Home » Cover Story » “भारत टाइप 2 मधुमेह को रोक सकता है !”

“भारत टाइप 2 मधुमेह को रोक सकता है !”

तिष संघेरा,
Views
2242

Aseem620

 

मुंबई: असीम मल्होत्रा की ​​जिंदगी का एक ही मकसद है, खाने में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को कम करना। उनका मानना है कि शर्करा और स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थों में कटौती कर हम न सिर्फ स्वस्थ रह सकते हैं, बल्कि अपना वजन भी कम कर सकते हैं। इससे टाइप 2 मधुमेह के होने की आशंका काफी कम हो जाती है।

 

यहां तक ​​कि मधुमेह से पीड़ित जो लोग अभी इंसुलिन इंजेक्शन ले रहे हैं और रक्त शर्करा के स्तर की निरंतर निगरानी कर रहे हैं, वे भी कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम कर अपनी स्थिति को बदल सकते हैं। संभावना यह है कि पूरी तरह से बीमारी खत्म हो जाए।

 

40 वर्षीय मल्हत्रा ने इंडियास्पेंड को बताया, “17 साल फ्रंटलाइन डॉक्टर के रूप में  मैंने स्वास्थ्य प्रणालियों पर बढ़ते तनाव को देखा है और इसके पीछे के कारकों से अच्छी तरह से अवगत हूं। अधिक से अधिक लोग पुरानी बीमारी के साथ जी रहे हैं । आहार और जीवनशैली इसका कारण बन रहा है। मैंने यह रिसर्च करने का फैसला किया कि आखिर गलत क्या हुआ और हम इस बिंदु तक कैसे पहुंचे और मुझे एहसास हुआ कि हमारा सबसे बड़ा दुश्मन चीनी है। ”

 

मल्होत्रा ​​एक हृदय रोग विशेषज्ञ परामर्शदाता हैं । वे प्रसिद्ध किताब पाइओपी डाइट  के सहलेखक हैं। यह किताब कम कार्बोहाइड्रेट ये युक्त और  भूमध्यसागरीय भोजन योजना के बारे में है।  वह ब्रिटेन में सबसे प्रभावशाली और जाने-माने स्वास्थ्य प्रचारकों में से एक हैं और चीनी के खिलाफ अपने अभियान के बारे में अकादमिक चिकित्सा पत्रिकाओं और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में नियमित रूप से लिखते हैं, जिसमें वे अक्सर बहुत अधिक दवाओं के नुकसान को उजागर करते हैं।

 

माइकल ब्लूमबर्ग और मिशेल ओबामा जैसे मोटापा विरोधी कार्यकर्ताओं के साथ नामित, मल्होत्रा ​​को ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की ओर से वृत्तचित्र फिल्म ‘द बिग फैट फिक्स’ में दिखाया गया है, जिसका प्रीमियर ब्रिटिश संसद में हुआ था। 2015 में, वह लंदन स्थित स्वास्थ्य वैचारिक संस्था, द किंग्स फंड के ट्रस्टी बोर्ड के सबसे कम उम्र के सदस्य बने।

 

2017 में अनुमानित 72 मिलियन मामलों के साथ भारत वर्तमान में दुनिया भर में मधुमेह के बोझ का 49 फीसदी वहन करता है। 2025 तक एक आंकड़ा लगभग 134 मिलियन तक पहुंचने की उम्मीद है।

 

‘लाइफस्टाइल बीमारी’ के रूप में जाने जाना वाला और इसे भारत में सामान्य प्रवृत्ति में ‘चीनी’ के रूप में जाना जाने वाला मधुमेह ( शरीर की इंसुलिन-स्तर को नियंत्रित करने में असमर्थता के कारण होने वाली स्थिति, जो ऊतक क्षति और अंग विफलता का कारण बन सकती है ) निष्क्रियता और उच्च कैलोरी खाद्य पदार्थों की अत्यधिक खपत से जुड़ा हुआ है। आर्थिक विकास के साथ दोनों परिवर्तन।

 

मल्होत्रा ​​का मानना ​​है कि भोजन कैसे प्रभावित करता है इस पर समझ की गंभीर कमी है। इस कारण से वह नीतियों को लाने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य वकील बन गए, जिससे लोगों को स्वस्थ विकल्प लेने में मदद मिलती है। वैसे इसे उत्तर दक्षिणी इटली के एक छोटे से शहर को देखकर समझा जा सकता है, जहां जहां जीवन प्रत्याशा औसत ‘टूर डी फ्रांस साइकिल चालकों’ की तुलना में 10 साल अधिक है।

 

मल्होत्रा कहते हैं, “लोग आम तौर पर इटली को उच्च स्टार्च भोजन के साथ जोड़ते हैं, लेकिन वास्तव में पास्ता केवल एक छोटे स्टार्टर के रूप में खाया जाता है, एक पखवाड़े में पिज्जा खाते हैं और वहां चीनी   काफी कम खपत होती है, करीब रविवार को सप्ताह में एक बार। इसे भारत से तुलना करें । यहां एक दिन में ही वहां से तीन गुना अधिक खफत है। “

 

मल्होत्रा ​​के मुताबिक अच्छी खबर यह है कि जीवनशैली में बदलाव से स्वास्थ्य पर बहुत तेज प्रभाव पड़ सकता है-”  उदाहरण के लिए आधुनिक स्टार्च और शर्करा की अतिरिक्त खपत होती है, जो समस्या है। इसलिए हमने योजना से इसे हटा दिया और पिपोपी आहार के घटकों पर ध्यान केंद्रित किया, जिसने जैतून का तेल और कुछ हद तक बादाम आदि जैसे लाभकारी चीजें हैं। “

 

ई-मेल साक्षात्कार में, मल्होत्रा ​​ने हमसे आधुनिक जीवन शैली से जुड़े स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में बात की। उन्होंने इंडियास्पेंड को बताया कि वैश्विक स्तर पर स्वास्थ्य पर भोजन के प्रभाव के बारे में जागरूकता बढ़ाने और जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों को रोकने के लिए हम क्या कर सकते हैं। उनसे बातचीत के संपादित अंश:

 

हृदय रोग और मधुमेह को ‘लाइफस्टाइल बीमारियों’ के रूप में देखा जाता है, जो चीनी और कार्बोहाइड्रेट की उच्च खपत से जुड़ा हुआ है । ऐसा लगता है कि भारतीय समृद्ध हो रहे हैं, इसलिए उनका आहार भी समृद्ध हो रहा है। आपके अनुसार इस संकट को कैसे रोका जा सकता है?

 

यह अंततः एक झूठी अर्थव्यवस्था है। 2015 में ‘निवेश बैंक मॉर्गन स्टेनली’ की एक रिपोर्ट से पता चला कि जिन देशों में उनकी उच्च जनसंख्या चीनी खपत को रोकने में असफल रही है, वे 2035 तक शून्य फीसदी की आर्थिक वृद्धि को देखेंगे। आहार से संबंधित बीमारी से पीड़ित एक अस्वास्थ्यकर आबादी आर्थिक रूप से अनुत्पादक होती है।

 

भारत में तम्बाकू के लिए किए गए प्रचार की तरह सार्वजनिक जागरूकता और शिक्षा अभियान इसमें  मदद करेगा। हमें लोगों को उनके चयापचय स्वास्थ्य पर अतिरिक्त चीनी और स्टार्च खपत के खतरों के बारे में चेतावनी देने की ज़रूरत है, खासतौर पर उन लोगों के लिए, जो टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग के जोखिम में हैं।

 

सरकारी स्तर पर, विनियामक कार्रवाई जो विशेष रूप से जंक फूड की उपलब्धता, सामर्थता और स्वीकार्यता को संबोधित करती है, जनसंख्या स्तर पर बहुत अधिक प्रभाव डालती है। इसके लिए जंक फूड की कीमत बढ़ाने और उदाहरण के लिए जंक फूड विज्ञापन पर प्रतिबंध लागू करने की आवश्यकता है। शर्करा पेय और फलों के रस पर एक स्वास्थ्य चेतावनी एक अच्छी शुरुआत होगी।

 

हालांकि, हम यह भी जानते हैं कि भारत में शहरी गरीबों में टाइप 2 मधुमेह के मामले बढ़ रहे हैं। इस घटना के पीछे मुख्य कारण क्या हैं और इसके समाधान क्या हैं?

 

यह तथ्य यह है कि परंपरागत आहार को अति-संसाधित खाद्य पदार्थों, अर्थात् शर्करा पेय और प्रसंस्कृत कार्बोहाइड्रेट स्नैक्स द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है, जो सस्ते हैं लेकिन कम पौष्टिक भी हैं, जिससे ऐसे मामले बढ़ रहे हैं। समाधान जैसा मैंने ऊपर बताया है, वैसा ही है।

 

भारत में मधुमेह के इलाज के लिए वार्षिक लागत प्रति व्यक्ति $ 420 (27,400 रुपये) होने का अनुमान है, जो स्थिर रूप से 30 अरब डॉलर (1.95 लाख करोड़ रुपये) तक पहुंच जाएगी

 

भारत में मधुमेह के इलाज के लिए वार्षिक लागत प्रति व्यक्ति $ 420 (27,400 रुपये) होने का अनुमान है, जो  2025 तक 2018 स्वास्थ्य बजट के छह गुना के मुकाबले 30 बिलियन डॉलर (1.95 लाख करोड़ रुपये) तक पहुंच जाएगा। इस व्यय को प्रबंधित करने के लिए नीति निर्माता क्या कदम उठा सकते हैं? क्या आप चिकित्सकीय दवाओं से उपचार के वैकल्पिक रूपों में एक कदम की कल्पना कर सकते हैं?

 

यह वास्तव में चौंकाने वाला लागत बोझ है। टाइप 2 मधुमेह का वर्तमान प्रबंधन, जो 90 फीसदी मधुमेह बनाता है और जीवनशैली से संबंधित है (जैसा टाइप 1 मधुमेह के विपरीत है), पूरी तरह उल्टा है। टाइप 2 मधुमेह, एक ऐसी स्थिति है जो मुख्य रूप से कार्बोहाइड्रेट को चयापचय करने के लिए शरीर के असहिष्णुता से संबंधित होती है और रक्त ग्लूकोज को नियंत्रित करने के लिए दवाओं के साथ इसका इलाज किया जाता है। यह न तो मूल कारण को संबोधित करता है और न ही दिल के दौरे से मृत्यु दर (स्थिति की सबसे डरावनी जटिलता) पर कोई असर पड़ता है।

 

अरबों रुपये अकेले दवा उपचार में जाते हैं, जो रोगी के परिणामों के लिए बड़े पैमाने पर अप्रभावी होता है, लेकिन साइड इफेक्ट्स के साथ आता है। उदाहरण के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में, अनुमान लगाया गया है कि आपातकालीन कक्ष में रोगियों के 100,000 दौरे मधुमेह दवा दुष्प्रभावों के प्रत्यक्ष परिणाम के रूप में हुए। मुझे लगता है कि भारत ये मामले बहुत अधिक होंगे।

 

हालांकि एक अच्छी खबर भी है, और मैंने इसे अपने कई मरीजों के साथ देखा है। आहार को बदलकर, विशेष रूप से स्टार्च कार्बोहाइड्रेट और चीनी कम करने से,  मरीजों में कुछ हफ्तों के भीतर दवा की आवश्यकता कम हो गई और कई मरीजों में तो वास्तव में टाइप 2 मधुमेह में सुधार देखा गया।

 

अप्रैल 2018 में, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (एमओएचएफडब्ल्यू) ने एक विवादास्पद इन्फोग्राफिक को ट्वीट किया, जो अंडा, मांस उत्पाद के बगैर एक स्वस्थ आहार में शाकाहारी भोजन को प्रेरित करता प्रतीत होता है। यह भारत में नीति निर्माताओं और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के बीच बातचीत के बारे में हमें क्या बताता है? जानकारियों की भ्रमित स्थिति को देखते हुए नागरिकों से जानकारी युक्त सही निर्णय लेने की उम्मीद कैसे की जा सकती है?

 

एमओएचएफडब्ल्यू द्वारा आहार सलाह को समझने के लिए हमें यह समझना होगा कि पोषण विज्ञान, दवाएं की तरह ही लगातार विकसित हो रही हैं। सबूत आधारित दवा आंदोलन के जनक स्वर्गीय प्रोफेसर डेविड सैकेट ने कहा था, “मेडिकल स्कूल में जो कुछ भी आप सीखते हैं, वह आपके स्नातक स्तर के 5 वर्षों के भीतर या तो गलत या पुराना हो जाएगा। मुसीबत यह है कि कोई भी आपको यह नहीं बता सकता कि आपको क्या आधा सीखना है ।”

 

एमओएचएफडब्ल्यू के इस सलाह में से कुछ संतृप्त वसा के पुराने डर पर आधारित होगी, जिससे कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से दिल की बीमारी हो सकती है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन के बीएमजे पेपर में इसे पूरी तरह से इसे उजागर किया गया है, जिसे पिछले साल प्रकाशित किया गया था और जिसका मैंने दो प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय हृदय रोग विशेषज्ञों के साथ सह-लेखन किया है।

 

अंडों के संबंध में, यह एक गलतफहमी के कारण होगा कि अंडे की जर्दी में जो कोलेस्ट्रॉल होता है वह रक्त कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। यह सच नहीं है। वास्तव में 2015 में अमेरिकी आहार दिशानिर्देशों ने कोलेस्ट्रॉल को पोषक तत्व के रूप में हटा दिया है।

 

अंत में, पैनल के भीतर से आए सलाह पर हितों के टकराव के संबंध में सवाल उठते हैं। ऐसा हो सकता है कि अधिकांश धार्मिक कारणों से शाकाहारी थे। हालांकि इसका सम्मान किया जाना चाहिए। मेरी मां भी शाकाहारी है। इसे मांस के बारे में अवैज्ञानिक दावों से भंग नहीं किया जाना चाहिए। वास्तव में, अंडे और गोश्त सबसे अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थ होते हैं, जिसे खाने से बिल्कुल कोई नुकसान नहीं होता है। दूसरी तरफ, रोटी और चावल जैसे शाकाहारी खाद्य पदार्थ जब अधिक मात्रा में खाया जाता है, विशेष रूप से चीनी के साथ मिलाकर तो यह पोषक रहित होता है और चयापचय रोग को बढ़ाता है।

 

इस तरह के स्वास्थ्य गलतफहमी के खिलाफ लड़ाई में हमारा सबसे बड़ा हथियार पारदर्शिता है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि इस तरह की सलाह बनाने वाले लोग पूरी तरह उत्तरदायी हों। इसमें यह सुनिश्चित करना शामिल है कि वे सबूत के साथ व्यवस्थित हों, लेकिन यह भी कि वे किसी भी प्रकार के हितों के टकराव से मुक्त हों।

 

सरकार ने 2020 तक आधे अरब लोगों को ‘मोदीकेयर’ नामक मुफ्त सार्वभौमिक स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने का वचन दिया है। यूके की राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रणाली (एनएचएस) जिस तरह वहां हृदय रोग, मधुमेह और मोटापे के संकट का प्रबंधन करती है, उन तरीकों से भारत क्या सीख सकता है?

 

यह एक अच्छी पहल है, लेकिन यूके से महत्वपूर्ण सबक सीखे जा सकते हैं। भारत को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनकी देखभाल का मॉडल बीमारी मॉडल नहीं है, जहां प्रणाली निदान और उपचार पर केंद्रित है, और रोकथाम और जीवनशैली रोगों में निवेश नहीं कर रही है।

 

एनएचएस को जीवनशैली के माध्यम से रोकथाम को पुराने तरीके बीमारी मॉडल से बदलने की जरूरत है। हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि जीवनशैली में बदलाव से जीवन की गुणवत्ता में तेजी से सुधार होता है, जो दिल की बीमारी, उच्च रक्तचाप और टाइप 2 मधुमेह जैसी स्थितियों के इलाज के लिए आधुनिक चिकित्सा नहीं कर सकती है।

 

आपने पहले कहा है, दवाओं के साथ जुड़े व्यावसायिक हित ने वसा की वृद्धि और गलत जानकारी फैलाने का नेतृत्व किया है, जिससे हाल के दशकों में टाइप 2 मधुमेह और संबंधित बीमारियों में तेजी से वृद्धि हुई है।  सरकार और संबंधित हितधारकों के चिकित्सा अनुसंधान और स्वास्थ्य देखभाल की पारदर्शिता में सुधार कैसे हो सकता है?

 

जब स्वास्थ्य सलाह निर्धारित करने के लिए चयनित और व्यावसायिक रूप से पक्षपातपूर्ण जानकारी का उपयोग किया जाता है तो इससे जनसंख्या के लिए खराब परिणाम आएंगे। यह टाइप 2 मधुमेह संकट की जड़ है। हमें सामूहिक रूप से स्वीकार करना है कि खाद्य उद्योग के पास अपने शेयरधारकों के लिए लाभ बनाने का भरोसेमंद दायित्व है, न कि आपके स्वास्थ्य की देखभाल का।

 

यह दवा उद्योग पर भी लागू होता है। असली घोटाला यह है कि मरीजों और उपचार के लिए जो जिम्मेदार हैं, वे अर्थात् अकादमिक संस्थान, डॉक्टर और चिकित्सा पत्रिकाएं वित्तीय लाभ के लिए उद्योग के साथ मिलकर काम करते हैं।

 

हमें अधिक पारदर्शी होना पड़ेगा।  यह सुनिश्चित करना पड़ेगा कि कुल डेटा का उपयोग करके सलाहें या सिफारिशें दी जाएं, न कि कुछ चुनिंदा डेटा, जो उद्योग के हितों के अनुरूप है। इसके अतिरिक्त, नियम बनाने वाले बहुत से पैनलों में व्यक्तिगत, वित्तीय या संस्थागत हितों के संघर्ष नहीं होने चाहिए।

 

आपने हाल ही में ‘पाइओपी’ आहार विकसित किया है ( पाइओपी के निवासियों की खाने की आदतों और जीवनशैली पर आधारित (दक्षिणी इटली का एक छोटा सा शहर जहां जीवन प्रत्याशा लगभग 90 वर्ष है) और इससे दिल के मरीजों और टाइप 2 मधुमेह में सुधार दिखा है। क्या आप हमें अपने मुख्य सिद्धांतों के बारे में और बता सकते हैं और क्या उन्हें भारत भर में आहार पर लागू किया जा सकता है?

 

वैश्विक संदर्भ में देखें तो कम पोषण वाला खाना बीमारी के लिए उतना जिम्मेदार नहीं है, जितना कि शारीरिक निष्क्रियता, धूम्रपान और अल्कोहल। ये तीन कारण बीमारी और उनसे जुड़ी मौतों को लिए ज्यादा जिम्मेदार हैं।  ‘पाइओपी आहार’ के भोजन और जीवनशैली योजना के सिद्धांत ‘हृदय रोग’ और ‘टाइप 2’ मधुमेह के मूल कारण पर आधारित हैं।

 

इन जोखिम कारकों से निपटने का सबसे प्रभावशाली तरीका सरल जीवनशैली में परिवर्तनों के माध्यम से है, जिसपर हमने किताब में विस्तार से लिखा है। एक आहार जो अति-संसाधित भोजन से मुक्त होता है और स्टार्च कार्बोहाइड्रेट में कम होता है, हर दिन मध्यम गतिविधि में संलग्न होता है। और भी कुछ बातें हैं, जैसे रोज तीस मिनट तेज गति से चलने और ध्यान के माध्यम से तनाव को कम करना और सामाजिक बातचीत के महत्व को समझना भी।

 

सामाजिक अलगाव और अकेलापन समयपूर्व मौत के लिए एक बड़ा जोखिम कारक है। इन संदेशों के लिए कोई बाजार नहीं है और यही कारण है कि ज्यादातर लोगों को यह नहीं पता कि वे क्या कर सकते हैं, उनके पास कौन सी ताकतें हैं। लेकिन ये उपाय हैं जो टाइप 2 मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और कैंसर और डिमेंशिया विकसित करने के जोखिम को कम करने के लिए महत्वपूर्ण रूप से प्रभावी हैं।

 

दवाओं के विपरीत, इससे अच्छा प्रभाव पड़ता है, कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होता और जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है। अगर हम पूरी आबादी में इन छोटी बातों को स्थापित कर पाएं तो हम अगले 5 वर्षों में भारत में टाइप 2 मधुमेह को ‘उलट’ सकते हैं।

 

मई 2018 में, लंदन के मेयर ने परिवहन नेटवर्क पर जंक फूड विज्ञापन पर प्रतिबंध लगाने के प्रस्ताव पेश किया। भारतीय टेलीविजन पर बच्चों को दिखाए गए विज्ञापन की संख्या को कम करने के लिए कदम उठाए गए हैं। मोटे तौर पर मोटापे के मामलों को रोकने या घटाने में इसका क्या असर होगा? क्या कोई और तत्काल कार्रवाई है, जो सरकारें कर सकती हैं, जो अधिक प्रभावी हों?

 

मैं व्यक्तिगत रूप से लंदन  के महापौर सादिक खान को जानता हूं, और उनका मेरे काम में बहुत सहयोग रहा है। उनके प्रस्ताव बिल्कुल सही हैं। जब मेडिकल रॉयल कॉलेजों की अकादमी, जो यूके में हर डॉक्टर का प्रतिनिधित्व करती है, ने मोटापे को रोकने के लिए 2012 में 10-चरणों की योजना दी थी,तो उसमें जंक फूड विज्ञापन पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव भी था। मैं स्टीयरिंग कमेटी में था । 10 में से छह सिफारिशें विशेष रूप से खाद्य पर्यावरण को लक्षित करती थीं। इस तरह के कदम से निश्चित रूप से भारत में असर पड़ेगा, जहां शर्करा पेय की खपत पुरानी बीमारी और दांत क्षय का एक प्रमुख कारक है।

 

हमने स्वास्थ्य पर पोषण के प्रभाव में स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के लिए अनिवार्य शिक्षा और प्रशिक्षण की भी सिफारिश की है। जनता डॉक्टरों को समझने की उम्मीद करेगी, और यह समझने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा कि भोजन के पैटर्न पुराने बीमारी को कैसे प्रभावित करते हैं ? मुझे याद नहीं कि मेडिकल स्कूल में इस पर एक व्याख्यान हुआ हो। इसे बदलना चाहिए।

 

मैनचेस्टर के महापौर, एंडी बर्नहम, जो स्वास्थ्य के राज्य के पूर्व सचिव थे, ने ‘पाइओपी आहार’ के समर्थन में कहा कि इसमें लाखों लोगों को स्वस्थ और खुशहाल बनाने की क्षमता है।

 

पिछले हफ्ते एंडी के समर्थन में, टेमसाइड (मैनचेस्टर का एक उपनगर) में एनएचएस की 70 वीं सालगिरह को यादगार बनाने के लिए 70 दिनों तक पाइओपी आहार का पालन करने के लिए प्रोत्साहित किया गया। इसके बाद स्थानीय अस्पतालों ने अस्पताल कैंटीन में शर्करा खाद्य पदार्थों और पेय की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया। यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि मैं टेमेसाइड में बड़ा हुआ और 2013 में यह मेरा आंदोलन था कि अस्पतालों को जंक फूड की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा जाए, जिसने इसे ब्रिटिश मेडिकल एसोसिएशन की नीति का हिस्सा बना दिया।

 

(संघेरा किंग्स कॉलेज लंदन से स्नातक हैं और इंडियास्पेंड के साथ इंटर्न हैं।)

 

यह साक्षात्कार मूलत: अंग्रेजी में 15 जुलाई 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code