Home » Cover Story » बिहार में हैं सबसे अधिक शिक्षित बेरोज़गार

बिहार में हैं सबसे अधिक शिक्षित बेरोज़गार

इंडियास्पेंड,

620

 

नौकरी….बिहार में अक्टूबर एवं नवंबर में विधानसभा चुनाव की घोषणा होने के बाद यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है जो बिहार की जनता के दिमाग में घूम रहा होगा।

 

बिहार की आधी से अधिक आबादी जीवन यापन के लिए खेती-बाड़ी पर निर्भर है। देश की कुल आबादी में से इस आर्थिक रुप से नष्ट राज्य की हिस्सेदारी 8 फीसदी है जबकि जनबल ( श्रमिक शक्ति ) प्रदान करने के मामले में बिहार की हिस्सेदारी केवल 1 फीसदी ही है। बिहार में जितना अधिक आप शिक्षित होते हैं उतनी ही अधिक आपकी बेरोज़गार बनने की संभावना होती है।

 

इंडियास्पेंड ने जनगणना, आर्थिक सर्वेक्षण, बेरोज़गारी एवं उद्योग के आंकड़ों पर खास विश्लेषण किया है। विश्लेषण में पाए गए निष्कर्ष कुछ इस प्रकार हैं –

 

बिहार की कुल 104 मिलियन आबादी में से 28 मिलियन लोग 15 से 30 वर्ष की आयु वर्ग के हैं। यानि 27 फीसदी लोग युवा वर्ग के हैं जो राष्ट्रीय औसत, 30 फीसदी, से कम है। यह आंकड़ा भारत के गरीब राज्यों ( मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड एवं ओडिसा ) में सबसे कम है।
 
युवा आबादी, बिहार एवं अन्य राज्य
 

Source: Census

 

युवाओं की संख्या कम – नौकरियां और भी कम

 

बिहार युवाओं की कम अनुपात वाले राज्यों में से एक तो है ही लेकिन राज्य में इन युवाओं के लिए बेराज़गारी और अधिक है। आकंड़ो के मुताबिक बिहार में बेरोज़दारी दर 17 फीसदी है जबकि राष्ट्रीय बेरोज़गारी औसत 13 फीसदी दर्ज की गई है।
 
श्रम आंकड़ो के मुताबिक 30 वर्ष की आयु से अधिक लोगों के लिए बेरोज़गारी दर 1.4 फीसदी दर्ज की गई है। गौरतलब है कि राष्ट्रीय औसत भी 1.4 फीसदी ही दर्ज की गई है।
 
बिहार एवं भारत में बेरोज़गारी स्थिति की तुलना
 

Source: Labour ministry

 

अन्य राज्यों के मुकाबले बिहार में युवा एवं शिक्षित बेरोज़गारों की संख्या अधिक है जबकि दूसरे राज्यों में अधिकतर निरक्षर एवं कम पढ़े लोग ही बेरोज़गार देखे गए हैं।
 
शिक्षा के स्तर से बिहार में बेरोज़गारी
 

Source: Labour ministry (Table 15.4)

 

बिहार के अधिकरतर युवा कृषि या निर्माणकार्य या व्यवसाय करते हैं। बिहार के युवा भारतीय जनता पार्टी के लिए एक महत्वपूर्ण जनसांख्यिकीय हैं जो इन युवाओं की आकांक्षाओं और असंतोष को भुनाते हैं।

 
कारोबार के अनुसार बिहार की युवाओं का रोज़गार
 

Source: Labour ministry (Table 10)

 

बिहार इंडस्ट्रीज के वार्षिक सर्वेक्षण के अनुसार वर्ष 2013 के अंत तक राज्य में उद्योगो की संख्या केवल 3,345 थी। कुल उद्योगों की तुलना में यह आंकड़े केवल 1.5 फीसदी हैं जबकि यही आंकड़े अन्य प्रमुख औद्योगिक राज्यों में जैसे कि तमिलनाडु 16.6 फीसद), महाराष्ट्र 3.03 फीसदी और गुजरात  10.17 फीसदी है।

 

देश भर में करीब 12.9 मिलियन लोगो भारतीय उद्योग से जुड़े हैं जिसमें से बिहार की हिस्सेदारी केवल 116,396 लोगों की है जो कि कुल संख्या के 1 फीसदी से भी कम है।

 

कृषि में 3.7 फीसदी वृद्धि दर्ज होने (वर्ष 2015 के आर्थिक सर्वेक्षण के अनुसार ) एवं राज्य में कोई बड़ा उद्योग न होने के साथ राज्य की अर्थव्यवस्था को मुख्य रुप से चलाने वालों को रोज़गार दिला पाना, आगामी चुनाव जीतने के लिए मुख्य चुनौती साबित हो सकती है।

 

( यह लेख बिहार पर इंडियास्पेंड द्वारा विशेष विश्लेषण का हिस्सा है। )
 
यह लेख मूलत: अंग्रेज़ी में 10 सितंबर 2015 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।
 
________________________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Views
4779

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *