Home » Cover Story » भारत की हकलाती हुई इंटरनेट क्रांति

भारत की हकलाती हुई इंटरनेट क्रांति

देवानिक साहा,

620

 

वर्ष 2015 भारत में इंटरनेट के लिए एक लाभदायक वर्ष होना चाहिए।

 

इस वर्ष भारत को अमेरिका से आगे निकलना चाहिए,  दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा नेट उपयोगकर्ता होने के साथ जहां जून 2015 तक सक्रिय इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या 269 मिलियन तक पहुंच जाएगी -हो सकता है वह आगे निकल भी गया हो -लेकिन इसके लिए कोई आंकड़ें उपलब्ध नहीं है , केवल अनुमान ही हैं। दावा करने वाले उपयोगकर्ता 302 मिलियन की संख्या के साथ, बहुत अधिक हैं।

 

यही विरोधाभास है::  20.080 मिलियन से कम ही उपभोक्ता, वास्तव में 3 जी, या तीसरी पीढ़ी के मोबाइल सर्विसेज (आठ में से सात से भारतीय उपयोगकर्ता   मोबाइल फोन पर नेट का उपयोग करते हैं ), जो मल्टीमीडिया सामग्री को साझा करने या देखने के लिए आवश्यक हैं।

 

एक अमेरिकी प्रौद्योगिकी कंपनी,  अकामाई टेक्नोलॉजीज़ , की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में औसत ब्रॉडबैंड स्पीड 2 एमबीपीएस प्रति सेकंड (मैगाबिट्स) है। जिसके कारण विश्व स्तर पर भारत की रैंक 115 है, जो की  एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सबसे कम है ।

 

एशिया-प्रशांत क्षेत्र के देशों में ब्रॉडबैंड स्पीड (एमबीपीएस)

 

1desk
Source: Akamai

 

विश्व में ब्रॉडबैंड स्पीड (एमबीपीएस)

 

2desk
Source: Akamai

 

अब विकासशील देशों में , इंटरनेट के शिक्षा पर सकारात्मक प्रभाव को देखते हुए  (लेकिन नैतिकता पर नकारात्मक प्रभाव) इसका  प्रसार भारत में विशेष रूप से महत्वपूर्ण लगता है, लेकिन पीव अनुसंधान की एक नई रिपोर्ट में भारत का वर्गीकरण कम इंटरनेट उपयोग करने वाले देशों में किया है।

 

“(भारत में) इंटरनेट की  तथाकथित विस्फोटक वृद्धि एक मिथ्या है,” डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन (डेफ), एक एडवोकेसी समूह के संस्थापक-निदेशक, ओसामा मंजर कहते हैं । ‘भारत में इंटरनेट का  विकास  कदम दर कदम बढ़ रहा है,इसमें गुणात्मक वृद्धि नही है, यह अभी भी इतनी घातीय वृद्धि नहीं  है जितनी की दिखाई जा रही है। ”

 

80% से अधिक भारतीय नेट उपयोगकर्ता जिन्हे मंजर “स्थैतिक उपयोगकर्ता” कहते हैं, उस श्रेणी में हैं,  या कभी कभार उपयोग करने वालों में से हैं। केवल 2% से  5%  के बीच उपयोगकर्ता नियमित रूप से उपयोग करते हैं जिसका अर्थ है कि  उनका अपना  दैनिक जीवन नेट पर निर्भर है और वे उसका उपयोग अर्थव्यवस्था में योगदान करने के लिए कर रहे हैं, वे कहते हैं।

 

सूचना प्रौद्योगिकी में एक कमेंटेटर, प्रसंतो रॉय,कहते हैं कि “वायर्ड ब्रॉडबैंड भारत में काफी नगण्य है,”।  “इसे आर्थिक सफलता नहीं मिली है।  लगभग 15 मिलियन वायर्ड ब्रॉडबैंड उपयोगकर्ताओं में से 7-8 मिलियन कॉर्पोरेट्स और निजी क्षेत्र संगठन हैं। ”

 

ब्रॉडबैंड को सर्वव्यापी करने की सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना स्वयं भी उपयोग गति के साथ संघर्षरत है ।

 

अक्टूबर 2014 में केंद्र ने 250,000 ग्राम पंचायतों (ग्राम परिषदों) में  ब्रॉडबैंड सुविधा प्रदान करने के लिए एक  राष्ट्रीय ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क शुरू किया था। एक राज्य स्वामित्व वाली कंपनी, भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड,को इस परियोजना को लागू करने के लिए बनाया गया था।

 

कनेक्टिविटी की तारीफ की जाए तो कह सकते हैं कि बस टूटी फूटी है। पंचायतों में से केवल 67% में पायलट चरण में, वास्तव में (20.5% में कोई नेटवर्क नहीं था) राष्ट्रीय फाइबर नेटवर्क से जुड़ी थी,लेकिन 45.5% से अधिक पंचायतों तक यह सुविशा नहीं  पहुंची थी,दिसंबर 2014 के  एक डीईएफ अध्ययन में कहा गया था।

 

एक तकनीक उद्यमी, रजनीश (वह केवल एक ही नाम का उपयोग करते हैं), कहते हैं कि भारत की ब्रॉडबैंड स्थिति में सुधार करने के दो ही तरीके थे: इंटरनेट की सुविधा प्रदान करने के लिए राज्य द्वारा चलाई जा रही दूरसंचार कंपनियों, एमटीएनएल और बीएसएनएल की स्थाई ग्राहक लाइनों का उपयोग करने के लिए निजी ऑपरेटरों को अनुमति दी जाए; और निजी सेवा प्रदाताओं के लिए कर में कटौती की जाए ।

 

“लेकिन कुल मिलाकर, मुझे विश्वास है  कि फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड इंटरनेट में निवेश करना समझदारी नही है ,” रजनीश ने कहा।

 

भारत  मोबाइल इंटरनेट सेवाओं के लिए भी ब्रॉडबैंड के साथ संघर्षरत है।

 

1.7 एमबीपीएस की एक औसत गति के साथ, भारत थाईलैंड, चीन, हांगकांग और सिंगापुर से नीचे स्थान पर है। विश्व स्तर पर, भारत ब्राजील की तुलना में बेहतर स्थान पर है, लेकिन अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं से पीछे है।

 

“लगभग 60 करोड़ मोबाइल उपयोगकर्ता कभी कभी  2G उपयोग करने वालों में से हैं , जो  मुख्य रूप से दिन में एक बार या दो बार फेसबुक और व्हाट्सएप्प  एप्लीकेशनस का उपयोग करते हैं,” रॉय ने कहा।

 

एशिया-प्रशांत  देशों में मोबाइल इंटरनेट स्पीड (एमबीपीएस)

 

3desk
Source: Akamai

 

विश्व में मोबाइल इंटरनेट स्पीड (एमबीपीएस)

 

4desk
Source: Akamai

 

ब्रॉडबैंड के लिए मांग की कोई कमी नहीं है। भारत एशिया-प्रशांत क्षेत्र में स्मार्टफोन का सबसे तेजी से बढ़ता हुआ बाजार है जहाँ वर्ष 2014 में 9.6 मिलियन पर्सनल कंप्यूटर की बिक्री की तुलना में स्मार्टफोन की बिक्री 53 मिलियन होने का अनुमान है।

 

गति तभी बढ़ सकती है  यदि 4G, या चौथी पीढ़ी सेवाएँ , व्यापक हो जाएँ। मई/जून 2015 में रिलायंस जेआईओ द्वारा 800 शहरों में अपनी 4 जी एलटीई सेवाओं को लॉन्च करने की उम्मीद है। लेकिन उन्होंने  लगभग चार साल पहले स्पेक्ट्रम, या दूरसंचार एयरवेव्स, ग्रहण कर ली थी और दूरसंचार नीति और बेहतर प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में स्पष्ट व्याख्या का इंतजार कर रहे थे।

 

रिलायंस जेआईओ के जवाब में, एक प्रारंभिक बढ़त हासिल करने के संभावित उद्देश्य के साथ एयरटेल,जो कुछ 4G सेवाएं प्रदान करता है ने भी अपने रोल-आउट योजना में तेज़ी लाई है।

 

(देवानिक साहा ‘द पोलिटिकल इंडियन‘ में डाटा संपादक के पद पर कार्यरत हैं।)

 

छवि आभार : फ़्लिकर/माइककौगएच (MikeCogH)
__________________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.org एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Views
1994

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *