक गोल्फ कोर्स बनाने और तिराकोल में 300 एकड़ जमीन का अधिग्रहण करने का प्रस्ताव रखा था, जो तिरकोल में कुल भूमि का लगभग 90 फीसदी था।

 

 इस परियोजना ने 2015 में मीडिया में हेडलाइंस हासिल किए, जब ग्रामीणों ने परियोजना के तहत के निर्माण को रोकने की कोशिश की। वे कंपनी द्वारा नियुक्त किए गए ‘बाउंसरों’ के द्वारा खदेड़े गए थे।

 

बाद में, बॉम्बे हाईकोर्ट ने सार्वजनिक हित के मुकदमे को स्वीकार किया जिसमें 1960 के दशक के टेनन्सी एक्ट में बड़े पैमाने पर उल्लंघन का आरोप लगाया गया था, जिसने सभी तिरकोल के ग्रामीणों को भूमि अधिकार प्रदान किए थे।

 

अदालत के 2017 के फैसले के मुताबिक, प्रमुख होटलों के साथ, त्रिकोला के अकेले जमीन मालिक ने जिला प्रशासन को तकनीकी आधार पर टेनन्सी टाइटिल, साफ़ करके गोल्फ कोर्स में रूपांतरण को रोकने के लिए राजी किया था। उच्च न्यायालय ने उन निर्णयों की समीक्षा के आदेश दिए, लेकिन कलेक्टरेट अपने पहले के आदेशों पर खड़ा रहा। उच्च न्यायालय के सामने एक नई अपील लंबित है  और गोल्फ कोर्स पर कोई काम शुरू नहीं हुआ है। अग्रणी होटलों के एक अधिकारी ने इस मुद्दे पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया, क्योंकि यह मामला अदालत में लंबित है। अंदर के इलाके में संघर्ष

 

समुद्र तट से दूर राज्य के हरित अंदरूनी इलाकों में स्टार होटल और पर्यटन परियोजनाओं को पेश करने के प्रस्ताव  ने भी संघर्ष को जन्म दिया है।

 

 एरोसिम से लगभग 10 किमी अंतर्देशीय क्लोलोसिम गांव के ग्रामीण, केसरवाल के व्यवसायीकरण का विरोध कर रहे हैं। यहां पूरे साल वसंत रहता है और एक मानसून झरना है, जिसने दशकों से पानी के औषधीय गुणों में विश्वास करने वाले पर्यटकों को आकर्षित किया है। हालांकि केसरवाल व्यस्त राष्ट्रीय राजमार्ग 17 से केवल एक मिनट दूर है, लेकिन एक प्राचीन सदाबहार जंगल बहुत मनमोहक हैं।

 

अगस्त 2018 में केसरवाल वसंत और झरना। मानसून के मौसम में झरना सक्रिय रहता है।

 

जून 2018 में, गोवा पर्यटन विकास निगम ने झरने के चारों ओर छह एकड़ भूमि पर “तीन सितारा या उच्च श्रेणी का व्यवसायिक होटल” बनाने के लिए एक डेवलपर का चयन करने के लिए एक निविदा जारी की। बोली लगाने से पहले, ‘स्प्रिंग मूवमेंट’ का जन्म हुआ।

 

केसरवाल वसंत के लिए वर्तमान प्रवेश द्वार। जून 2018 में, गोवा पर्यटन विकास निगम ने छह एकड़ भूमि पर ‘तीन सितारा या उच्च श्रेणी का व्यवसायिक होटल’ बनाने के लिए एक डेवलपर का चयन करने के लिए निविदा जारी की।

 

क्योलोसिम के एक इंजीनियर, लोपिनो जेवियर ने कहा, यह एक विरासत स्थल है और हमारे गांव के लिए एक जीवन रेखा है।” 2017 में, गांव पंचायत ने फिर से वसंत लाने के लिए प्रयास शुरु किया, जो पास के औद्योगिक एस्टेट में अवैध बोरवेल से कुप्रभावित था। लोपिन्हो कहते हैं, “उच्च स्तरीय होटल हमारे उद्देश्य को कमजोर कर सकते हैं। इससे गांव का प्राकृतिक सौंदर्य नष्ट हो जाएगा।”

 

बाएं: क्योलोसिम के ग्रामीण लोपिनो जेवियर केसरवाल झरने के तीन में से दो निकास बिंदु दिखाते है। दाएं: केसरवाल झरने का तीसरा निकास केंद्र।

 

लोपिनो ने अपने आदिवासी समुदाय का जिक्र करते हुए कहा, ” उन्होंने गांव और इसकी भूमि विकसित करने के लिए कड़ी मेहनत की। एक होटल आने के बाद कौन जानता है कि हम वहां प्रवेश भी कर सकते हैं? ” लोपिनो 2015 में क्योलोसिम में एक और “मेगा टूरिज्म” प्रोजेक्ट का विरोध करने के लिए सामने आए थे, जिसका नाम था “मिनी इंडिया”, जहां पर्यटक भारत के प्रसिद्ध स्मारकों के विशाल प्रतिलिपि के आसपास नौकायन कर सकते थे, जो सूरी के पास 12 एकड़ के ज्वारीय पानी के किनारे था। पुणे स्थित मूव एंटरप्राइजेज द्वारा प्रस्तावित परियोजना को 2014 की राज्य औद्योगिक नीति के तहत बनाए गए मुख्यमंत्री के नेतृत्व वाले निवेश संवर्धन और सुविधा बोर्ड द्वारा अनुमोदित किया गया था।

 

एनजीटी द्वारा आदेशित एक साइट निरीक्षण के बाद परियोजना का निर्माण रोक दिया गया था। इससे यह भी पता चला कि परियोजना साइट वास्तव में ‘ नो डेवलप्मेंट जोन’ में था।

 

तटीय क्षेत्रों में, पर्यटन की वृद्धि से संसाधनों का निजीकरण हुआ है और इससे परंपरागत आजीविका और समुदाय को समर्थन मिलता है, जैसा कि 2017 के नोट में ‘पीपल ओवर प्रॉफिट’ नामक रोमन कैथोलिक चर्च द्वारा समर्थित गोवा स्थित एनजीओ सेंटर फॉर रिसपॉंसिबल टूरिजम ने कहा है।  नोट में कहा गया है कि, “गोवा के विशिष्ट संदर्भ में, पर्यटन नीति को ‘हितधारकों’ के बजाय ‘अधिकार धारकों’ पर ध्यान देना चाहिए। ये दो संस्थाएं हैं जिनके हित अक्सर एक-दूसरे से टकराते हैं और फिर विरोध होता है। “

 

1990 के दशक के लिए, तटीय क्षेत्र के मानदंडों के उल्लंघन और समुद्र तक सार्वजनिक पहुंच के अतिक्रमण को लेकर कुछ हद तक नागरिक समूहों और गैर सरकारी संगठन बड़े होटलों के मुद्दे पर अदालत में गए। चूंकि लक्जरी होटल की संख्या पिछले कुछ वर्षों में बढ़ी है, इसलिए उनके खिलाफ प्रतिरोध भी हुआ।

 

एरोसिम के एंथनी डी सिल्वा जैसे कई गोवा वासियों के लिए, उनके गांव में रिसॉर्ट्स के आने का मतलब पारंपरिक व्यवसायों से अलग नई नौकरियों के लिए के अवसरों की संभावनाएं थीं। यह एक उम्मीद थी, जो जल्द ही सुस्त पड़ गई। डी सिल्वा कहते हैं, “दो रिसॉर्ट्स आने तक गांव में कोई विकास नहीं हुआ था। जब रिसॉर्ट्स का निर्माण किया गया था, तो बड़े काम के लिए किसी गोवा के निवासियों को नियुक्त नहीं किया गया था, और केवल साफ-सफाई नौकरियों की पेशकश की गई थी। एक रिसॉर्ट में मुझे एक सहायक वेटर के रूप में रिक्ति के बारे में बताया गया था, यहां तक ​​कि एक पूर्ण वेटर भी नहीं! ” डी सिल्वा ने आगे कहते हैं, “2012 में हमने रिसॉर्ट से कच्चे सीवेज को समुद्र में फेंकते हुए रंगे हाथ पकड़ा। दूसरे रिसॉर्ट ने समुद्री दृश्य को सुधारने के लिए रेत के टीलों में वृद्धि की। अब हम और मेगा होटल नहीं चाहते हैं।”  एंथनी की पत्नी वीणा डी सिल्वा ने कहा, “हम तब इस परियोजना का विरोध कर रहे थे, जब मेरा पहला बच्चा पैदा हुआ था। वह अब छह साल का है और हम अभी भी लड़ रहे हैं।” यह जोड़ा अपने गांव में रिसॉर्ट्स के खिलाफ आंदोलन में सबसे आगे रहा है। ये गांव में चैरिटी संगीत संगीत कार्यक्रमों से अदालत के मामलों के लिए पैसा जुटाते हैं। वीणा कहती हैं , “मैं प्रोजेक्ट समर्थकों को नहीं जानती, लेकिन मुझे अपने गांव के बारे में पता  है और इसकी सुंदरता पता है। मैं इसे अपने बच्चों को देना चाहती हूं, मैं बस इतना ही जानती हूं।”

 
(निहार गोखले एक स्वतंत्र पर्यावरण पत्रकार और ‘लैंड कॉन्फ्लिक्ट वॉच’ से जुड़े लेखक हैं। ‘लैंड कॉन्फ्लिक्ट वॉच’ शोधकर्ताओं और समाजसेवियों का एक नेटवर्क है, जो भारत में चल रहे भूमि संघर्षों के बारे में डेटा एकत्र करता है)।
 

 यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 10 नवंबर, 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code