Home » Cover Story » स्मार्टफोन बदल रहा है छत्तीसगढ़ में महिलाओं की जिंदगी।

स्मार्टफोन बदल रहा है छत्तीसगढ़ में महिलाओं की जिंदगी।

सवान्ना नोरे,
Views
2029

Women_Smartphones_620
 

रिंगनी गांव, दुर्ग जिला (छत्तीसगढ़): छत्तीसगढ़ के एक सुदूर गांव में, 200 से अधिक महिलाएं सरकारी कार्यालय के बाहर खड़ी हैं। हर किसी के हाथ में एक-एक छोटी, नारंगी रंग की टिकट है। एक-एक कर वे कार्यालय के भीतर जाती हैं, और टिकट के बदले स्मार्टफोन प्राप्त कर रही हैं। हॉल के बाहर समूहों में स्मार्ट फोन को लेकर जबरदस्त उत्साह है।

 

यह दृश्य इस इलाके के लिए नया नहीं था। सितंबर 2018 से छत्तीसगढ़ में, राज्य सरकार प्रत्येक ग्रामीण परिवार में एक महिला को एक स्मार्टफोन दे रही थी। संचार क्रांति योजना (एसकेवाई), या दूरसंचार क्रांति योजना के तरह सितंबर के अंत तक 2.3 मिलियन ग्रामीण महिलाओं को शामिल किया गया है। एसकेवाई ने 300,000 कॉलेज के छात्रों और 350,000 शहरी महिलाओं को स्मार्टफोन भी दिए – और 1,500 टावरों के निर्माण से नेटवर्क कवरेज में वृद्धि होगी, इस प्रकार लाभार्थियों से परे और भी अधिक फोन के उपयोग और स्वामित्व को प्रोत्साहित किया जाएगा। एसकेवाई कार्यक्रम के पीछे मुख्य उद्देश्य छत्तीसगढ़ में फोन स्वामित्व को बढ़ाना और प्रक्रिया में महिलाओं को सशक्त बनाना है। नीचे गर्मी के नक्शे से स्पष्ट रूप से पता चलता है कि, छत्तीसगढ़ में भारत की चौथी सबसे कम मोबाइल फोन स्वामित्व दर( 45.6 फीसदी ) है, जो कुल औसत से पांच प्रतिशत कम है।

 

भारत भर में फोन स्वामित्व

Source: Financial Inclusion Insights, 2015-2016. Estimates pool years.

 

इसके साथ ही, फोन स्वामित्व में छत्तीसगढ़ का लिंग अंतर 14.3 प्रतिशत अंक है, जो भारत में सबसे कम है। यहां 52 फीसदी पुरुषों के पास फोन का स्वामित्व है, जबकि महिलाओं के लिए यह आंकड़े 38 फीसदी हैं। 32.7 प्रतिशत अंक पर, भारत का कुल औसत अंतर दो गुना से अधिक है। फिर भी स्वामित्व में अपेक्षाकृत कम लिंग अंतर का मतलब यह नहीं है कि अंतराल समय के साथ नहीं बढ़ेगा – उच्च पुरुष फोन स्वामित्व वाले कई राज्यों में भी बड़े लिंग अंतर होते हैं। इस तरह, एसकेवाई कार्यक्रम एक समय पर मोबाइल के मामले में लिंग अंतर को कम करता है। (अंतराल के कारणों और प्रभावों के बारे में अधिक जानकारी के लिए, हमारी टीम द्वारा एक नई रिपोर्ट देखें, जो रोहिणी पांडे और हार्वर्ड केनेडी स्कूल में एविडेंस फॉर पॉलिसी डिजाइन, इरिका फिल्ड ऑफ ड्यूक युनिवर्सिटी, सिमोन शैनर ऑफ युनिवर्सिटी ऑफ साउदर्न कैलिफोर्निया के चैरिटी ट्रॉयर मूर के नेतृत्व में किया गया है। )

 
मोबाइल फोन के लाभ
 

 महिलाओं को मोबाइल के साथ जोड़ने से परे भी एसकेवाई की इस योजना का प्रभाव है। पर्याप्त अनुसंधान पहले से ही दिखाता है कि मोबाइल फोन आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करते हैं। फ़ोन उत्पादकों और उपभोक्ताओं को बाजार वस्तुओं के लिए सबसे अच्छी कीमत तक पहुंचने और नौकरी के अवसरों के बारे में जानने में मदद करते हैं। केन्या में, मोबाइल मनी ने आर्थिक झटके के लिए घरेलू संवेदनशीलता को कम कर दिया है। एसएमएस और वॉइस कॉल के माध्यम से “व्यवहारिक संदेश” ने वित्त, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे क्षेत्र में कार्यशैली में सुधार किया है। कुछ अध्ययन महिलाओं के मोबाइल फोन के उपयोग, अपने और दूसरों, दोनों के मूल्य को उजागर करते हैं।  एक अध्ययन में पाया गया कि केन्या के मोबाइल मनी प्लेटफार्म एम-पीईएसए ने केन्या के 2 फीसदी परिवारों को गरीबी से बाहर किया है। खपत में वृद्धि महिलाओं के नेतृत्व वाले परिवारों में केंद्रित थी, जो बताती है कि महिलाओं को मोबाइल मनी से ज्यादा फायदा हुआ है। नाइजर के एक अध्ययन में पाया गया कि जब महिलाओं ने नकदी के बजाय मोबाइल मनी एप्लिकेशन के माध्यम से पैसे ट्रांसफर किया तो घरेलू आहार विविधता में सुधार हुआ, जो घर के भीतर महिलाओं की बढ़ती शक्ति का परिणाम है।  यह परिणाम, वर्तमान शोध में व्यापक रुप से गूंजता है। संपत्तियों के साथ महिलाओं को सशक्त बनाना आर्थिक विकास के लिए मूल्यवान है। अध्ययनों से पता चलता है कि जब महिलाओं की संसाधनों तक पहुंच होती है, तो वे बच्चों के लिए उनका उपयोग करती हैं। उदाहरण के लिए, दक्षिण अफ्रीका में महिला-संचालित परिवारों के बीच पेंशन लाभों तक अधिक पहुंच ने लड़कियों के लिए पोषण में सुधार किया। ब्राजील में घरों के बीच समान पैटर्न हैं, जहां अध्ययन से पता चलता है कि महिलाओं की उच्च आय से बच्चे के जीवित रहने, लड़कियों में उच्च पोषण निवेश और मानव पूंजी और अवकाश में बड़े सापेक्ष निवेश की संभावना अधिक होती है।

 

इसी प्रकार, हम उम्मीद कर सकते हैं कि महिलाएं अपने बच्चों के जीवन को किसी भी तरह से सुधारने के लिए अपने एसकेवाई फोन का उपयोग करेंगी। जबकि प्रौद्योगिकी के साथ महिलाओं को सशक्त बनाना, उन्हें उनके अधिकारों तक पहुंचाना है। यह आगे पुरुषों की बजाय महिला लाभार्थियों को लक्षित करने वाले एसकेवाई के मूल्य पर प्रकाश डालता है।

 
पुरुषों का प्रभुत्व एक समस्या

 

महिला लाभार्थियों के एसकेवाई के लक्ष्यीकरण की सफलता एक चेतावनी के साथ आता है: स्थानान्तरण केवल तभी प्रभावी है जब लाभार्थी उन्हें उपयोगी और प्रासंगिक मानते हैं। प्रधान मंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई), के साथ हालिया अनुभव, यह दर्शाता है।

 
पीएमजेडीवाई का इरादा हर घर में कम से कम एक सदस्य के लिए बैंक खाता खोलना था।
 
फिर भी पीएमजेडीवाई अकेले पूर्ण वित्तीय समावेश प्राप्त करने के लिए पर्याप्त नहीं था, क्योंकि खोले जाने के बाद कई खाते निष्क्रिय रहे। अर्थव्यवस्था के इस योजना के डाउनस्ट्रीम प्रभावों को देखने के लिए, लाभार्थियों को यह समझने की आवश्यकता है कि उनके लिए बैंक खाता क्या कर सकता है और इसका उपयोग कैसे किया जा सकता है। दूसरे शब्दों में, वित्तीय समावेशन को मापने के लिए प्रासंगिक मीट्रिक खाता वाले लोगों की संख्या में नहीं बल्कि खातों का उपयोग करने वाले लोगों की संख्या में है।
 
इसी तरह, यदि एसकेवाई लाभार्थियों को फोन उपयोगी नहीं लगता है या उन्हें उपयोग करने के लिए कौशल प्राप्त नहीं होता है, तो यह पहल मोबाइल फोन लिंग अंतर को कम करने में विफल रहेगी और महिलाएं इन लाभों का लाभ नहीं उठाएंगी। यह मुद्दा इस तथ्य से और जटिल है कि बैंक खातों के विपरीत, फोन आसानी से स्थानांतरित किए जा सकते हैं, और पुरुष अक्सर दक्षिण एशियाई संस्कृतियों में घरों के भीतर परिसंपत्ति स्वामित्व को नियंत्रित करते हैं।
 

 इस प्रकार, यहां तक ​​कि यदि कोई महिला अपने नए फोन को उपयोगी के रूप में देखती है और  अगर उसे पता नहीं है कि इसका उपयोग कैसे किया जाए, तो उसका पति तकनीकी जानकारी पर अपने एकाधिकार का उपयोग कर सकता है कि इसका कैसे उपयोग करें। यह एसकेवाई कार्यक्रम में डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण के संभावित अतिरिक्त मूल्य को रेखांकित करता है और अधिक व्यापक रूप से, गरीबों को इस तरह के सामान देने वाले कार्यक्रमों के साथ प्रशिक्षण प्रदान करने के महत्व पर भी प्रकाश डालता है।

 
( सवन्ना नोरे हार्वर्ड केनेडी स्कूल में ‘एविडेंस फॉर पॉलिसी डिजाइन’ में फेलो हैं। )
 
यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 25 अक्टूबर 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code