Home » Cover Story » विश्व में सबसे ज्यादा, 70 बिलियन डॉलर प्रवासी भारतीय भेजते हैं अपने घर

विश्व में सबसे ज्यादा, 70 बिलियन डॉलर प्रवासी भारतीय भेजते हैं अपने घर

इंडियास्पेंड टीम,

620dub

 

प्रवासी भारतीयों द्वारा अपने घरों/मुल्क में वर्ष 2014 में 70 बिल्यन डालर यानी कि लगभग 4.34 लाख करोड़ रुपया भेजा | इस प्रकार प्रवासी जनों  द्वारा अपने घरों/मुल्क को धन भेजने वाले देशो की सूची में प्रवासी भारतियों ने लगातार सातवीं बार सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया हैं , उक्त आंकड़ें  वर्ल्ड  बैंक ने  प्रकाशित किया |

 

प्रवासी भारतीयों द्वारा भेजी जाने वाली उक्त सामूहिक धन राशि भारत द्वारा प्रस्तावित – चार भारी भरकम बजट वाले बुलेट ट्रेन कारीडोरों प्रोजेक्ट्स को निर्माण करने में सक्षम – यह धन भारत द्वारा 67 कोयला आवंटन से प्राप्त होने वाली राशि से ज्यादा हैं  | यह समस्त भारतीय कम्पनीज द्वारा सामूहिक रूप से मार्केट से उठाई धन राशि से भी अधिक हैं  |

 

लेकिन विदेशी मुद्रा की वृद्धि दर , जो कि सन 2013 में1.7% थी – घट कर 0.6% हो गयी सन 2014 में| वर्ल्ड बैंक के अनुसार इसका कारण तत्कालीन समय में भारतीय रुपया की साख में बढ़त हो सकती हैं, अन्य प्रचलित मुद्राओं की तुलना में|

 

प्रवासी भारतीयों द्वारा घरों/मुल्क को भेजी गयी धन राशि


Source: World Bank; Figures in $ billion

 

गत पिछले दशक में प्रवासी भारतियों द्वारा घर भेजे गए धन में तीन गुना वृद्धि दर्ज की गयी – यह 22 बिल्यन डालर से बढ़कर 70 बिल्यन डालर सन 2012  के अंत तक हो गयी |

 

उक्त भेजे गए धन राशि में से सबसे बड़े हिस्सों में से एक यूनाइटेड अरब  इमाइरटेस के (U.A.E.) से 12.63 बिलियन डालर , दूसरे नंबर पर यूनाइटेड स्टेट्स , 11.18 बिलियन डालर और सऊदी अरब से 10.84 बिलियन डालर आया |

 

किन-किन बाहरी देशों से प्रवासी भारतीय धन भेजते हैं  

 


Source; World Bank; Figures in $ billion

 

प्रवासी भारतीय धन के कुल जोड़ 70 बिलियन डालर का 18% हिस्सा यूनाइटेड अरब इमाइरटेस से , 15.88% हिस्सा यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका से और 15.40% हिस्सा सऊदी अरब से आता हैं  |

 

पूरी दुनिया में फैले भारतियों की संख्या लगभग 274 मिलियन हैं – जोकि पिछली अनुमानित संख्या 232 मिलियन से ज्यादा हैं  | यह संख्या 2015 में बढ़कर 250 मिलियन हो जाने की संभावना हैं  |

 

दुनिया में विकासशील देशों से प्रवासीजनों द्वारा अपने घरों/मुल्क को भेजे जाने वाले धन की राशि में – भारत और चीन को मिलाकर – भेजे जाने वाले धन की राशि 436 बिलियन (सन 2014) हो गयी – सन 2013 से जोकि इस प्रकार 4% की वृद्धि को प्राप्त हुई | सन 2015 में यह बढ़कर 440 बिलियन डालर हो जाने की उम्मीद हैं – जो की पिछले साल की तुलना में 0.9% वृद्धि को प्राप्त होगा |

 

वर्ल्ड बैंक ने अपनी रपट मेंकहा की अंतर्राष्ट्रीय तेल की कीमतों में कमी के कारण प्रावासी भारतियों,जो कि गल्फ कोओपरेसन काउंसिल (G.C.C.) देशों के सदस्य देशों मेंबसे हैं  -द्वारा घरों/मुल्क को भेजी गयी धन राशि में कोई कमी नहीं आयी |

 

वर्ल्ड बैंक कि रिपोर्ट में आगे कहा कि उक्त प्रवासियों द्वारा घरों/मुल्कों को प्रेषित धन के परिदृश्य बदलाहट के दौर में हो सकतें हैं , लेकिन गल्फ को-ऑपरेशन काउंसिल देशों के अधिकांश वित्तीय संसाधनो के इंडस्ट्रियल इस्तेमाल और दीर्घकालीन इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास कार्यकर्मों के लिए प्रवासीजनों  की आवश्यकता तो पड़ेगी ही | लेकिन प्रावासीजनों द्वारा घरों/मुल्क को भेजे गए धन में थोड़ी कमी उस स्थित में आ सकती हैं  – जबकि अंतर्राष्ट्रीय तेल की कीमत अगले कुछ साल के लिए वर्तमान कीमतों पर स्थिर रहे |

 

वर्तमान में प्रवासी भारतीयों की संख्या विश्व भर में फैले 200 देशों में– लगभग 21 मिलियन हैं – यह बहुत छोटे देशों – जैसे PRINCAPALITY OF LICHTENTIN AND THE PEOPLE REPUBLIC OF LAO, को मिलाकर 2012 आंकड़े हैं , ऐसा भारत सरकार के विदेश मंत्रालय की नवीनतम बुलेटिन में बताया गया हैं  |

 

सबसे बड़े दस विदेशी देश , जहां प्रवासी भारतीय बसे हैं  |

 


Source: Ministry of External Affairs

 

2 मिलियन से ज्यादा भारतीय प्रवासीजन u.s.a और मलेशिया में बसे हैं , यूनाइटेड अरब इमाईरटेस में 1.75 मिलियन और सऊदी अरब में लगभग 1.78 मिलियन भारतीय हैं  |

 

अन्य देशों में भी प्रवासी भारतीय जनों की संख्या 111,000 (YEMEN), 4000 (ईरान), 9000 (ईराक), 20,500 (ज़ाम्बिया) और 10,500 (ज़िम्बाब्वे) में भारतीय हैं  |

 

इमेज क्रेडिट : विकिमिडिया/इमरे सोल्ट

 
__________________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.org एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Views
2061

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *