Home » Cover Story » सैनिकों को सबसे कम नकद ईनाम देती है कर्नाटक, गुजरात और ओडिसा राज्य

सैनिकों को सबसे कम नकद ईनाम देती है कर्नाटक, गुजरात और ओडिसा राज्य

राकेश दुब्बदु,

The President, Shri Pranab Mukherjee presenting the Shaurya Chakra to Major T.N. Unnikrishnan at the Defence Investiture Ceremony-1, at Rashtrapati Bhavan, in New Delhi on March 23, 2013.

23 मार्च 2013 को नई दिल्ली में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी आर्मी के मेजर को शौर्य चक्र प्रदान करते हुए

 

वीरता और अनुकरणीय सेवा के लिए पुरस्कार जीतने वाले भारतीय सैनिकों को पदक के अलावा कुछ और सुविधाएं भी प्राप्त होती हैं जैसे कि केंद्र सरकार की विभाग में विभिन्न रियायतें एवं अतिरिक्त पेंशन।

 

Factly.com, आंकड़ों पर आधारित वेब पोर्टल के अनुसार, विजेता प्राप्तसैनिकों को उनके मूल राज्य द्वारा भी सम्मान के तौर पर कुछ ईनाम दी जाती है।

 

आईए पहले पुरस्कार से संबंधित कुछ अहम जानकारियां जानते हैं :

 

सेना की वर्दी में सैनिकों के लिए पुरस्कार दो श्रेणियों में बांटी गई है :

 

  • वीरता पुरस्कार
  •  

  • गैर-वीरता पुरस्कार


 

हम यहां वीरता पुरस्कार पर चर्चा करेंगे जिसे आगे दो श्रेणियों में बांटा गया है –

 

  • दुश्मनों का सामना करने के लिए वीरता एवं
  •  

  • दुश्मनों का सामना करने के अलावा अन्य वीरता।


 

वीरता पुरस्कार की प्रथम श्रेणी मे निम्न पदक शामिल हैं –

 

  • परमवीर चक्र ( पीवीसी ) या “बहादुरों में बहादुर” परस्कारसैन्य सेवा या उससे जुड़े हुए लोगों को दिया जाने वाला सर्वोच्च वीरता सम्मान है। यह पदक शत्रु के सामने अद्वितीय साहस तथा परम शूरता का परिचय देने पर दिया जाता है। कोलोनियल विक्टोरिया क्रॉस को इससे बदला गया है।
  •  

  • महावीर चक्र ( एमवीसी ) या “ग्रेट हीरो” पुरस्कार भारत का युद्ध के समय वीरता का पदक है। यह सम्मान सैनिकों या सेना से जुड़े अन्य लोगों को असाधारण वीरता या प्रकट शूरता या बलिदान के लिए दिया जाता है।वरियता में यह परमवीर चक्र के बाद आता है।
  •  

  • वीर चक्र ( वीआरसी ) पुरस्कार युद्ध के मैदान में वीरता के लिए दिया जाता है। वरियता में यह महावीर चक्र के बाद आता है।
  •  

  • सेना, नौसेना एवं वायु मंडल मेडल ( एसएम ): सैनिकों के “कर्तव्य एवं कार्य के प्रति असधारण समर्पण”के लिए सम्मानित किया जाता है।
  •  

  • मेंशन इन डीसपैच: वीरता के कार्यों के लिए , प्रतिष्ठित या सराहनीय सेवा के लिए सम्मान दिया जाता है।
     

  • चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेंडेशन कार्ड : यह सम्मान युद्ध भूमि के अलावा किए गए वीरता कार्य या कार्य के प्रति असधारण समर्पण के लिए दिया जाता है। यह वीरता पुरस्कार की श्रेणी में सबसे नीचले स्थान पर है।

 

वीरता पुरस्कार की दूसरी श्रेणी में निम्न पदक शामिल हैं –

 

  • अशोक चक्र ( एसी ) – अशोक चक्र भारत का शांति के समय का सबसे ऊँचा वीरता का पदक है। यह सम्मान सैनिकों और असैनिकों को असाधारण वीरता या प्रकट शूरता या बलिदान के लिए दिया जाता है। यह सम्मान पीवीसी के बराबर ही है।
  •  

  • कीर्ती चक्र ( केसी ) – युद्ध के मैदान से दूर वीरता एवं साहस के लिए दिया जाता है। यह सम्मान महावीर चक्र के बराबर है।
  •  

  • शौर्य चक्र ( एससी ) –शौर्य चक्र भारत का शांति के समय वीरता का पदक है।

 

क्या देती है केंद्र सरकार

 

सम्मान पाने वाले व्यक्ति को सरकारि विभागों में कई रियायतों के अलावा केंद्र सरकार की ओर से नकद पुरस्कार भी दी जाती है।

 

नकद पुरस्कार मासिक पेंशन के रुप में दी जाती है।

 

1-desk

Source: Factly.in

 

वीरता पुरस्कार पाने वालों के लिए केंद्र सरकारी विभागों द्वारा कई तरह की रियायतें दी जाती हैं :

 
राज्य सरकार द्वारा नकद पुरस्कार
 

Concessions/ Incentives For Gallantry Award Winners
Award Railways ministry—First Class/AC 2 tier Complimentary Pass to Awardee along with a Companion Indian Airlines—75% Concession On Economy Fare MTNL—No Rental, No Installation Charges, No Registration Charges Finance ministry—Award Amount & Pension Amount exempted from Income Tax Road transport ministry—Exemption from paying Toll Tax
Param Vir Chakra
Maha Vir Chakra
Vir Chakra
Ashoka Chakra
Kirti Chakra
Sena, Nau Sena & Vayu Sena Medal
Shaurya Chakra

Source: Factly.in

 

कई राज्य सरकार द्वारा भी वीरता पुरस्कार प्राप्त सैनिकों एवं असैनिकों को कुछ रियायते एवं नकद पुरस्कार प्रदान की जाती है।

 

राज्य सरकार की ओर से रियायत तीन रुपों में दी जाती है –

 

  • नकद
  •  

  • भूमि के एवज में नकद ( सीआईएल ) या
  •  

  • वर्षिक वृत्ति


 

परमवीर चक्र विजेता के लिए सबसे अधिक नकद, 31 लाख,  हरियाणा सरकार द्वारा दिया जाता है। वहीं सबसे कम नकद राशि कर्नाटक, गुजरात एवं ओडिसा राज्य सरकार द्वारा दी जाती है। इन राज्यों द्वारा विजेता को केवल 22,500 रुपए ही दिए जाते हैं। मेघालय राज्य किसी भी तरह का कोई पुरस्कार नहीं देती है।
 
राज्य द्वारा परमवीर चक्र विजेताओं को दी जाने वाली नकद राशि
 
3-desk

Source: Factly.in

 
राज्य सरकार द्वारा अशोक चक्र विजेताओं को दी जाने वाली नकद राशि

 
4-desk

Source: Factly.in

 

इसी तरह विजेता सैनिकों को राज्य द्वारा नकद ईनाम दी जाती है। उद्हारण के तौर पर आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा दी जाने वाली राशि इस प्रकार है-
 
आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा विजेता सैनिकों को दी जाने वाली राशि
 
5-desk
 

Source: Factly.in

 

देश के कुछ ही राज्य विजेता सैनिकों को सीआईएल एवं वार्षिक वृत्ति में विस्तार प्रदान करती है।

 

(दुब्बदु एक दशक से सूचना के अधिकार से संबंधित मुद्दों पर काम कर रहे हैं । दुब्बदु डाटा, सूचना एवं नीतिगत मुद्दों पर लगातार काम कर रहे हैं। Factly.com आंकड़ों पर आधारित एव वेब पोर्टल है। )

 

_______________________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

Views
6001

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *