Home » बजट 2016: अंकों की कहानी » 10 वर्षों में सब्सिडी में तेजी से वृद्धि

10 वर्षों में सब्सिडी में तेजी से वृद्धि

इंडियास्पेंड टीम,

big_620

 

जैसे कि वित्त मंत्री अरुण जेटली सोमवार, 29 फ़रवरी, 2016 को  तीसरा बजट प्रस्तुत करेंगे, पिछले 10 वर्षों के दौरान (2006-2015) सात मानकों में हुए बदलाव पर किए गए हमारे विश्लेषण से पता चलता है कि सब्सिडी में चार गुना वृद्धि हुई है।

 

सब्सिडी में वृद्धि की बात आर्थिक सर्वेक्षण में सामने आई है जो कहती है कि 2.4 लाख करोड़ रुपए (34.8 बिलियन डॉलर) सब्सिडी बिल में से 1.03 लाख करोड़ रुपए (14.9 बिलियन डॉलर) उन लोगों तक पहुंचता हैं जिन्हें इसकी ज़रुरत नहीं है। “बाउंटीज़ फॉर द वेल ऑफ (अमीरों के लिए इनाम)” जैसा कि सर्वेक्षण में इसे बताया गया है, के तहत छह वस्तुओं को शामिल किया गया है: गैस, बिजली, मिट्टी का तेल, रेलवे, विमानन ईंधन, सार्वजनिक भविष्य निधि और सोना – “सामान्य” माल पर 26 फीसदी कर की तुलना में अंतिम पर 1.6 फीसदी या कम का कर लगता है।

 

पिछले एक दशक के दौरान, सात मानकों में हुए बदलाव का हमने इस प्रकार विश्लेषण किया है:

 

दस वर्षों में 7 बड़ी बजट संख्या

 

 
 

सरकार द्वारा जारी अग्रिम अनुमानों के अनुसार, भारत, मौजूदा वित्त वर्ष (2015-16) के दौरान 7.6 फीसदी के विकास होने के लिए तैयार होने के साथ बजट 2016 यह स्पष्ट कर देगा कि किस प्रकार ऐसा करने की उम्मीद करता है।   आधिकारिक बयान के अनुसार, वर्ष 2014-15 के लिए 105.52 लाख करोड़ रुपए (1.5 ट्रिलियन डॉलर) के साथ पहले संशोधित अनुमान की तुलना में निरंतर (2011-12) मूल्यों पर, वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2015-16 में 113.51 लाख करोड़ रुपए (1.7 ट्रिलियन डॉलर) होने की संभावना है।   भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने विकास को बढ़ावा देने के लिए इन प्रमुख पहल की शुरुआत की है: मेक-इन इंडिया निर्माण ड्राइव, कृषि के विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री पारंपरिक कृषि विकास योजना, और सेवा क्षेत्र के लिए सरकार ने विदेशी निवेश नियमों को आसान बनाया है।

 
 
बड़ी बजट संख्या, 2006-07 से 2015-16  
 

Source: Budget documents (Trends in receipts, Trends in expenditure) Note: Figures in Rs crore; 2014-15: Revised Estimates; 2015-16: Budget Estimates

 

फरवरी 2015 में अपने भाषण के दौरान, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी प्रधानमंत्री जन धन योजना (जेडीवाई) विशिष्ट पहचान संख्या (आधार) और मोबाइल – सामूहिक रुप से जेएएम के रुप में जाना जाने वाला – पर भी ज़ोर दिया है।

 

जेडीवाई की धीमी रफ्तार के साथ, बैंक खातों को आधार से जोड़ने की प्रक्रिया के रुप में जेएएम का काम भी प्रगति पर है, जैसा कि पिछले सप्ताह इंडियास्पेंड ने अपनी रिपोर्ट में विस्तार से बताया है।

 

हमने पहले भी बताया है कि, सरकार सामाजिक – क्षेत्र के कार्यक्रमों को राज्यों को सौंपने की प्रक्रिया को संभवत: गति देगा, हालांकि की कई राज्य, विशेष रुप से गरीब या खराब प्रशासित राज्य इसके लिए तैयार नहीं हैं।

 

हमने यह भी बताया है कि, “हस्तांतरण” प्रक्रिया के तहत, कर राशि के रुप में केंद्र का राज्यों को 5.25 करोड़ रुपए (831.7 बिलियन डॉलर) हस्तांतरण के साथ 55 फीसदी की वृद्धि हुई है, पिछले वर्ष स्वास्थ्य और शिक्षा के खर्च पर 20 फीसदी की कटौती हुई है।

 

तो, सोमवार को क्या करेंगे वित्त मंत्री?

 

यह लेख मूलत: अंग्रेज़ी में 28 फरवरी 2016 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org. पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

________________________________________________________________________________

 

क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
952

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *