Home » Cover Story » 24 भारतीय स्मारक ‘लुप्त’, आधे हैं उत्तर प्रदेश से

24 भारतीय स्मारक ‘लुप्त’, आधे हैं उत्तर प्रदेश से

इंडियास्पेंड टीम,

monuments_620

 

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) – राष्ट्रीय विरासत के लिए जिम्मेदार सरकारी एजेंसी – के तहत आने वाले कम से कम 24 स्मारक लुप्त हैं। इनमें से करीब आधे उत्तर प्रदेश से हैं। यह जानकारी 1 अगस्त, 2016 को लोक सभा में दिए गए एक जवाब में सामने आई है।

 

लुप्त स्मारको में महाराष्ट्र का प्रागैतिहासिक मेगालिथ, उत्तर प्रदेश में रॉक शिलालेख, मेगालि, बौद्ध और हिंदू मंदिर खंडहर, असम में 16 वीं सदी के अफगान सम्राट शेरशाह की बंदूकें, हरियाणा में मध्ययुगीन मील के पत्थर (कोस मीनार) और उत्तराखंड में एक मंदिर और और विविध कब्रिस्तान, कब्रिस्तान और अन्य खंडहर शामिल हैं।

 

लुप्त स्मारकों को पहले “अनुसरणीय” घोषित किया गया है¸ जिसके बाद एक विस्तृत प्रक्रिया शुरू होती है। संस्कृति और पर्यटन राज्य मंत्री, महेश शर्मा ने एक बयान में लोकसभा को बताया, “अनुसरणीय स्मारकों पता लगाने की प्रक्रिया में पुराने रिकॉर्ड, राजस्व नक्शे, चर्चा की गई प्रकाशित रिपोर्ट का सत्यापन, भौतिक निरीक्षण और लुप्त स्मारकों का पता लगाने के लिए टीमों की तैनाती शामिल है।”

 

भारत के लुप्त स्मारक

India’s Missing Monuments
S.No. State Place What’s Missing
1 Assam Sadia, Tinsukia Guns of Emperor Sher Shah
2 Arunachal Pradesh Paya, Lohit The Ruins of Copper Temple
3 Haryana Mujesar, Faridabad Kos Minar
4 Haryana Shahabad, Kurukshetra Kos Minar
5 Uttarakhand Dwarahat, Almora Kutumbari Temple
6 Delhi Delhi Bara Khamba Cemetery
7 Delhi Mubarakpur Kotla Inchla Wali Gumti
8 Madhya Pradesh Satna Rock Inscription
9 Maharashtra Pune Old European Tomb
10 Maharashtra Agarkot One Buruj
11 Rajasthan Nagar, Tonk Inscription in Fort
12 Rajasthan Baran 12th Centry Temple
13 Uttar Pradesh Ahugi Mirzapur Ruins of three small linga temple circle 1000 AD
14 Uttar Pradesh Chandauli Three sites with megaliths on the western and north eastern toes of the hill
15 Uttar Pradesh Varanasi Tablet on treasury building
16 Uttar Pradesh Varanasi Telia Nala Buddhist ruins
17 Uttar Pradesh Amavey, Ballia A Banyan grove containing traces of ancient building
18 Uttar Pradesh Katra Naka, Banda Closed Cemetery
19 Uttar Pradesh Mehroni, Lalitpur Gunner Burkill’s Tomb
20 Uttar Pradesh Lucknow-Faizabad Road, Lucknow Three Tomb
21 Uttar Pradesh Jahralia Road, Lucknow Cemeteries at miles 6 and 7
22 Uttar Pradesh Gaughat, Lucknow Cemetery
23 Uttar Pradesh Pali, Shahabad, Hardoi Large ruined site called Sandi-Khera
24 West Bengal Bamanpukur, Nadia Ruins of fort

 

जैसा कि कई स्मारकों की निगरानी नहीं होती या भौतिक रुप से संरक्षित नहीं होती है, कई स्मारक, या तो निर्माण सामग्री के रूप में या कस्बों और शहरों के विस्तार में स्थान उपलब्ध कराने के लिए ध्वस्त किए गए हैं या गिर गए हैं। शर्मा के बयान के अनुसार, एएसआई ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है जिसके तहत एक उपग्रह आधारित मानचित्र तैयार किया जाएगा जिसमें केंद्र द्वारा रखरखाव किए जाने वाले सभी सुरक्षित, प्रतिबंधित और विनियमित इलाकों-स्मारकों को शामिल किया जाएगा।

 

इस तरह के कम से कम 3686 स्मारकों पर इसरो द्वारा नज़र रखी जाएगी।

 

शर्मा ने लोकसभा को एक और जवाब में बताया कि सरकार ने राष्ट्र स्तर पर एएसआई संरक्षण के लिए 17 साइटों को भी जोड़ा है।

 

इनमें बी आर अम्बेडकर, जिन्हें भारतीय संविधान के जनक के रुप में माना जाता है, उनका जन्म के स्थान, मदन मोहन मालवीय , स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षाविद् का जन्म स्थान, और द्वारकानाथ कोटनिस , एक भारतीय चिकित्सक जिन्हें 1938 के चीन-जापान युद्ध के दौरान उनकी सेवाओं के लिए चीन में याद किया जाता है, उनका जन्म स्थान शामिल है। सुरक्षा के लिए उद्धृत अन्य स्मारकों में बड़े पैमाने पर हिंदू और बौद्ध मंदिर शामिल हैं।

 

यह लेख मूलत: अंग्रेज़ी में 2 अगस्त 16 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 
“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :
 

Views
2880

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *