Home » Cover Story » सूखा प्रभावित गुजरात में फैक्ट्रियों के लिए पानी है, लेकिन किसानों के लिए नहीं!

सूखा प्रभावित गुजरात में फैक्ट्रियों के लिए पानी है, लेकिन किसानों के लिए नहीं!

अवंतिका मेहता,
Views
3571

Kutch Farm_620
 

( उत्तरी गुजरात के कच्छ में एक सूखा हुआ खेत। जिले में लगातार तीन साल सूखा पड़ा है।  नर्मदा घाटी परियोजना का पानी उद्योगों और शहरों तक जाता है। किसानों का कहना है कि जिले की 75 फीसदी आबादी शहरों की ओर जाने के लिए मजबूर हो गई है, क्योंकि यहां कोई काम नहीं है। ) 

 

अहमदाबाद और कच्छ: भवानीभाई पटेल अपने सूखे हुए खेत को देख रहे थे। 65 वर्षीय भवानीभाई किसान हैं और दक्षिणी कच्छ के लखपत तालुका के दयापुर गांव में रहते हैं, जो 2003 के बाद से अनियमित वर्षा का सामना कर रहा है। चारों ओर सूखे खेतों के बीच उनके कुछ हेक्टर हरे और चमकीले खेत हैं। फरवरी के शुरुआत में उन्होंने इंडियास्पेंड के साथ बात करते हुए कहा था कि, “बाकी सारे खेत मेरे परिवार का है, लेकिन अब 10 भाइयों में से केवल मैं यहां बचा हूं। बाकी सभी लोग चले गए हैं।”कच्छ के 10 तालुकाओं में से एक है लखपत, जो भारत के सबसे बड़े जिले में सबसे कम आबादी वाला तालुका है। यह 45,674 वर्ग किमी में फैला है, जो गुजरात के 22 फीसदी (196,024 वर्ग किमी) को कवर करता है। जैसा कि पटेल बताते हैं, लखपत निवासी इसलिए इस जगह छोड़ रहें हैं कि “यहां जीने का कोई साधन नहीं रह गया है। मेरी बस्ती में कभी 20,000 लोग रहते थे जो अब घट कर 1,500 हो गए हैं।

 

छह घंटे काम करने के बाद, थके हुए पटेल बताते हैं, “लखपत जैसी जगहों पर पानी नहीं है। जमीन के अंदर भी पानी भी नहीं बचा है, जिसे हम बाहर खींच कर खेती कर सकें।” दयापुर नर्मदा मुख्य नहर से 520 किमी दूर है, लेकिन इसकी आधारशिला रखे जाने के बाद से 71 वर्षों में नहर से कोई पानी नहीं मिला है, जबकि नर्मदा नदी के पानी को राज्य के सूखे कच्छ, सौराष्ट्र और उत्तर गुजरात क्षेत्रों में लाने का वादा किया गया था। पहले से ही सूखे के वर्षों का सामना कर रहे, इन क्षेत्रों में 2019 में अब तक कोई बारिश नहीं हुई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दर्ज किया कि कच्छ में सामान्य जलवायु परिस्थितियां 99 फीसदी खत्म हो गई हैं, जबकि अन्य क्षेत्रों में वर्षा की कमी 100 फीसदी है। सूखे पर हमारी श्रृंखला की यह तीसरी रिपोर्ट है, जो सूखा भारत के 40 फीसदी से अधिक भूमि क्षेत्र को प्रभावित कर रहा है। यह रिपोर्ट गुजरात के सबसे ज्यादा प्रभावित कच्छ क्षेत्र की स्थिति की पड़ताल करती है, जहां एक ओर खराब वर्षा और बढ़ते तापमान ने एक तरफ तो खेतों के लिए पानी को दुर्लभ बना दिया है, वहीं दूसरी ओर शहरों और उद्योगों के लिए भी जल को लेकर चुनौती बढ़ी है, यह नर्मदा घाटी परियोजना के उदेश्य पर पर बड़ा सवाल है, जो  71 साल से अधूरी है।

 

पिछली रिपोर्ट्स को आप यहां और यहां पढ़ा सकते हैं।

 

किए गए वादे और सच
 

1946 में जब नर्मदा घाटी परियोजना की परिकल्पना की गई थी तो सरकार की योजना सरदार सरोवर और नर्मदा सागर बांधों के निर्माण और 3,000 से अधिक छोटे बांधों और नहरों के माध्यम से सिंचाई और जल विद्युत के लिए पानी की व्यवस्था करने की थी। पहली योजना ने प्रस्ताव दिया कि सरदार सरोवर बांध दो चरणों, 160 फीट और 300 फीट में बनाया जाएगा, जिसे बाद में बढ़ाकर 320 फीट कर दिया गया था – जो पानी को कच्छ और सौराष्ट्र क्षेत्रों तक पहुंचने के लिए आवश्यक माना जाता था।

 

नर्मदा बेसिन के राज्यों ( गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और राजस्थान ) के बीच पानी के बंटवारे को लेकर विभिन्न विवादों के बाद, केंद्र सरकार ने इस मामले को निपटाने के लिए 6 अक्टूबर, 1969 को नर्मदा जल विवाद न्यायाधिकरण (एनडब्ल्यूडीटी) का गठन किया था। दस साल बाद, 7 दिसंबर, 1979 को एनडब्ल्यूडीटी ने निर्धारित किया कि 28 मिलियन एकड़ फीट (एमएएफ) या 34,537.7 मिलियन क्यूबिक मीटर (एमसीएम) ( प्रति दिन 94,623 मिलियन लीटर  के बराबर ) उस समय पानी की उपयोग करने योग्य मात्रा थी, और 9 (एमएएफ)  (11,101.4 एमसीएम) या कुल जल आवंटन का 32.14फीसदी गुजरात को 30,414.62 मिलियन लीटर  पर दिया गया।  मध्य प्रदेश को 65.17 फीसदी, राजस्थान को1.8 फीसदी और महाराष्ट्र को 0.89 फीसदी पानी मिलेगा।

 

एनडब्ल्यूडीटी ने राज्यों के बीच बिजली आवंटन को भी निर्धारित किया। अवार्ड के क्लॉज VIII में, न्यायाधिकरण ने मध्य प्रदेश को 57 फीसदी बिजली और गुजरात को 16 फीसदी आवंटित किया। कम बिजली आवंटन गुजरात को व्यापक सिंचाई लाभों को संतुलित करने के लिए था।

 

अब तक, केवल 36 फीसदी परियोजना पूरी हुई है, जो मध्य गुजरात के केवल कुछ हिस्सों को कवर करती है, जिसमें अहमदाबाद और खेड़ा जैसे अधिक शहरी जिले शामिल हैं।

 

 गुजरात सरकार ने यह भी प्रावधान किया कि कुल आवंटित पानी का केवल 11 फीसदी, यानी 3,582.17 एमएलडी (1.06 एमएएफ या 1,307.5 एमसीएम) का उपयोग राज्य के 135 शहरी केंद्रों और 9,633 गांवों में पीने के पानी और औद्योगिक उपयोग के लिए किया जाएगा, जिसमें कच्छ, उत्तरी गुजरात और सौराष्ट्र क्षेत्रों में गांव शामिल हैं।

 

एनडब्ल्यूडीटी के आदेशों को लागू करने के लिए 1980 में स्थापित किए गए नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण की वार्षिक रिपोर्टों के अनुसार, हालाँकि, 2013 और 2016 के बीच, गुजरात ने गैर-कृषि उपयोग के लिए 11 फीसदी से अधिक पानी का उपयोग किया है। 2016 तक, राज्य औद्योगिक और घरेलू उपयोग के लिए पानी उपलब्ध कराने के लिए अपने आवंटन का 18 फीसदी से अधिक का उपयोग कर रहा था।

 

2013-2016 में गुजरात में नर्मदा जल का उपयोग

Use Of Narmada Water In Gujarat, 2013-2016
Year Water Withdrawn Water Used For Non-Agricultural Sources Water Used For Non-Agricultural Purposes (In %)
2013-2014 8168.82 1862.44 22.80%
2014-2015 10418.9 1395.92 13.40%
2015-2016 9375 1093.58 11.70%

Source: Narmada Control Authority, Annual Reports, 2013-2016
Note: Figures in million cubic metre

 

कच्छ, साथ ही सौराष्ट्र, बारिश पर निर्भर रहता है। 2017 के बाद से इस इलाके में बारिश इतनी अपर्याप्त थी कि गुजरात सूखे की चपेट में है। 2018 में, गुजरात में वर्षा की कुल कमी 19 फीसदी, जबकि कच्छ क्षेत्र में 75 फीसदी देखी गई। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की 2015 की संकट प्रबंधन रिपोर्ट के अनुसार, कच्छ ने 2011-2012 और 2014-2015 में सूखा घोषित किया था।  हालांकि 1901 के बाद से 2018 को सबसे खराब मॉनसून सीजन घोषित किया गया था। बारिश के मौसम बीतने के तीन महीने बाद तक गुजरात ने जोर देकर कहा कि यह सूखाग्रस्त नहीं था। सूखे के स्थिति को ‘पानी की कमी’ बताने के महीनों बाद, राज्य सरकार ने 17 दिसंबर, 2018 को एक प्रेस कांफ्रेंस में 16 जिलों में 51 तालुकाओं में सूखे की घोषणा की। राज्य के राजस्व विभाग ने सूखा घोषित करने के ढ़ाई महीने बाद ये घोषणा की गई और बताया कि कच्छ के 10 तालुकाओं में से पांच में, जिनमें लखपत भी शामिल है, को ‘गंभीर सूखा’ के रूप में मूल्यांकन किया गया था।

 

13 दिसंबर, 2018 को जारी राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) की रिपोर्ट के अनुसार, सूखे की मार झेल रहे गुजरात के 401 गांवों में से 50 फीसदी या अधिक फसलों के नुकसान वाले गांवों की अधिकतम संख्या कच्छ जिले में है।

 

वर्ष 2019 में वर्षा की कमी जारी है। ग्रामीण जीवित रहने के लिए शहरों की ओर जा रहे हैं, जबकि किसान और एक्टिविस्ट सवाल पूछना शुरू कर रहे हैं।

 

यह 2014 और 2018 के बीच सूचना के अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के तहत एक्टिविस्ट सागर रबारी द्वारा दायर किए गए ऐसे ही एक सवाल के जवाब में कहा गया था कि राज्य सरकार ने माना है कि मुंद्रा और कच्छ में उद्योगों को नर्मदा घाटी परियोजना से 25 मिली लीटर पानी मिलता है। और अहमदाबाद और गांधीनगर शहरों को पीने का पानी 75 एमएल मिला –  किसान और एक्टिविस्ट भारत झाला द्वारा गणना की गई कि यह एक दिन में 22,502 हेक्टेयर खेत की सिंचाई करेगा, जो आकार में चंडीगढ़ से लगभग दोगुना है।  जबकि पानी की मात्रा राज्य सरकार द्वारा निर्धारित 11फीसदी की सीमा के भीतर है। इस समय के दौरान कच्छ के लिए कृषि प्रयोजनों के लिए परियोजना का कोई पानी नहीं छोड़ा गया था, जो कि परियोजना का मूल उद्देश्य था। रबारी ने चार राज्यों के बीच पानी के आवंटन पर एनड्ब्ल्यूडीटी के 1979 अवार्ड का उल्लेख करते हुए इंडियास्पेंड को बताया, “अहमदाबाद नर्मदा मुख्य परियोजना का हिस्सा नहीं है।”  लखपत तालुका, जहां पटेल रहते हैं, परियोजना के कमांड एरिया का हिस्सा नहीं है। यह बात सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड के अध्यक्ष, एसएस राठौर, जो सिंचाई और बिजली परियोजना का संचालन करते हैं, ने इंडियास्पेंड को बताई। एक्टिविस्ट कहते हैं कि लखपत को परियोजना से कभी पानी नहीं मिल सकता है। हालांकि, वे जोर देकर कहते हैं कि तालुका और कई अन्य गांव शुरू में परियोजना के “कमांड एरिया” का हिस्सा थे, लेकिन कई संशोधनों के बाद हटा दिए गए हैं जो वर्तमान में एसएसएनएनएल की वेबसाइट पर उपलब्ध अपडेटेड कमांड एरिया मैप में परिलक्षित नहीं होते हैं।

 

Source: Sardar Sarovar Narmada Nigam Limited

 

पर्यावरण एक्टिविस्ट रोहित प्रजापति ने इंडियास्पेंड को बताया, “परियोजना के कमांड क्षेत्र के संशोधन तदर्थ हैं और व्यवस्थित नहीं हैं। अगर कोई व्यक्ति इसे सरकार के साथ लाता है या अगर किसी शहर के पास उद्योग चल रहे हैं, तो सरकार कमांड क्षेत्र को संशोधित करेगी, यह कहते हुए कि लोगों के लिए पीने का पानी लाना है।”

 

“संशोधन में किसानों और गुजरात के लोगों के बारे में खुलासा नहीं किया गया है जैसा कि उन्हें होना चाहिए”, प्रजापति बताते हैं, “आज पानी का संकट है, इसलिए संशोधन की बात आ रही है, अन्यथा यह भी पता नहीं चलता।”

 

1985 के बाद से सबसे खराब सूखा, फिर भी कच्छ के खेतों के लिए पानी नहीं
 

कच्छ में कृषि और पशुपालन प्रमुख आर्थिक गतिविधियां हैं। लगभग 72 फीसदी भूमि जोत पटेल जैसे छोटे और सीमांत किसानों के पास है।

 

तीन दशकों के अथक जल निकासी ने किसानों को कम भूजल के साथ छोड़ दिया है और कच्छ, एक सूखा क्षेत्र, के पास कोई अन्य प्राकृतिक जल स्रोत नहीं है। पटेल ने समझाते हुए बताया कि, “इससे पहले, कम से कम हमारे पास कुछ भूजल था, हालांकि हमें इसके लिए गहरा बोर करना पड़ा था। अब, वह इस कदर सूख गया है कि बोरिंग द्वारा हमें जो पानी मिलता है, उससे खेती नहीं हो सकती है।”

 
उनके जैसे किसान सवाल कर रहे हैं कि शहरों और कारखानों और खेतों को पानी क्यों नहीं मिल रहा है।
 

कच्छ और सौराष्ट्र क्षेत्रों के उद्योग 675.88 एणएलडी (0.2 एमएएफ) के आवंटन के खिलाफ 844.85 एमएलडी (0.25 एमएएफ) पानी की मात्रा ले रहे हैं। इन क्षेत्रों में स्थापित सभी उद्योग सरदार सरोवर बांध को पानी की आपूर्ति के मुख्य स्रोत के रूप में दिखाते हैं, जबकि खेत सूखे रहते हैं।

 

पटेल ने इंडियास्पेंड से बात करते हुए बताया, “उद्योग और कारखानों को पानी मिलता है। मुंद्रा, मांडवी … जहां कारखाने हैं, वहां पानी है। एक पाइपलाइन है, लेकिन किसानों के लिए, कभी पानी नहीं है। सरकार इसे देना नहीं चाहती है। ”

 

अब कच्छ में सूखे की स्थिति के साथ, जिसे कच्छ के जिला कलेक्टर रेम्या मोहन द्वारा “गुजरात में 1985 के सूखे के बाद से संभवतः सबसे खराब सूखे के रूप घोषित किया जाना चाहिए , एक्टिविस्ट का कहना है कि राज्य सरकार को जवाब देना चाहिए कि मुख्य रूप से सिंचाई प्रदान करने के लिए एक कल्पना की गई परियोजना, कारखानों और शहरों की सेवा क्यों कर रहा है। कच्छ ने पिछले 15 वर्षों में रिकॉर्ड गर्मलहरें देखी है। 2016 में, तापमान 50 डिग्री सेल्सियस (ओसी) तक पहुंच गया,  जो 100 वर्षों में सबसे अधिक है।

 

वहीं, बारिश लगातार अनियमित होती जा रही है। “वनों की कटाई और औद्योगीकरण के कारण पूरे मध्य भारत में मानसून पैटर्न बदल गया है। मानसूनी हवाएं पूर्व की ओर पश्चिमी घाट सह्याद्री रेंज में स्थानांतरित हो गई हैं। इसने महाराष्ट्र और गुजरात दोनों को बुरी तरह प्रभावित किया है, ”जैसा कि नासिक के केटीएचएम कॉलेज में कार्यरत, भौतिक विज्ञानी और मौसम विज्ञानी किरण कुमार जौहरी ने  इंडियास्पेंड को बताया है।

 

गुजरात में जिला-वार वर्षा, मार्च 1-अप्रैल 14, 2019

Source: India Meteorological Department, April 2019

 

स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर के आंकड़ों के अनुसार, 2018 में कच्छ को अपनी वार्षिक औसत वर्षा का केवल 25 फीसदी प्राप्त हुआ है। आईएमडी के अनुसार, कच्छ में 2017 में औसतन वर्षा में 56.58 फीसदी की कमी थी। वर्ष भर में वर्षा छिटपुट और असमान थी।  जून और जुलाई के दौरान, जो खरीफ (मानसून) फसलों के लिए पीक बुवाई का मौसम, कच्छ में क्रमशः 58.9 मिमी और 295.4 मिमी बारिश हुई। प्रति दिन केवल 5.9 मिमी वर्षा या क्षेत्र की संपूर्ण गर्मियों की वर्षा का 65 फीसदी।  जिले ने 2012-13 और 2015-16 में सूखा घोषित किया। ऐतिहासिक रूप से, कच्छ में ढाई साल की सूखा-आवृत्ति है। इस साल अप्रैल की शुरुआत में, जिले के शहरों में पारा बढ़ गया है। जिला मुख्यालय भुज में, 3 अप्रैल को 42oC तक के तापमान के साथ बेहद गर्म लहरें महसूस की गई हैं।

 

Source: India Meteorological Department, CRIS Hydronet Division

 

2003 के बाद से, जब वर्षा में एक अनियमिता थी, लखपत तालुका में अनिश्चित वर्षा हुई। बदलते बारिश के पैटर्न किसानों के लिए नुकसान का कारण बन रहे हैं। मानसून के आगमन में जून से जुलाई तक की देरी हो रही है, और हाल के वर्षों में चोटी की बारिश सितंबर में बारिश के मौसम के अंत में हो रही है। जून और जुलाई के महीनों के दौरान गर्मियों की फसलों की बुवाई करने वाले किसानों के लिए, बारिश के बदलते पैटर्न का मतलब है फसल का नुकसान और बढ़ता कर्ज।

 

जिस गति से मानसून के पैटर्न बदल रहे हैं उसे नीचे के ग्राफ में देखा जा सकता है। यह ध्यान देने योग्य है कि लखपत तालुका ने अगस्त 2011 (177.079 मिमी) में अच्छी बारिश देखी, जबकि अगस्त 2018 में 58.57 फीसदी की कमी थी और जून 2018 में, लखपत में 49 फीसदी बारिश की कमी थी।

 

गुजरात के कच्छ के लखपत में वर्षा पैटर्न, 1979-2018

Source: NOAH water mapping tool

 

लखपत की बात करें तो, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सदस्य, जो 20 साल के लिए आरएसएस से जुड़े किसान संघ, भारतीय किसान संघ के अध्यक्ष के रूप में कार्य करते थे, पटेल बताते हैं, लखपत तालुका के किसानों को पर्याप्त पानी उपलब्ध कराना भारत के लिए महत्वपूर्ण है। “लखपत और रापर पाकिस्तान के सीमावर्ती शहर हैं। उनका  कहना है कि,“अगर वे जल्दी से पानी प्राप्त करते हैं, तो इन राष्ट्रों को भारतीयों के साथ आबाद रखना राष्ट्र के हित में है। स्थानीय किसानों के लिए जीवन यापन करना संभव हो जाएगा। ”

 
लेकिन अब सालों से, किसानों को छोड़ दिया गया है, और उद्योग उनकी जगह ले रहे हैं।
 

 लखपत तालुका में भारत के सबसे बड़े संघी सीमेंट सहित तीन सीमेंट कारखाने हैं। दो पावर प्लांट ( एक अडानी समूह के स्वामित्व वाले और दूसरे टाटा पावर द्वारा ) मुंद्रा के नजदीकी जिले में स्थापित किए गए हैं।

 

राज्य के स्वामित्व वाली ‘गुजरात वाटर इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड’ (GWIL) का गठन एक विशेष उद्देश्य वाहन (एसपीवी) के रूप में किया गया था, जिसका मिशन गुजरात को पीने का पानी उपलब्ध कराना है। क्योंकि यह एक एसपीवी है, यह आरटीआई अधिनियम के तहत नहीं आता है, रबारी ने इंडियास्पेंड को बताया, लेकिन उन्होंने पाया कि एसएसएनएनएल जीडब्ल्यूआईएल को पानी की आपूर्ति करता है, जो तब पीने और औद्योगिक पानी दोनों को वितरित करता है, जो केवल पीने के पानी की आपूर्ति करने के लिए अपने जनादेश के विपरीत है। रबारी ने आरोप लगाया, “यह एक बड़ा खेल है जिसे सरकार ने किसानों के साथ खेला है।”

 

परियोजना में देरी और वित्तीय अनियमितताएं कच्छ को सूखा रखती हैं
 

नर्मदा घाटी परियोजना में 74,000 किलोमीटर लंबी नहर नेटवर्क के माध्यम से 1.79 मिलियन हेक्टेयर को सिंचित करने का लक्ष्य था। हालांकि, ट्रिब्यूनल अवार्ड के 40 साल बाद, नेटवर्क का केवल 36 फीसदी ( 27,189 किमी ) का निर्माण किया गया है। यहां तक ​​कि बांध की ऊंचाई 138 मीटर होने के कारण, पानी के भंडार को अधिकतम करके, 2017-18 में, गुजरात केवल 628,000 हेक्टेयर में सिंचाई के लिए पानी की आपूर्ति कर सका – इसके लक्ष्य से आधे से भी कम।

 

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने परियोजना में देरी के लिए विपक्षी कांग्रेस पार्टी को दोषी ठहराया।

 

रबारी ने इशारा किया, हालांकि रुपाणी की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गुजरात में 20 वर्षों से सत्ता में है- “परियोजना क्षेत्र का पूरा ड्राइंग और योजनाओं और आवंटन जमीन पर किया गया था। यहां तक ​​कि किसानों को पता था कि किस खेत में पानी मिलेगा और कौन सा नहीं। इतना ज्ञान था। तो क्या हुआ? ”  1961 में शुरू की गई, नर्मदा घाटी परियोजना का उद्देश्य 30 प्रमुख, 136 मध्यम और 3,000 छोटे बांधों के साथ नर्मदा के पानी की कटाई करना था, वर्तमान में गुजरात में सरदार सरोवर और मध्य प्रदेश में नर्मदा सागर हैं।  परियोजना का मुख्य लाभ गुजरात की 1.79 मिलियन हेक्टेयर भूमि को सिंचाई प्रदान करना था, जो 14 जिलों में 62 तालुका के 3,360 गांवों को कवर करते हैं।

 

56,000 करोड़ रुपये की सरदार सरोवर परियोजना (2017 के आंकड़े) गुजरात में स्थानीय लोगों और एक्टिविस्ट के कड़े विरोध के साथ मिली, जिसे सरकार ने उत्तर गुजरात, कच्छ और सौराष्ट्र क्षेत्रों के पराग वाले खेतों में पानी और समृद्धि लाने के लिए 1994 में नर्मदा बचाओ आंदोलन (एनबीए) द्वारा दायर एक रिट याचिका में सर्वोच्च न्यायालय में बहस करके काउंटर किया। विश्व बैंक ने मार्च 1993 तक परियोजना को वित्त पोषित किया। बाद में एनबीए के संस्थापक सदस्यों में से एक और कार्यकर्ता मेधा पाटकर द्वारा इसकी पर्यावरण और मानव लागतों के बारे में चिंता जताने के बाद अपना ऋण रद्द कर दिया। यह मामला 1994 में अदालत में चला गया, और 2000 और 2005 में दो आदेशों द्वारा सर्वोच्च न्यायालय ने सरदार सरोवर बांध को विस्थापितों के पुनर्वास सहित शर्तों के अधीन निर्माण की अनुमति दी।

 

सरदार सरोवर बांध का उद्घाटन 17 सितंबर, 2017 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था। बांध से पानी ले जाने के लिए मुख्य नर्मदा नहर की गुजरात भर में 42 शाखाएं हैं, लेकिन पानी को कच्छ, सौराष्ट्र या उत्तर गुजरात तक ले जाने के लिए शाखाओं का किया गया निर्माण अधूरा है।

 

8 सितंबर, 2018 को, रूपानी ने सौराष्ट्र नर्मदा अवतरण सिंचाई (एसएयूएनआई) योजना लिंक -4 की आधारशिला रखी, जिसमें नर्मदा के पानी से नौ बाँधों को भरने और सौराष्ट्र को सिंचाई का पानी उपलब्ध कराने की उम्मीद है। कच्छ के भीतर, कच्छ शाखा नहर के लिए 59,934 हेक्टेयर क्षेत्र को अलग रखा गया है, लेकिन पानी पहुंचाने के लिए एक व्यवहार्य नेटवर्क बनाने के लिए पाइपलाइनों को अभी तक जोड़ा जाना बाकी है।

 

नर्मदा घाटी परियोजना पर काम की धीमी गति को देखकर सरकार के लेखा परीक्षक, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) ने बंद कर दिया था; जिसमें पाया गया कि राज्य सरकार ने 2014 और 2016 के बीच खर्च किए गए अपने खातों को हेराफेरी से 213.17 करोड़ रुपये तक पहुंचाया था।

 

सरकार ने अपने बयानों में बिजली परियोजनाओं पर खर्च को शामिल किया था, भले ही केंद्रीय जल आयोग ने स्पष्ट रूप से कहा था कि यह लागत त्वरित सिंचाई लाभ कार्यक्रम (एआईबीपी) के वित्त पोषण कार्यक्रम, कैग रिपोर्ट (2018 के 22) द्वारा पैदा नहीं होगी।

 

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि नर्मदा मुख्य नहर और उसकी सहायक नदियाँ (छोटी नहरें) पानी की चोरी के अधीन थीं, “आस-पास के काश्तकारों ने, जिन्होंने मोटर पंपों का उपयोग करके अपने खेतों को सिंचित करने के लिए नहरों से पानी को अवैध रूप से उठा लिया था”।

 

“किसान हताश हैं। सिंचाई सुविधाओं की कमी के कारण वे लगातार फसल की विफलता को देख रहे हैं, जिसका अर्थ है कि उनके ऋण बढ़ रहे हैं और भुगतान नहीं किया जा सकता है, इसलिए ऐसे लोग हैं जो पानी निकालने के लिए डीजल-ईंधन पंप लगाते हैं, “ जैसा कि किसान और आरटीआई एक्टिविस्ट भारत झाला ने इंडियास्पेंड को बताया है।

 

कैग की रिपोर्ट ने इन चोरी के प्रति निष्क्रियता के लिए राज्य सरकार पर सवाल खड़े किए। कैग की रिपोर्ट में पाया गया है कि नर्मदा मुख्य नहर से अवैध मोटर पंपों और अन्य अतिक्रमणों को हटाने के लिए राज्य ने 28 से 30 अप्रैल, 2016 तक तीन दिन की छापेमारी की थी, लेकिन छोटी नहरों से पानी की चोरी को रोकने के लिए कुछ नहीं किया था।

 

मवेशी पालने वाले  ही मवेशियों को छोड़ रहे हैं
 

भुज और लखपत तालुका में ग्रामीणों के अनुसार, कच्छ की अन्य बड़ी आर्थिक गतिविधि, पशुपालन भी गिरावट की स्थिति में है। 62 वर्षीय सुरा दक्षिणी कच्छ के स्याना गांव में रहते हैं और कहते हैं कि वह केवल पशुपालन ही कर सकता है। उद्योगों की बढ़ती संख्या के साथ, क्षेत्र में जल स्तर गंभीर रूप से कम हो गया है।

 

रिकॉर्ड गर्मी और लंबे समय तक सूखे के साथ, पानी की कमी ने पशु-पालन अर्थव्यवस्था को खोखला कर दिया है। पूरे गांव में टूटे और खाली मकान हैं।

 

उत्तरी गुजरात के कच्छ जिले के स्याना गांव का एक खाली घर। रिकॉर्ड गर्म हवाएं और लगातार तीन वर्षों के सूखे के बाद पहले कृषि और पशुपालन में लगे लोगों ने काम और जीविका की तलाश में शहरों का रुख किया है और अपने घरों को छोड़ दिया है।

 

सुरा ने सबरी की किंवदंती को याद करते हुए ( एक स्थानीय आदिवासी महिला, जिसके गुरु ने उन्हें बताया था कि भगवान राम उनसे मिलने आएंगे। इस बात पर उन्होंने दशकों तक इंतजार किया, उसके आगमन की उम्मीद में हर दिन जामुन तोड़े ) कहा, “हमारी आबादी का केवल 25 फीसदी बचा है। हम जो बचे हैं वे बस बारिश की प्रतीक्षा कर रहे हैं … आप जानते हैं कि साबरी-बाई राम की प्रतीक्षा कैसे करती थी, इस तरह हम बारिश की प्रतीक्षा करते हैं। ”

 
गांव में बचे कुछ नौजवानों को ट्रक चलाने का काम मिलता है। केवल वृद्ध पीछे छूट जाते हैं।
 

जिला कलेक्टर मोहन ने इंडियास्पेंड को बताया कि खेत जानवरों के बीच संकट को कम करने के लिए, सरकार ने ‘बाहर से 5,000 किलो घास’ मंगवाया है।

 

सुरा और अन्य लोगों ने कहा कि उन्होंने इसे बहुत कम देखा है। जबकि राज्य ने 2 रुपये प्रति किलो के हिसाब से सब्सिडी वाला चारा मुहैया कराया, जबकि डिलीवरी हर दो महीने में एक बार होती थी। “हमें हर जानवर के लिए हर महीने 30-50 किलो की जरूरत है। सरकार हर दो महीने में 100 किलो देती है, जो दो-तीन जानवरों से ज्यादा खिलाने के लिए पर्याप्त नहीं है। हर दिन यहां एक गाय मरती है। यदि आप चारों ओर देखते हैं, तो आप उनके शवों को हर जगह बिखरे हुए देख सकते हैं। ”

 

 सरकार घास कार्ड जारी करती है, जो पशुपालकों को सब्सिडी वाले चारा लेने की अनुमति देती है, लेकिन एक समय में केवल पांच मवेशियों के लिए। अधिक संख्या वाले ग्रामीणों को उत्तर कच्छ में  “नीला गांव” (नीला गाव, जहा बारिश हो सकती है) जाना पड़ता है। चूंकि 2018 मौसमी मानसून की बारिश के लिए विशेष रूप से खराब वर्ष था, इसलिए अधिकांश परिवारों ने हरियाली चरागाहों की तलाश में उत्तर कच्छ की ओर गए।

 

लंबे समय के सूखे के कारण कच्छ में मवेशी पालन कम हो रहा है। पानी की कमी ने निवासियों को अपने उत्तर की ओर जाने के लिए मजबूर किया है। कभी-कभी हरियाली या चरागाहों की तलाश में वे पशुओं के साथ 300 किमी से अधिक की यात्रा करके अहमदाबाद जिले में पहुंचते हैं।

 
अन्य गांव, जो आय के लिए पशुपालन पर निर्भर है, उनकी स्थिति सयाना के समान है।
 

 जाट के नाम से जानी जाने वाली खानाबदोश मुस्लिम जनजाति रावेश्वर गांव को आबाद करती है। हर जून-जुलाई में, जाट अपनी भैंस के लिए बेहतर चारागाहों की ओर पलायन करते हैं। उनकी आय का एकमात्र साधन दूध है जो वे बेचते हैं। 30 वर्षीय रमजान जाट ने इंडियास्पेंड को बताया कि इस साल, जनजाति सामान्य से पहले ही फरवरी में पलायन कर गई थी, क्योंकि घास की कमी थी। इस तरह एक पुराना चक्र बाधित हो गया था और जाटों ने खुद को शत्रुतापूर्ण खेत में पाया जो अन्यथा खाली होता।

 

उन्होंने समझाते हुए कहा, “गांव में, सभी के पास 5-10 भैंसे हैं, इसलिए गांव में लगभग 10,000 जानवर हैं। यहां मुश्किल से ही किसी के पास पानी है, इसलिए हम घास नहीं उगा सकते हैं और हम अपने पशुओं को नहीं खिला सकते हैं। उन्हें जीवित रखने के लिए, प्रत्येक परिवार गायों और भैंसों के साथ कच्छ के उत्तरी क्षेत्रों की ओर पलायन करते हैं।”

 

मछुआरों की दुर्दशा

 

कच्छ के मछुआरे, जो पहले से ही जलवायु परिवर्तन और अतिव्यापी होने के कारण पीड़ित हैं, अब औद्योगिकीकरण के साथ आने वाले प्रदूषण से भी जूझ रहे हैं।

 

 राबरी ने कहा, “सबसे पहले पावर प्लांट – अडानी और टाटा हैं। फिर खनन कार्य होते हैं। सारा गर्म पानी समुद्र में चला जाता है। इसलिए कच्छ की सीमा पर, मछुआरों को अब मछली नहीं मिल रही है। उन्हें ऐसी नौकाओं में आगे बढ़ते रहना होगा जो 15 समुद्री मील से आगे के लिए सुरक्षित नहीं हैं। और उन्हें मछली पाने के लिए 40 या इतने समुद्री मील की दूरी पर जाना पड़ता है। अक्सर हमारे मछुआरों को पाकिस्तानी क्षेत्र में पकड़ा जाता है। कभी-कभी बिना एहसास के और कभी-कभी जोखिम के रूप में उन्हें लेना पड़ता है। कुछ मछुआरे इस तरह मर रहे हैं। “

 

“एक मछली पकड़ने की नाव में 4-5 लाख रुपये लगते हैं”, एक ग्रामीण ने इंडियास्पेंड को बताया- “तो ऐसे में एक मछुआरा क्या कर सकता है? यदि हम मछली नहीं पकड़ते हैं, तो हमारे पास हमारे द्वारा लिए गए ऋणों के भुगतान करने का कोई तरीका नहीं है।”

 

पाइपलाइनों का रखरखाव नहीं

 

इस क्षेत्र में नहरों के निर्माण का इंतजार है। वहीं कच्छ को नर्मदा परियोजना की मालिया शाखा नहर से जिले में जाने वाली 91 किलोमीटर पाइपलाइन से पीने का पानी मिलता है।

 

पाइप्ड जलापूर्ति पर निर्भर,  रखरखाव की कमी या जलवायु चर के कारण, हर बार एक लाइन टूटने पर कच्छ जिला प्रभावित होता है। सुरा ने इंडियास्पेंड को बताया कि,  “हम पाइप लाइन पर निर्भर हैं, लेकिन यह भी हर कुछ हफ्तों में टूट जाता है। अभी यह चार दिनों के लिए टूट गया है और इसलिए हमें पानी नहीं मिला है। यह रोज की बात हो गई है। ” स्याना सहित 86 गांवों को इन पाइपलाइनों के माध्यम से पानी की आपूर्ति की देखरेख के लिए एक एसएसएनएनएल कर्मचारी गुज़ै पणि, सुरा की बातों से सहमति जताते हैं- “पिछले चार दिनों में पाइपलाइन दो बार टूट गई है।”

 

कच्छ को 91 किलोमीटर की पाइपलाइन के माध्यम से नर्मदा परियोजना की एक शाखा से पीने का पानी मिलता है। सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड के एक कर्मचारी गुजे पणि कहते हैं, “पिछले चार दिनों में पाइपलाइन दो बार टूट चुकी है।”

 
वैकल्पिक काम, लेकिन देर से मजदूरी
 

कुछ ग्रामीण मनरेगा के तहत श्रम करके अपनी आमदनी करते हैं। वे एक छोटे से जंगल के रास्ते से कई किलोमीटर चलते हैं, जहां वे पैसे के बदले जमीन खोदते हैं।

 

 30 साल के हाजियानी जाट ने समझाया, “हम 4 क्यूबिक मीटर के वर्ग खोदते हैं और इसके लिए 200 रुपये का भुगतान किया जाता है। मजदूरी का भुगतान दैनिक रूप से नहीं किया जाता है, लेकिन किए गए कार्य के निरीक्षण के बाद किया जाता है।” उनके साथ की एक अन्य महिला सुरमी जाट उस दिन काम पर नहीं गई थी,  जिस दिन इंडियास्पेंड की टीम वहां पहुंची थी। वह बीमार थी और निराश भी, क्योंकि उन्हें 15 दिनों से भुगतान नहीं किया गया था।उन्होंने दुख व्यक्त करते हुए कहा, “हम संघर्ष करते हैं। अभी मैं अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए कर्ज ले रही हूं। उम्मीद है कि जब मेरी मजदूरी आएगी, तो मैं उन्हें वापस भुगतान कर दूंगी। ” सुरमी की कहानी को कच्छ के उप जिला अधिकारी प्रभा जोशी, जो राजस्व संग्रह, खर्च आदि के लिए जिम्मेदार एक जिला प्रशासन अधिकारी भी हैं के द्वारा भी पुष्टि गई, जो कहते हैं कि उनका नाम उन व्यक्तियों की सूची में आता है, जिन्हें मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया है। “हम हर किसी को जल्द से जल्द भुगतान करने की कोशिश कर रहे हैं और ज्यादातर मामलों में हम कामयाब रहे हैं। लेकिन, कभी-कभी अप्रत्याशित समस्याएं होती हैं, जिसके कारण कुछ ग्रामीणों को समय पर मजदूरी नहीं मिल पाती है।” उन्होंने 18 दिसंबर, 2018 से 1 जनवरी, 2019 तक जिले की मस्टर रोल रिपोर्ट साझा की। सूची से पता चला कि, औसतन, रवारेश्वर के कुछ ग्रामीणों को प्रत्येक के लिए 2,500 रुपये से अधिक का बकाया था, जो आठ दिनों के लिए चार परिवारों को खिलाने के लिए पर्याप्त है।

 

कम लाभ वाली सीएसआर परियोजनाएं

 

कच्छ जिले में उद्योगों की एक श्रेणी से जुड़े कई कारखाने हैं, जैसे लिग्नाइट (भूरा कोयला) खनन और मिट्टी प्रसंस्करण। जिला कलेक्टर रेम्या मोहन कहती हैं, “कई कॉर्पोरेट बहुत अच्छा काम कर रहे हैं और हमारे चारे और पानी की स्थिति में योगदान दिया है। वे अलवणीकरण पौधों आदि को भी पानी दे रहे हैं।”

 

ग्रामीणों और एक्टिविस्ट ने हालांकि इसमें असहमति जताई। रबाड़ी ने कहा, “ज्यादातर उद्योग धर्मार्थ ट्रस्ट बनाते हैं और फिर वे निजी उपयोग के लिए धन का दुरुपयोग करते हैं और इसे सीएसआर खर्च के रूप में दिखाते हैं। वे स्टैच्यू ऑफ यूनिटी जैसी सरकारी परियोजनाओं को दान करते हैं और जहां सीएसआर समाप्त होता है।”

 

मोहन द्वारा बताए गए चित्र से एक अलग चित्र ग्रामीणों ने इंडियास्पेंड को दिखाया।उदाहरण के लिए, लखपत तालुका के आसपास बंजर भूमि, अति-खनन के परिणाम हैं। खनन विस्फोट से गैपिंग के छेद समतल इलाके में दिखाई देते हैं।

 
 

गांव के सरपंच के भाई प्रागजी ने कहा, “पास में कारखाने हैं, जैसे कि संघी सीमेंट। वे गांव के लोगों को रोजगार नहीं देते हैं। कंपनी ने कहा था कि वह गांवों को मीठा पानी देगी, लेकिन इसके बजाय वे अपने उपयोग के लिए सारा पानी ले रहे हैं।”

  
 

ग्रामीणों ने कहा कि वे सीमेंट कंपनियों में 100 रुपये प्रति दिन के हिसाब से काम करने को तैयार थे ( गुजरात में इस तरह के काम के लिए प्रति दिन 312.2 रुपये का न्यूनतम वेतन का एक तिहाई ) लेकिन कॉर्पोरेट केवल अपने कारखानों के करीब रहने वाले लोगों को काम पर रखते हैं, जैसा कि एक स्थानीय गुजराती भाषा दैनिक, कच्छ मित्र के लिए एक वरिष्ठ रिपोर्टर, विश्वनाथन जोशी ने इंडियास्पेंड को बताया। व्यवसाय की सामाजिक, पर्यावरणीय और आर्थिक जिम्मेदारियों पर राष्ट्रीय स्वैच्छिक दिशानिर्देश कहते हैं कि कंपनियों को अपनी संपत्ति के 15-20 किलोमीटर के दायरे के गांवों के निवासियों को रोजगार प्रदान करना चाहिए।

 

किसान कहते हैं, कच्छ की जानबूझकर उपेक्षा

 

किसानों और एक्टिविस्टों का कहना है कि राज्य सरकार जानबूझकर किसानों और पशुपालकों को कच्छ से निकालकर उद्योगों के लिए रास्ता बना रही है।

 

रबारी ने इंडियास्पेंड को बताया, “वे पानी को किसानों से उद्योगों तक पहुंचाना चाहते हैं, और एक बार पानी उद्योगों तक पहुंच जाए, तो इसे वापस लेना राजनीतिक आत्महत्या होगी। इसलिए, वे इसे देरी कर रहे हैं, जिससे पानी किसानों तक न पहुंचे। फिर वे कह सकते हैं कि कोई भी वहां नहीं रह रहा है तो नहर क्यों बनाई जाए? ”

 

एक्टिविस्ट सागर रबारी ने सूचना के अधिकार का अनुरोध करते हुए गुजरात के कच्छ जिले में सिंचाई और गैर-सिंचाई उद्देश्यों के लिए पानी की आपूर्ति के टूटने का विवरण मांगा। रबारी और अन्य कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि सरकार उद्योगों के लिए रास्ता बनाने के लिए जानबूझकर किसानों को कच्छ से बाहर कर रही है।

 

राज्य विधानसभा में, सरकार ने दावा किया था कि कृषि विकास प्रति वर्ष 11 फीसदी है, लेकिन गुजरात के आर्थिक क्षेत्र पर 2018 कैग की रिपोर्ट में यह आंकड़ा 3.6 फीसदी है।

 

रबारी ने कहा, “कागज पर, गुजरात एक महान राज्य है। यह वास्तव में बढ़ रहा है, लेकिन यह तब तक ही सही है, जब तक आप वास्तविक रूप से इसे नहीं देखते हैं।”

 

लखपत के किसान पटेल ने कहा, “सरकार की मंशा यह है कि अगर पानी कच्छ तक पहुंच गया तो जो लोग बचे हैं वे खेत में लौट आएंगे और फिर इस क्षेत्र में उद्योगों के लिए कोई जगह नहीं होगी।”

 

कई किसानों के आंदोलन के बावजूद, सरकार सिंचाई प्रदान करने में विफल रही है। किसानों की रैलियों में अक्सर पुलिस लाठीचार्ज करती है। पिछले साल फरवरी में, 60-किलोमीटर पैदल मार्च शुरू करने वाले 36 सूखाग्रस्त गांवों के किसानों को पीटा गया था।

 

पटेल जनवरी 2019 के पहले सप्ताह के दौरान नखतराणा गांव में एक आंदोलन (विरोध) से लौटे थे, जब इंडियास्पेंड ने उनसे मुलाकात की थी। उन्होंने कहा कि उनके राजनीतिक संगठन बीकेएस से जुड़े किसानों पर भी लाठीचार्ज किया गया।

 

पटेल कहते हैं, “हमारे पास नियमित रूप से बड़ी रैलियां और छोटे प्रदर्शन दोनों हैं और किसानों पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया जाता है। हमारे पास कोई विकल्प नहीं है ।अगर कोई किसानों की बात नहीं सुन रहा है तो वे कहां जाएंगे, वे क्या करेंगे? वे निराश हो जाएंगे और वे सड़कों पर उतरेंगे और यातायात रुक जाएगा। तब पुलिस आती है और हम पर तब तक लाठीचार्ज करती है जब तक हम तितर-बितर नहीं हो जाते। ”

 

यह छह रिपोर्ट की श्रृंखला में यह तीसरी रिपोर्ट है। आप पहली रिपोर्ट यहां और दूसरी रिपोर्ट यहां पढ़ सकते हैं।

 

मेहता लेखक और संपादक हैं और दिल्ली में रहती हैं।

 

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 16 अप्रैल 2019 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code