Home » Cover Story » बिहार का बदलता मत– भाजपा के लिए फायदेमंद

बिहार का बदलता मत– भाजपा के लिए फायदेमंद

सौम्या तिवारी,

620 Modi Bihar

Prime Minister, Narendra Modi addressing a rally in Patna, Bihar on October 25, 2015. Image: BJP

 

बिहार विधानसभा चुनाव में आज तीसरे चरण के लिए मतदान जारी है। 2014 के लोकसभा चुनाव के रुझान के मध्यनज़र देखा जाए तो भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा ) ने देश के तीसरे सर्वाधिक आबादी वाले राज्य, बिहार में मजबूत मतदान आधार ( वोटर बेस ) बनाया है।

 

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 40 में से 22 सीटों पर जीत हासिल की जबकि भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( एनडीए ) ने 31 सीटों ( 77 फीसदी सीट ) पर जीत का परचम लहराया था।

 

चुनाव के संबंध में देखा जाए तो वर्ष 2014 भाजपा के पक्ष में रहा। हालांकि दिल्ली विधानसभा में जीत आम आदमी पार्टी ( आप ) के खाते में गई लेकिन इंडियास्पेंड के एक विश्लेषण  में बताया है कि किस प्रकार देश की राजधानी ने मतदान स्थापित किया और किस प्रकार हरेक विधानसभा क्षेत्र में भाजपा उपविजेता (दुसरे स्थान पे ) रही थी।

 

गत वर्ष लोकसभा चुनाव में बिहार के 243 विधानसभा क्षेत्रों (जो राज्य के 40 संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों को गठित करती है ) में से 122 में भाजपा आगे थी।
 
2014 के लोकसभा चुनाव में विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा का प्रदर्शन
 

Constituency 2010 Winner 2010 Vote share in % 2014 Lok Sabha winner for the assembly segment 2014 Vote Share in % Difference in Vote Share %
Barbigha JD(U) 26 BJP 54 28
Kurhani JD(U) 28 BJP 48 20
Bhabua LJP 26 BJP 46 20
Valmiki Nagar JD(U) 29 BJP 48 19
Kuchaikote JD(U) 41 BJP 59 18
Govindganj JD(U) 35 BJP 52 17
Warsaliganj JD(U) 35 BJP 52 17
Narkatia JD(U) 27 BJP 44 17
Pipra JD(U) 33 BJP 49 16
Manjhi JD(U) 27 BJP 41 14
Marhaura RJD 27 BJP 41 14
Barhara RJD 42 BJP 55 13
Bachhwara CPI 26 BJP 39 13
Bahadurpur JD(U) 24 BJP 37 13
Hathua JD(U) 42 BJP 54 12
Madhuban JD(U) 39 BJP 51 12
Lauriya IND 33 BJP 45 12
Harlakhi JD(U) 27 BJP 39 12
Chenari (SC) JD(U) 35 BJP 46 11
Amnour JD(U) 31 BJP 42 11

Source: Election Commission of India; Note: Constituencies arranged according to difference in vote share.

 

2010 के विधानसभा चुनाव के दौरान 122 सीटों में से भाजपा जनता दल (यू) के 52 सीटों से मतदाताओं को बदलने में सफल रहा था। 2010 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 91 सीटों पर विजयी हासिल की थी।

 

यदि पिछले चुनाव की प्रवृति के मध्यनज़र देखा जाए तो पूर्व मुख्यमंत्री, नीतिश कुमार के नेतृत्व वाले जनता दल ( यू ) को इन 52 निर्वाचन क्षेत्रों पर विशेष ध्यान रखने की ज़रुरत है।

 

राष्ट्रीय चुनाव एवं राज्य विधानसभा चुनाव के मुद्दे अलग होते हैं एवं मतदाताओं को अलग तरीके से संघटित किया जाता है। दिल्ली में भी कुछ ऐसा ही देखने मिला है लेकिन हमने पहले बताया है कि वहां भी राज्य में भाजपा के ईमानदार वोटर बेस हैं।

 

बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा के सीटों का विस्तार होना निश्चित रुप से पार्टी के लिए एक अच्छी खबर है। 2005 में 55 सीटों का विस्तार कर 2010 में 91 सीट किया गया था और जैसा कि हमने पहले ही बताया है कि पिछले साल के संसदीय चुनावों में 122 निर्वाचन क्षेत्रों से भाजपा आगे थी।

 

बारबिघा एवं अन्य 51 सीटों का महत्व

 

जनता दल ( यू ) के लिए दक्षिण बिहार के बारबिघा क्षेत्र पर ध्यान रखना आवश्यक है जहां पार्टी ने सबसे बड़ा वोट शेयर खोया है।

 

हैरत की बात है कि कांग्रेस और राकांपा के उम्मीदवारों पर जिम्मा छोड़ते हुए इस बार न तो भाजपा और न ही जनता दल ( यू )इस सीट से चुनाव लड़ रही है। 2014 के लोकसभा चुनाव में कुरहनि, वाल्मिकि नगर एवं कई निर्वाचन क्षेत्र में जनता दल ( यू ) के मतदान शेयर में कमी एवं भाजपा में वृद्धि देखी गई है।

 

2010 के विधानसभा से आरजेडी के 22 सीटों में से भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनाव में 11 सीटों पर जीत हासिल की है। हालांकि आरजेडी उस वक्त बिहार की सत्ता में नहीं थी लेकिन भाजपा उनकी सीटों पर जीत हासिल करने में सक्षम रही।

 

बिहार में भाजपा का वोट शेयर अब 40 फीसदी तक

 

2010 के बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा के वोट शेयर में भारी उछाल देखा गया है। उस साल 102 सीटों पर लड़े चुनाव में से 91 सीटों पर पार्टी ने जीत हासिल की थी यानि कि पार्टी का वोट शेयर 40 फीसदी तक पहुंचा है। इंडियास्पेंड ने पहले ही अपनी रिपोर्ट में बताया है कि किस प्रकार भाजपा फैक्टर एवं चुनाव प्रणाली चुनाव परिणामों को प्रभावित कर सकता है।

 

बिहार में अस्थिर वोट शेयर

 

Source: Election Commission of India

 

भाजपा के वोटर बेस में वृद्धि होने के विपरीत जनता दल ( यू ) के वोट शेयर में बड़े बदलाव दिख रहे हैं।

 

आरजेडी एवं जनता दल ( यू ) के बीच हो रहे निरंतर खीचतान का कुछ हद तक फायदा भाजपा को 2010 चुनाव के दौरान मिला है।

 

इंडियास्पेंड ने अपनी रिपोर्ट में पहले ही बताया है कि किस प्रकार 2014 में भाजपा ने अन्य राज्यों में जीत हासिल की है।

 

हालांकि पिछले लोकसभा चुनाव में लालू यादव ( आरजेडी ) के वोट पर कोई खास असर नहीं पड़ा है लेकिन भाजपा जनता दल ( यू ) के वोटों को अपने खेमे में शामिल करने में सक्षम हुई है।

 

2014 के भाजपा के प्रदर्शन में बिहार बिहार के सत्ता विरोधी लहर अंतर्धारा स्पष्ट थे। अब सवाल यह है : क्या जनता दल (यू), आरजेडी और कांग्रेस का महागठबंधन भाजपा की लहर को रोक पाएगा?

 

Acronym Political Party
BJP Bharatiya Janata Party
INC Indian National Congress
JD(U) Janata Dal (United)
RJD Rashtriya Janata Dal
NCP Nationalist Congress Party
LJP Lok Janashakti Party
CPI Communist Party of India
IND Independent Candidate
AAP Aam Aadmi Party

 
_________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Views
4965

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *