Home » Cover Story » मौसम के पूर्वानुमानों पर टिका है भारतीय किसानों का भविष्य

मौसम के पूर्वानुमानों पर टिका है भारतीय किसानों का भविष्य

चारु बाहरी,

Monsoon

 

माउंट आबू, राजस्थान: भारत के मौसम विज्ञान विभाग ने इस वर्ष 97 फीसदी सामान्य मानसून बारिश की भविष्यवाणी की है। पुणे स्थित ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टॉपिकल मेट्रोलोजी’ (आईआईटीएम) ने इस साल मानसून की भविष्यवाणी करने और संभावित रूप से प्रभावित होने की उनकी क्षमता के लिए आर्कटिक सर्किल ( 5,000 किमी की दूरी ) पर बदलते मौसम की स्थिति पर करीबी नजर रखी है।

 

1951 से 2014 तक फैले आंकड़ों से पता चलता है कि पूर्व मानसून अवधि के दौरान आर्कटिक क्षेत्र में विशिष्ट स्थानों पर तापमान और दबाव की स्थिति भारतीय गर्मियों में मानसून की वर्षा से संबंधित है, जैसा कि आईआईटीएम के एक वैज्ञानिक संतोष बी. काकडे के नेतृत्व में हाल के एक शोध से पता चलता है।

 

काकडे अगले कुछ वर्षों में आर्कटिक और भारतीय मॉनसून डेटा पर अपनी परिकल्पना का परीक्षण करेंगे। यदि यह सही साबित हुआ, तो उसका शोध भारतीय वैज्ञानिकों को मानसून का पूर्वानुमान करने के लिए एक और पैरामीटर दे सकता है।

 

ग्रीष्म ऋतु मानसून 80 फीसदी से अधिक भारतीय वर्षा में योगदान देता है। इन पूर्वानुमानों की शुद्धता भारत के विशाल कृषि क्षेत्र के साथ-साथ समग्र भारतीय अर्थव्यवस्था और दुनिया की 17 फीसदी आबादी को प्रभावित करती है।

 

आर्कटिक संबंध

 

भारत एक शताब्दी पहले की भविष्यवाणी विधियों से काफी लंबा सफर तय कर चुका है, जब भारत मौसम विज्ञान विभाग के पूर्वानुमान केवल कवर किए बर्फ पर निर्भर थे, कम कवर के साथ बेहतर मानसून संकेत मिलता है।

 

विशेषज्ञों का मानना है कि, सुपरकंप्यूटर के उपयोग को आगे बढ़ाने के बावजूद, भारत के मौसम पूर्वानुमान प्रणाली सीमित डेटा और खराब मॉडल से बाधित है, जिसके परिणामस्वरूप अपर्याप्त संकेत मिलते हैं।

 

अब तक, भारतीय ग्रीष्मकालीन मॉनसून उत्तरी अटलांटिक ऑसिलेशन और दक्षिणी ऑसीलेशन, दो पवन पैटर्न से प्रभावित होने के लिए जाना जाता है जो एक दूसरे के साथ भी मिलते हैं।

 

2000 में, काकाडे और उनके एक सहयोगी ने एफेक्टिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (ईएसआई) को संकल्पना दी, जो उन दो आवेशियों की शुद्ध सापेक्ष ताकत थी। ईएसआई और ईएसआई-प्रवृत्ति, उत्तरी गोलार्द्ध में वसंत से वसंत तक ईएसआई का विकास, मई के आरंभ में मापा जा सकता है।

 

यदि यह ईएसआई-प्रवृत्ति सकारात्मक है, जिसका अर्थ है कि उत्तरी अटलांटिक ऑसिलेशन दक्षिणी ऑसिलेशन से अधिक दृढ़ता से विकसित हुआ है, काकडे समुद्र की सतह पर मई के औसत तापमान और समुद्री स्तर से 5,572 मीटर ऊपर, विशिष्ट आर्कटिक स्थानों पर अच्छी तरह से परिभाषित, अक्षांश और देशांतर पर अध्ययन करेंगे। अगर मई के औसत तापमान सामान्य से अधिक हैं, तो यह कमजोर भारतीय ग्रीष्म मानसून के संकेतक हैं, और इसका विपरीत भी संभव है।

 

यदि ईएसआई-प्रवृत्ति नकारत्मक है तो काकडे वसंत के दौरान समुद्र स्तर से 5,572 मीटर औसत तापमान का औसत अध्ययन करेंगे और मई के दौरान समुद्र के स्तर से 11,770 मीटर औसत तापमान से भारतीय ग्रीष्म मानसून की तीव्रता का संकेत मिलेगा।

 

काकडे ने कहा कि आर्कटिक ऑसिलेशन की ताकत को इस जटिल भविष्यवाणी प्रक्रिया में भी शामिल किया जाना चाहिए।

 

आर्कटिक ऑसिलेशन से 55 डिग्री एन अक्षांश के आसपास चक्रवात की तरफ की हवाएं होती हैं। हालांकि ये हवाएं ठंडे आर्कटिक हवा में गुम हो जाती हैं। हालांकि, इस साल की शुरुआत में, एक कमजोर आर्कटिक ऑसिलेशन ने ठंड को दक्षिण की तरफ जाने की इजाजत दी, जिससे यूरोप में असामान्य रूप से ठंडा वसंत हुआ क्योंकि उत्तरी ध्रुव के तापमान और आर्कटिक क्षेत्र में तापमान सामान्य से 20 डिग्री सेल्सियस था। जलवायु वैज्ञानिकों ने इस विसंगति को यानी गर्म आर्कटिक, ठंड महाद्वीप को “wacc-y” का नाम दिया है।

 

भारतीय गर्मियों के मानसून को प्रभावित करने के लिए शेष वर्ष के दौरान एक कमजोर आर्कटिक ऑसिलेशन जारी रहता है या नहीं,  यह अन्य उत्तेजनाओं के विकास पर भी निर्भर करता है।

 

एक सकारात्मक ईएसआई-प्रवृत्ति मई से अक्टूबर तक (और इसके विपरीत) नकारात्मक आर्कटिक ऑसिलेशन से जुड़ा हुआ है, जैसा कि समझाया गया है। यह ठंडे आर्कटिक हवा को दक्षिण दिशा में प्रवेश करने की अनुमति देता है। काकडे ने समझाया, “यूरेशिया को ठंडा करके, और यहां तक ​​कि यूरेशियन बर्फ-कवर में भी वृद्धि, यह स्थिति संभवतः भारत पर वर्षा की गतिविधि को कम कर सकती है।”

 

भविष्यवाणी में त्रुटियांकिसानों को नुकसान

 

भारतीय वैज्ञानिक अब अल्पावधि के पूर्वानुमान पर काफी अच्छे हैं।

 

‘दिवेचा सेंटर फॉर क्लाइमेट चेंज’ में विशिष्ट वैज्ञानिक और इंडियन इंस्ट्टयूट ऑफ साइंस, बेंगलुरु में ‘सेंटर फॉर एटमोसफिअरिक एंड ओशेनिक चेंज’ में मानद प्रोफेसर, जे श्रीनिवासन ने इंडियास्पेंड को बताया, “हालांकि भौतिकी के नियमों के आधार पर अल्पावधि (2 से 3 दिन पहले) मौसम पूर्वानुमान काफी अच्छा है, आगे के सप्ताह का पूर्वानुमान सटीक नहीं है।”

 

श्रीनिवासन ने बताया, साप्ताहिक भविष्यवाणी ऐसे मॉडल दुनिया के अन्य हिस्सों में भी मौसम की सही भविष्यवाणी करने में असमर्थ हैं ।

 

भारतीय मॉनसून में बदलाव मध्य एशिया, भूमध्य रेखा और प्रशांत महासागर में जलवायु परिवर्तन से जुड़ा हुआ है।

 

श्रीनिवासन ने आगे बताया कि “लंबे समय तक भविष्यवाणी, मॉनसून के साप्ताहिक पूर्वानुमान से भी कम सटीक मानी जाती है क्योंकि हम समुद्र, वायुमंडल और बादलों के बीच के लिंक को पूरी तरह से समझ नहीं पाते हैं, और निश्चित रूप से अपर्याप्त उपग्रह डेटा इस समझ में बाधा डालता है।”

 

बद्तर भविष्यवाणियों से किसानों को नुकसान हुआ है।

 

जुलाई 2017 में, महाराष्ट्र के बीड जिले के किसानों के एक समूह ने भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें कहा गया था कि मानसून‘सामान्य’ रहेगा।

 

वैसे, पूरे भारत को ध्यान में रखते हुए, सामान्य मानसून के पूर्वानुमान अक्सर सटीक साबित हुए हैं क्योंकि देश में ग्रीष्म बारिश के अलावा भी भारी वर्षा होती है और जब औसत वर्षा की गणना की जाती है, तो वह पुर्वानुमान के बराबर आता है। हालांकि, इस तरह के अखिल भारतीय, लंबी दूरी के पूर्वानुमान किसी विशेष जिले में किसानों की रक्षा नहीं कर सकते हैं या फसल की विफलता और नुकसान से अवगत नहीं करा सकते हैं। बीड के किसानों को पहले से नहीं बताया गया था कि अच्छी शुरूआत के बाद उनके जिले को लंबे सूखे का सामना करना पड़ेगा, उनकी बुवाई बेकार साबित हुई क्योंकि उनके पास सुरक्षात्मक सिंचाई के लिए अपर्याप्त पानी था।

 

महाराष्ट्र में किसानों के समूह ‘स्वाभिमानी शख्तारी संगठन’ के प्रवक्ता योगेश पांडे ने कहा, “यदि भविष्यवाणी सटीक होती और हमें लगभग 10-20 दिन पहले ही सूचित किया गया होता, तो हमें इस नुकसान का सामना नहीं करना पड़ता।”

 

अधिक प्रासंगिक डेटा से मानसून पूर्वानुमान में सुधार  

 

हालांकि अभी काकाडे की परिकल्पना का परीक्षण किया जाना बाकी है। 1955 से 1980 तक डेटा के पुराने विश्लेषण से पता चलता है कि 30 एमबार (वायुमंडलीय दबाव की एक इकाई, जो उत्तरी ध्रुव के ऊपर 21,629 मीटर की ऊंचाई से संबंधित है ) और भारतीय मानसून बारिश पर समताप मंडल में तापमान विसंगतियों के बीच संबंध मौजूद है।

 

आने वाले भारतीय मानसून के दौरान नवंबर के दौरान तापमान विसंगतियों में वर्षा में 20 फीसदी परिवर्तनशीलता (अतिरिक्त या घाटा) होने की संभावना है, जबकि मार्च के दौरान तापमान विसंगतियों में 10 फीसदी परिवर्तनशीलता हो सकती है, जैसा कि एक अध्ययन और आईआईटीएम में वैज्ञानिकों द्वारा भी किए गए अध्ययन और 1992 में इंडियन जर्नल ऑफ रेडियो एंड स्पेस फिजिक्स में प्रकाशित अध्ययन से पता चलता है।

 

अब जब एक नया अध्ययन हमें बताता है कि भारतीय मानसून और आर्कटिक क्षेत्र में विशिष्ट स्थानों और समय पर तापमान के बीच एक सांख्यिकीय संबंध मौजूद है, तो क्या इस तरह के रिश्तों को वार्षिक मॉनसून भविष्यवाणी अभ्यास में शामिल किया जाना चाहिए?

 

दिल्ली में ‘इंडियन इंस्ट्टयूट ऑफ टेक्नोलोजी’, में ‘सेंटर फॉर एटमोस्फियरिक साइंस’ में सहायक प्रोफेसर, संदीप सुकुमारन ने इंडियास्पेंड को बताया कि, “हां, हमें मॉनसून की भविष्यवाणी करने के लिए सांख्यिकीय मॉडल में नए डेटा को शामिल करना चाहिए, लेकिन इसे अच्छी तरह से समझने के बाद ही। लंबी दूरी के कारण दोनों जगहों की जलवायु में विसंगतियां हैं।”

 

सुकुमारन कहते हैं, “हमें आर्कटिक ऑसिलेशन और मानसून के बीच भौतिक तंत्र स्थापित करने की आवश्यकता है जैसे कि हम समझते हैं कि एल निनो दक्षिणी ऑसीलेशन औरहिंद महासागर द्विध्रुवीय मोड जैसे उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में अन्य वायुमंडलीय / समुद्री महासागर हमारे मॉनसून को प्रभावित करते हैं।”

 

वैश्विक स्तर पर गर्म-से-सामान्य वर्षों की हाल की स्ट्रिंग के बाद दुनिया भर में अच्छी तरह से जाना जाने वाला एल निनो, भूमध्य रेखा प्रशांत महासागर पर हवाओं और समुद्र-सतह के तापमान में एक भिन्नता, अनियमित रूप से आवधिक है। हिंद महासागर द्विध्रुवीय मोड एक भिन्नता पैटर्न है, जिसमें सुमात्रा से उष्णकटिबंधीय कम समुद्र-सतह तापमान और पश्चिमी हिंद महासागर में उच्च समुद्र-सतह तापमान, हवा और वर्षा विसंगतियों के साथ शामिल है।

 

पुणे में, काकडे यह देखने को इच्छुक हैं कि इस वर्ष के आर्कटिक डेटा में उनके निष्कर्ष हैं या नहीं। उन्होंने कहा, “भारतीय गर्मियों में मानसून की वर्षा पर निश्चित रूप से प्रभाव डालने वाला कोई भी नया पैरामीटर संभावित रूप से हमारे दीर्घकालिक पूर्वानुमानों की सटीकता में सुधार करने में मदद कर सकता है।”

 

——————————————————————-

 

( बहरी स्वतंत्र लेखक और संपादक हैं, राजस्थान के माउंट आबू में रहती हैं ।)

 

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 12 मई, 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

 

 हम फीडबैक का स्वागत करते हैं, कृपया respond@indiaspend.org पर लिखें। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं ।

 

________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
1962

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *