Home » Cover Story » स्टंटिंग के कारण 66फीसदी भारतीय कमाते हैं कम

स्टंटिंग के कारण 66फीसदी भारतीय कमाते हैं कम

श्रेया रमन,
Views
1450

Woman Labourer_620

 

मुंबई: भारत में कामकाजी आबादी का लगभग दो तिहाई हिस्सा, बचपन के स्टंटिंग के कारण ( आयु के अनुसार कम कद ) 13 फीसदी कम कमा रहा है और यह प्रति व्यक्ति आय में दुनिया की सबसे ज्यादा कटौती है। यह जानकारी विश्व बैंक द्वारा जारी एक नई रिपोर्ट में सामने आई है।

 

स्टंटिंग के साथ बड़े होने वाले बच्चों को बाद में जीवन में प्रतिकूल परिणाम भुगतना पड़ सकता है। वे असमान्य मस्तिष्क के विकास से पीड़ित हो सकते हैं, जो कम संज्ञानात्मक और सामाजिक-भावनात्मक कौशल और शैक्षिक प्राप्ति के अवसरों में अक्सर पिछड़ जाते हैं।

 

इन कौशलों की कमी से 66 फीसदी श्रमिक अपनी क्षमता से कम कमाते हैं और दुनिया भर में इस तरह के उच्चतम अनुपात में से एक है, जैसा कि अगस्त 2018 में जारी विश्व बैंक की रिपोर्ट में बताया गया है।

 

दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में रहने वाले भारतीयों ने उप-सहारा अफ्रीकी देशों के लोगों की तुलना में अपनी आय का ज्यादा नुकसान देखा है। बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, स्टंटिंग का आर्थिक प्रभाव एशिया और अफ्रीका तक ही सीमित नहीं था, इसने लगभग सभी महाद्वीपों को अलग-अलग तरह से प्रभावित किया है।

 

दक्षिण एशिया के लिए औसत कमी 10 फीसदी थी, जबकि उत्तरी अमेरिका के लिए यह 2 फीसदी थी। 4 फीसदी की कमी के साथ मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका बेहतर हैं, जबकि यूरोप और मध्य एशिया में 5 फीसदी की कमी है।

 

बचपन की स्टंटिंग की कीमत

Source: The Aggregate Income Losses from Childhood Stunting and the Returns to a Nutrition Intervention Aimed at Reducing Stunting, August 2018

 

विश्लेषण किए गए 140 देशों में, केवल अफगानिस्तान (67 फीसदी) और बांग्लादेश (73 फीसदी) ने भारत के अनुपात (66 फीसदी) को पार किया है, जहां कर्मचारी बचपन में स्टंटिंग से ग्रसित थे।

 

बचपन के स्टंटिंग का सकल घरेलू उत्पाद पर प्रति व्यक्ति प्रभाव

World Bank Document-15

 

हालांकि, बचपन और कार्यबल में शामिल होने के बीच अंतर को देखते हुए, भारत की वर्तमान कामकाजी उम्र की आबादी में बचपन के स्टंटिंग का प्रतिशत, वर्तमान में स्टंट किए गए बच्चों के प्रतिशत को प्रतिबिंबित नहीं करता है।

 

पिछले 26 वर्षों से 2014 तक,  पांच वर्ष से कम उम्र के स्टंट भारतीय बच्चों का प्रतिशत 62.7 फीसदी से घटकर 38.7 फीसदी हो गया है, लेकिन अब भी तीन भारतीय बच्चों में से एक स्टंट है।

 

भारत में 5 वर्ष की आयु से कम में स्टंट बच्चे

 

स्टंटिंग महिलाओं, बच्चों के इलाज को दर्शाता है

 

भारत की तुलना में गरीब देशों ने स्टंटिंग को बेहतर तरीके से संभाला है। उदाहरण के लिए सेनेगल को लें। जिसका प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद भारत का आधा है। यह देश 19 वर्षों में  2012 तक अपने बच्चों में स्टंटिंग को आधा कम करने में सक्षम था।

 

विशेषज्ञों का कहना कि स्टंटिंग विभिन्न सामाजिक-आर्थिक निर्धारकों से प्रभावित होता है।

 

‘इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट’ के वरिष्ठ शोध फेलो पूर्णिमा मेनन कहती हैं, “भारत और उप-सहारा अफ्रीका के बीच अंतर के बारे में बहुत कुछ लिखा गया है। उप-सहारा अफ्रीका के कई हिस्सों में कई निर्धारकों, विशेष रूप से महिलाओं की स्थिति और स्वच्छता पर बहुत बेहतर काम किया गया है। यह सिर्फ आर्थिक विकास की स्थिति के बारे में नहीं है- यह इस बारे में है कि लड़कियां जो भविष्य की मां बन जाएंगी, उनके प्रति समाज संवेदनशील है। “

 

विभिन्न सामाजिक-आर्थिक स्थितियों के बावजूद, पोषण-विशिष्ट राष्ट्रीय कार्यक्रम स्टंटिंग से निपट सकता है।

 

मेनन कहती हैं, ” पेरु में स्टंटिंग में गिरावट स्वास्थ्य और पोषण हस्तक्षेप के साथ-साथ देश के सबसे गरीब हिस्सों में लक्षित सामाजिक-हस्तांतरण कार्यक्रमों के संयोजन के माध्यम से हुई। यह अन्य देशों में भी देखा गया है।”

 

विश्व बैंक की रिपोर्ट ने भी गणना की है ( मुख्य रूप से मातृ और नवजात स्वास्थ्य पर केंद्रित 10 हस्तक्षेपों का उपयोग करते हुए ) जो राष्ट्रीय पोषण पैकेज पर रिटर्न लागत से अधिक है।

 

एक राष्ट्रीय पोषण पैकेज का अनुमानित प्रभाव

Programme Benefits

Source: The Aggregate Income Losses from Childhood Stunting and the Returns to a Nutrition Intervention Aimed at Reducing Stunting, August 2018

 

बचपन के बीच अंतराल और कार्यबल में शामिल होने को ध्यान में रखते हुए, श्रमिकों के बीच स्टंटिंग दर पर पोषण कार्यक्रम के प्रभाव, कार्यान्वयन के 15 साल बाद दिखाना शुरू होता है, जैसा कि विश्व बैंक की रिपोर्ट कहती है।

 

प्रारंभिक 15 वर्षों के बाद, लागत स्थिर बनी हुई है, और कार्यक्रम के लाभों में वृद्धि जारी है क्योंकि अधिक श्रमिकों को लाभ मिलना शुरु होता है।

कार्यक्रम के लिए अनुमानित वापसी की औसत दर 17 फीसदी थी, लेकिन भारत के लिए रिटर्न का अनुमान 23 फीसदी था, लागत के अनुपात में 81 गुणा आर्थिक लाभ

 

क्षेत्र अनुसार वापसी की दर

World Bank Document-27

 

हालांकि यह एक कार्यक्रम उपयोगी है,  लेकिन यह पर्याप्त नहीं है।

 

मेनन कहती हैं, “भारत में स्टंटिंग पूर्ववर्ती सामाजिक असमानता (महिलाओं की स्थिति और स्वास्थ्य, घरेलू संपत्ति, सेवाओं तक पहुंच आदि) में हैं। इसलिए, पोषण रणनीति को इन पहलुओं पर भी पूरी तरह से ध्यान देना चाहिए, और ये नहीं मानना चाहिए कि स्वास्थ्य सेवाओं और आईसीडीएस (एकीकृत बाल विकास सेवाएं) और स्वच्छता हस्तक्षेप में व्यवहार परिवर्तन और सुधार पर केंद्रित सामाजिक आंदोलन यह सब कुछ करेगा।”

 

(श्रेया रमन डेटा विश्लेषक हैं और इंडियास्पेंड के साथ जुड़ी हैं। )

 

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 15 अगस्त, 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code