Home » Cover Story » केरल की राजनीति में महिलाओं की भागीदारी में वृद्धि, कम हो रही है सफलता

केरल की राजनीति में महिलाओं की भागीदारी में वृद्धि, कम हो रही है सफलता

श्रीदेवी आर.एस,

Kerala620

 

20 वर्षों और पांच विधानसभा चुनाव के दौरान – जैसा कि महिलाएं बेहतर शिक्षित हुई हैं, लोकप्रिय आंदोलनों का नेतृत्व किया है, केरल में अब तक की सबसे अधिक संख्या में मतदान और चुनाव लड़ा है – सीधे निर्वाचित महिला विधायकों की संख्या में लगातार गिरावट आई है। यह जानकारी चुनावी आंकड़ों पर हमारे द्वारा किए गए विश्लेषण में सामने आई है।

 

विधानसभा के महिला सदस्यों का प्रतिशत, 1996 में 10.23 फीसदी से गिरकर 2016 में 6.06 फीसदी हुआ है, हालांकि इन पांच चुनावों के दौरान महिला उम्मीदवारों की संख्या दोगुनी हुई है।

 

एक पुरुष प्रधान देश में, केरल के 2016 के विधानसभा चुनाव से यह आंकड़े उल्लेखनीय दिखाई देते हैं : 105 महिलाओं ने चुनाव लड़ा – एक तिहाई निर्दलीय के रूप, जैसा कि हमने पहले बताया है, जो कि अकेले जाने के लिए एक दृढ़ संकल्प का संकेत देती है – जो 2011 में 83 के आंकड़ों की तुलना में अधिक है।

 

जैसा कि वाम लोकतांत्रिक मोर्चा पांच साल बाद सत्ता में लौटी है, 140 सदस्यीय विधानसभा में आठ से अधिक महिलाएं चुनी नहीं गई हैं जिसका मतलब है कि 2011 की तुलना में केरल में केवल एक महिला विधायक अधिक है।

 

स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि सफलता में कमी का कारण कोशिश करने का अभाव नहीं है। लेकिन सफलता, वोट के लिए महिलाओं की बढ़ती संख्या के साथ सहसंबंधित प्रतीत नहीं होता है। 2016 के चुनाव में, कम से कम 76 फीसदी महिलाओं ने मतदान दिया है, जोकि 2011 की तुलना में 75 फीसदी अधिक है। 2016 में पुरुष मतदान का प्रतिशत 76 फीसदी था।

 

आंकड़े यह संकेत देते प्रतीत होते हैं कि, हालांकि महिलाएं चुनाव लड़ रही हैं और मतदान रिकॉर्ड संख्या में है, वे अन्य महिलाओं के लिए मतदान नहीं कर रहे हैं।

 

‘मानद मर्दानगी’: अधिक महिला प्रतियोगी, कम विधायक (1996-2016)

Source: Election Commission

 

विशेषज्ञों का कहना है कि यहां तक ​​कि अगर अधिक महिला विधायक चुने जाते, तो भी लिंग समीकरणों को बदलने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकते हैं।

 

बिनीता थांपी, मानविकी और सामाजिक विज्ञान विभाग, आईआईटी मद्रास में विकास अध्ययन की प्रोफेसर कहती हैं, “केवल महिला प्रतिनिधियों की संख्या में वृद्धि से लिंग समावेशन की ओर गुणात्मक परिवर्तन सुनिश्चित नहीं होगा। यह महिला राजनीति को बढ़ावा देने का समय है जिससे व्यावहारिक तौर पर लैंगिक भेदभाव को दूर करने में मदद मिलेगी।”

 

थांपी ने एक शुरुआत के रूप में, महिला एजेंडे का एक विस्तार सुनिश्चित के लिए, पंचायत की राजनीति में महिलाओं के लिए आरक्षण का सुझाव दिया है। वह कहती है, “महिलाओं के लिए कोटा एक मलाईदार परत द्वारा आगे बढ़ाया जा रहा है और महिला नेताएं, सार्वजनिक स्थलों में मानद मर्दानगी पहुँच बना रही हैं।”

 

भारत की सबसे बंधनमुक्त महिलाएं पारंपरिक पूर्वाग्रह का करती हैं सामना

 

केरल की महिला विधायकों की चुनावी सफलता में गिरावट उनकी मुक्ति का प्रतिनिधित्व नहीं करता है, और इसकी बजाय, उनके सामाजिक उपस्थिति के लिए सख्त प्रतिरोध का संकेत देता प्रतीत होता है।

 

2014 के निलपु समरम ( स्थानीय आंदोलन) का नेतृत्व महिलाओं ने किया था जिसमें सरकार से भूमि पर आदिवासी अधिकार लागू करने की मांग की गई जो स्थानीय समुदायों को जंगलों का उपयोग करने और और पुलिस ज्यादतियों पर अंकुश लगाने की अनुमति देता है।

 

महिलाओं ने ‘पिमबिलाई ओरुमनि’ (महिला एकता)  का नेतृत्व भी किया था। यह आंदोलन, 2015 को चाय बगानी के पहाड़ी इलाके, मुन्नार में शुरु किया गया था। आंदोलन के ज़रिए उच्च मजदूरी और बागान श्रमिकों के लिए सुविधाएं की मांग की गई थी।

 

केरल विधानसभा चुनाव में महिलाएं

 

Source: Election Commission

 

सार्वजनिक क्षेत्र में यह आत्मविश्वास केरल की महिलाओं की मुक्ति और स्थिति को दर्शाता है, जो भारत में सबसे अधिक साक्षर हैं, (92 फीसदी महिला साक्षरता, महिलाओं के लिए राष्ट्रीय औसत 65 फीसदी), कम बच्चे सहन करती हैं (.7 की कुल प्रजनन दर; राष्ट्रीय औसत 2.5) लेकिन श्रम बल में भागीदीरी कम है (18 फीसदी, राष्ट्रीय औसत 25 फीसदी)।

 

केरल की हारने वाली महिला उम्मीदवारों में से कुछ की प्रत्यायक पर विचार करें:

 

* सी के जानू, एक लोकप्रिय आदिवासी नेता, वायनाड, केरल में आदिवासियों के सर्वोच्च प्रतिशत वाला उत्तरी जिला, में सुल्तान बत्तेरि संसदीय क्षेत्र से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सहयोग से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा। 16 फीसदी वोट के साथ आठ में से इनका तीसरा स्थान रहा है।

 

* पी के जयलक्ष्मी, पिछली सरकार में अनुसूचित जनजातियों के कल्याण के लिए मंत्री, वायनाड जिले में मनानतवाडे से संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) के उम्मीदवार थी। 42 फीसदी वोट से साथ यह दूसरे स्थान पर थी।

 

चुनाव के बाद,एक अनुसूचित जाति की कानून के छात्रा के साथ बलात्कार और हत्या मीडिया द्वारा लिंग असमानता और केरल में महिलाओं के खिलाफ क्रूरता जारी रहने के एक संकेतक के रूप में प्रदर्शित किया  गया था।

 

जानू, आदिवासी नेता कहती हैं, “महिला मतदाताओं को महिला उम्मीदवारों में विश्वास होना चाहिए… वह विश्वास धीरे-धीरे दूर लुप्त हो रही है। मतदाता चिंतित हैं कि क्या महिला उम्मीदवार चुने जाने के बाद उनकी मांगों को पूरा कर सकती हैं क्योंकि परिवारों के प्रति महिलाओं की जिम्मेदारियों को आसानी से नहीं तोड़ा जा सकता है। ऐसे भी मामले हैं जहाँ निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों के पतियों उनकी बजाय निर्णय लेते हैं।”

 

सफल महिला नेताएं इस बात से सहमति रखती हैं कि केरल में लिंग समस्या है जिसका विस्तार परिवार तक है।

 

के.के शैलजा, स्वास्थ्य एवं समाज कल्याण मंत्री, कहती हैं, “स्त्री-पुरुष संबंध पुनर्गठन किया जाना चाहिए, और यह घरेलू जिम्मेदारियों के बंटवारे से शुरू करना चाहिए। परिवर्तन के एजेंट के रूप में महिलाओं की भूमिका पर पुनर्विचार करना महत्वपूर्ण हो गया है।”

 

हालांकि, पिछली कैबिनेट (एक मंत्री पी के जयलक्ष्मी) की तुलना में वर्तमान कैबिनेट में महिला प्रतिनिधित्व दोगुनी हो गई है – (दो मंत्री – के.के. शैलजा और जे मर्सीकुट्टी अम्मा) – जबकि 1957 में केरल की पहली कैबिनेट में पांच महिलाएं थी।

 

(श्रीदेवी डेवलपमेंट स्टडीज, टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, मुंबई में एमफिल है।)

 

यह लेख मूलत: अंग्रेज़ी में 01 अगस्त 16 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
2900

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *