Home » Cover Story » अब ट्विटर पर तुरंत मिलेगी इंडियास्पेंड वायु गुणवत्ता जानकारी

अब ट्विटर पर तुरंत मिलेगी इंडियास्पेंड वायु गुणवत्ता जानकारी

इंडियास्पेंड टीम,

twitter_620

 

आपके पड़ोस में वायु की गुणवत्ता- और इसका स्वास्थ्य पर असर- अब केवल एक ट्वीट दूर है।

 

इंडियास्पेंड को आज से ट्विटर के साथ मिलकर देश का पहला वास्तविक समय में वायु-गुणवत्ता अपडेट आपके फोन पर देने की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। यह सिस्टम #Breathe, पर आधारित है, इंडियास्पेंड का वायु-गुणवत्ता सेंसर्स का नेटवर्क, जो भारत की इस तरह की पहली स्वतंत्र कोशिश है।

 

यह इस तरह काम करता हैः कीवर्ड #।

 

उदाहरण के लिएः

 

 
 

कुछ सेंकेंड के अंदर, आपको इस तरह का एक ट्वीट मिलेगाः

 

 

इस सिस्टम का डिजाइन आपके 25 किलोमीटर के अंदर इंडियास्पेंड वायु-गुणवत्ता निगरानी स्टेशन खोजने के लिए बनाया गया है। अगर उस दायरे के अंदर एक सेंसर नहीं है, आपको यह बताने वाला एक ट्वीट मिलेगा।

 

#Breathe निगरानी स्टेशन चार भारतीय शहरों में तैनात किए गए हैं- 25 नई दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में, 10 मुंबई में, 10 बेंगलुरु मं, 2 चेन्नई में और 1 लखनऊ में।

 

सरकार के वायु गुणवत्ता निगरानी नेटवर्क के पास लगभग 16 निगरानी स्टेशन नई दिल्ली और एनसीआर में, 11 मुंबई में, 10 पुणे में हैं।

 

सरकार के सेंसर्स, जो कहीं अधिक महंगे और अधिक आधुनिक लगते हैं, इंडियास्पेंड के कम खर्च वाले नेटवर्क की तुलना में कैसे हैं?

 

हमने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण केंद्र की ओर से चलाए जाने वाले चार निगरानी स्टेशनों (आनंद विहार, मंदिर मार्ग, पंजाबी बाग और आर के पुरम) से आंकड़ों की तुलना इंडियास्पेंड #Breathe आंकड़ों से की और समान पैटर्न पाए गएः

 

डीपीसीसी और ब्रीद आंकड़े

 

 

ट्विटर अपडेट्स के बारे में विशेष क्या है?

 

स्थान-विशिष्ट वायु गुणवत्ता आंकड़े ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराने से न केवल आपको फायदा होता है, ब्लकि वास्तविक समय में मशीन-से-मशीन वायु-गुणवत्ता आंकड़ों और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) से संबंधित एप्लिकेशंस का उपयोग भी किया जा सकता है, इसका अर्थ है कि आंकड़ों रेफ्रीजरेटर्स से लेकर कारों तक, बहुत से उपकरणों के साथ जोड़ा जा सकता है।

 

वेब से चलने वाले इंटरनेट ऑफ थिंग्स अभियान को ताकत देने में ट्विटर प्लेटफॉर्म एक महत्वपूर्ण तत्व है। आईफटीटीटी और थिंग्सस्पीक जैसे मध्यवर्ती प्लेटफॉर्म्स ट्विटर के साथ सक्षम एप्लिकेशंस को अन्य आईओटी उपकरणों और समाधानों के साथ कनेक्ट कर रहे हैं।

 

इंडियास्पेंड #Breathe ट्विटर-आधारित आंकड़ों का प्रसार इस तरह की इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) एप्लिकेशंस के लिए वास्तविक समय में वायु गुणवत्ता आंकड़ों के उपयोग में अग्रणी बनने की आशा करता है।

 

यह लेख मूलतः अंग्रेजी में 22 अप्रैल 2016 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
3699

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *