Home » Cover Story » शादी में गौ मांस की अफवाह पर दो मुस्लिमों पर हमला, 2010 के बाद से यह 80वीं घटना

शादी में गौ मांस की अफवाह पर दो मुस्लिमों पर हमला, 2010 के बाद से यह 80वीं घटना

एलिसन सलदानहा,

Koderma_620

 

मुंबई: 2018 में दर्ज गाय से संबंधित दूसरे घृणित अपराध में, 17 अप्रैल, 2018 को झारखंड के कोडरमा जिले के नवालिद गांव में एक शादी में गौ मांस की अफवाह पर एक भीड़ हिंसक हो गई और इस घटना में दो मुस्लिम पुरुष घायल हो गए थे।

 

ऐसी हिंसा दर्ज करने वाले इंडियास्पेंड के डेटाबेस के मुताबिक, 2010 के बाद से यह  गाय से संबंधित 80वां घृणित अपराध है। झारखंड में नवीनतम हमला ( राज्य में दर्ज ऐसी सातवीं घटना) कोडरमा जिला के पुलिस स्टेशन के पास डोमचांच  क्षेत्र में हुई है।

 

Screen Shot 2018-04-20 at 7.00.00 PM copy

Source: IndiaSpend database

 

भारत भर में गाय से संबंधिक घृणित अपराध के लिए यह राज्य तीसरे स्थान पर है। , कर्नाटक ने 2018 में गाय से संबंधित पहले घृणित अपराध की सूचना दी है, गुजरात में भी ऐसा हुआ है। हरियाणा और उत्तर प्रदेश में 10 घटनाओं के साथ सबसे अधिक अपराधों की सूचना दी गई है।

 

मार्च 2018 में, झारखंड के रामगढ़ जिले में एक मांस व्यापारी की भीड़ द्वारा हत्या के बाद हत्या में शामिल 12 आरोपियों में से 11 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी, जैसा कि 21 मार्च, 2018 को द हिंदू ने अपनी रिपोर्ट में बताया है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

वर्ष 2010 से ( जब से हमारा डेटाबेस शुरु होता है ) पशुवत संबंधित घृणित अपराध में 29 लोगों की हत्या हुई है और कम से कम 235 लोग घायल हुए हैं। इन हमलों में 53 फीसदी पीड़ित और मारे गए 86 फीसदी लोग मुस्लिम थे, जैसा कि डेटाबेस के विश्लेषण में दिखाया गया है। इनमें से अधिकांश 97 फीसदी घटनाएं भारतीय जनता पार्टी और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के मई 2014 में सत्ता संभालने के बाद हुई है। 2012 और 2013 में केवल एक घटना की सूचना मिली थी।भौगोलिक दृष्टि से, 2012 से आज तक, उत्तर भारत में ज्यादातर गाय से संबंधित घृणित अपराध, 64 फीसदी या 80 घटनाओं में से 51 की सूचना मिली थी। 2015 से, हमलों के मामले पूर्व और दक्षिण की तरफ भी देखे गए हैं।

 

Screen Shot 2018-04-20 at 7.01.17 PM copy

Source: IndiaSpend database

 

(सलदानहा सहायक संपादक हैं और इंडियास्पेंड के साथ जुड़ी हैं।)

 

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 20 अप्रैल 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
2318

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *