Home » Cover Story » भारत के रोजगार वृद्धि दर में कमी

भारत के रोजगार वृद्धि दर में कमी

तीश संघेरा,

worker_620

 

मुंबई: भारत में रोजगार वृद्धि दर में 2015-16 में 0.1 फीसदी और 2016-17 में 0.2 फीसदी की कमी आई है, हालांकि देश का वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 7.4 फीसदी और 8.2 फीसदी की वृद्धि हुई है, जैसा कि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा समर्थित एक शोध परियोजना, इंडिया KLEMS डेटाबेस द्वारा जारी आंकड़ों से पता चलता है।

 

2009 में शुरू किया गया, डेटाबेस उद्योग और सेक्टर-वार उत्पादकता की वृद्धि मापता है।

 

कई क्षेत्रों ( जिनमें खनन और उत्खनन, और वस्त्र और विनिर्माण शामिल हैं ) ने 2014-15 और 2015-16 के बीच रोजगार वृद्धि दर में गिरावट देखी है। 2005-06 से कृषि में नकारात्मक वृद्धि दर देखी गई है, और पिछले पांच वर्षों में, विकास दर 2011-12 में -1.9 फीसदी से घटकर 2015-16 में -3.6 फीसदी हो गई है।

 

निर्माण उद्योग में स्थिर रोजगार दर देखी गई है, 2011-12 में 9.8 फीसदी और 2015-16 में चार साल बाद 8.2 फीसदी, हालांकि इंडिया KLEMS डेटाबेस यह दर्शाता है कि क्षेत्र की कुल कारक उत्पादकता ( दक्षता का एक उपाय ) में हर साल गिरावट हो रही है।

 

पिछले पांच सालों के लिए निर्माण उद्योग की औसत रोजगार वृद्धि दर 9 फीसदी है – जो पारंपरिक रूप से बड़े नियोक्ता हैं, वे अक्सर पूर्व कृषि श्रमिकों को काम देते हैं।

 

उन्ही पांच वर्षों के दौरान  (2011-12 से 2015-16) विनिर्माण की औसत रोजगार वृद्धि दर 3.2 फीसदी थी और खनन क्षेत्र का -0.76 फीसदी था।

 

2015-16 में, स्किल इंडिया मिशन ने वैकल्पिक रोजगार पाने के लिए लोगों को सही कौशल के साथ प्रशिक्षण देने पर 1,176 करोड़ रुपये खर्च किए। उसी वर्ष, रोजगार वृद्धि दर 0.2फीसदी से कम हो गई, जो अर्थव्यवस्था के लिए नौकरियों के नुकसान का उस समय संकेत देती है, जब सरकार इस योजना के तहत 400 मिलियन लोगों को नियोजित करने का प्रयास कर रही थी।

 

‘सेंटर फॉर मॉनिटरिंग द इंडियन इकोनोमी’ (सीएमआईई) का अनुमान है कि वर्तमान भारतीय बेरोजगारी दर 6.3 फीसदी होगी। हालांकि, नवंबर 2016 में नोटबंदी और जुलाई 2017 में माल और सेवा करों की शुरूआत के बाद, यह देखा जाना शेष है कि कई क्षेत्रों में रोजगार कितना प्रभावित हुआ है। रिपोर्टों (जैसे कि यहां और यहां) में बताया गया है कि असंगठित क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुए हैं – जिसके लिए KLEMS डेटाबेस द्वारा शामिल नहीं किया गया है।

 

हमने KLEMS डेटाबेस से हाइलाइट्स को यहां प्रस्तुत किया है:

 

 

(संघेरा इंटर्न हैं और इंडियास्पेंड के साथ जुड़ी हैं।)

 

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 30 मार्च, 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
3237

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *