Home » Cover Story » 26 वर्षों में 136 आतंकी हमले, पंजाब सबसे आगे

26 वर्षों में 136 आतंकी हमले, पंजाब सबसे आगे

हिमाद्री घोष,

620 terror

पंजाब के पठानकोट में भारतीय वायु सेना (आईएएफ) अड्डे के बाहर खड़े भारतीय सुरक्षाकर्मी

 

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 26 वर्षों में पंजाब के उत्तरी राज्यों में 34 आतंकी हमले हुए हैं। यह आंकड़े संकेत हैं कि भारत के सुरक्षा बल इन हमलों का सामना नहीं कर पा रहे हैं।

 

J गृह मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, इसी अवधि के दौरान जम्मू-कश्मीर और दिल्ली में 27 और 18 आतंकी हमले हुए हैं।

 

27 वर्षों में पंजाब में, 1990-1992 के बीच, पंजाब में 34 हमले हुए है। यह वो समय है जब सिख आतंकवाद अपने चरम पर था। 34 में से 31 हमले 1990 के दशक में हुए हैं जबकि 16 वर्षों में 2000 और 2015 के बीच पंजाब में तीन हमले हुए हैं। इस अवधि के दौरान महाराष्ट्र (मुख्य रूप से मुंबई) और जम्मू-कश्मीर में अधिक आतंकी हमले हुए हैं।

आतंक हमले – मौत एवं घायलों की संख्या (1989-2015)

आतंकी हमले,  लक्ष्य अनुसार (1989-2015)

 

पठानकोट, पंजाब के एयर फोर्स बेस पर आतंकवादी हमले में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के लेफ्टिनेंट कर्नल निरंजन ई कुमार सहित कम से कम सात सैनिकों की जान गई है।

 

आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 26 वर्षों में भारत में पठानकोट में हुए हमले को मिलकार 136 आतंकी हमले हुए हैं।

 

गृह मंत्रालय की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार, इन हमलों में कम से कम 2,000 लोगों की जान गई है और 6,000 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

 

135 हमलों में से 121 हमले आम नागरिकों पर किए गए हैं एवं 14 हमले अति विशिष्ट व्यक्तियों (वीआईपी) पर हुए हैं।

राज्य भर में हुए आतंकी हमले (1989-2015)

 

किसी भी अन्य वर्ष की तुलना में साल 2004 में सबसे अधिक हमले हुए हैं। 2004 में कुल 17 आतंकी हमले हुए हैं जिसमें 170 से अधिक लोगों की मौत हुई है एवं 350 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

 

आतंकवाद विरोधी कार्य के लिए राज्य पुलिस अपर्याप्त

 

27 जुलाई 2015 को पठानकोट एयर बेस और गुरदासपुर पर आतंकी हमले भारत की पुलिस बलों के निर्धारित से कम कर्मचारियों की संख्या होने की ओर इंगित करता है- इंडियास्पेंड ने पहले ही अपनी रिपोर्ट में बताया है।

 

गुरदासपुर में, भारतीय सेना की वर्दी पहने तीन बंदूकधारियों को मारने में पंजाब पुलिस 12 घंटे लग गए, जिसकी काफी आलोचना की गई है।

 

इस रिपोर्ट के अनुसार, पंजाब पुलिस की विशेष शस्त्र और रणनीति (स्वाट) टीम केवल कॉटन के ही टी-शर्ट पहने गई थी। हाल ही में एनडीटीवी ने बताया था कि भारत करीब 100 देशों में 230 से अधिक सुरक्षा बलों को शरीर – सुरक्षा के उपकरण निर्यात करता है।  मनोज गुप्ता, कानपुर आधारित एमकेयू के अनुसार, “राज्यों में हमारे अधिकांश पुलिस बल विरोधी दंगा संरक्षण के सज्जित ह न कि आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए। नीति निर्माताओं द्वारा इस पर मुद्दे पर ध्यान देना चाहिए। ” शरीर कवच की भारत की सबसे बड़ी निर्माता के अध्यक्ष का हवाला देते हुए रिपोर्ट उन्होंने कहा|

 

पुलिस सुधारों में शामिल प्रकाश सिंह, पुलिस के एक पूर्व महानिदेशक (डीजीपी) कहते हैं कि, “भारत में आतंकवाद से लड़ने के लिए कोई स्पष्ट नीति नहीं है। आतंकवादी अपराध के लिए पहली प्रतिक्रिया स्थानीय पुलिस की ओर से आती है लेकिन देश भर में पुलिस बल भयानक स्थिति में है। जब तक सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार सुधार नहीं किया जाता है, पुलिस बल विकलांग बना रहेगा। ”

 

सीमित ब्लैक – कैट केन्द्र और जर्जर बुनियादी ढांचा

 

यहां तक ​​कि अभिजात वर्ग एनएसजी, जिसे ब्लैक कैट भी कही जाता है, पठानकोट हमले में निरंतर हताहत कह रही है।

 

आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए एक संघीय आपात बल के रूप में 1984 में बनाया गया, एनएसजी, मुंबई में 2008 के आतंकी हमले तक, केवल मानेसर,  हरियाणा में ही बेस शिविर था।

 

24 वर्षों एवं 100 से अधिक हमलों के बाद ही सरकार ने अन्य एनएसजी इकाइयों की स्थापना की है। 2009 में चार एनएसजी क्षेत्रीय हब मुंबई, चेन्नई, कोलकाता और हैदराबाद में बनाया गया था। अंतिम इकाई पिछले वर्ष 2014 में गुजरात में स्थापित किया गया है।

 

एनएसजी प्रशिक्षण और उपकरणों के संबंध में सवाल उठाए जाते रहे हैं। 2013 में इस मेल टुडे की जांच के अनुसार, उदाहरण के लिए, ब्लैक कैट ने मुश्किल से 2012 में किसी भी हेलीकाप्टर जनित प्रशिक्षण लिया। इसका कारण किसी हैलीकाप्टर का न होना है।

 

एनएसजी के तत्कालीन मुख्यमंत्री द्वारा गृह राज्य मंत्री को लिखे गए एक पत्र में कहा गया है कि, “पिछले छह महीनों के दौरान हेलीकाप्टर की अनुपलब्धता के कारण कोई हैली जनित प्रशिक्षण आयोजित नहीं किया जा सका है।”

 

राज्यों के पास नहीं हैं पर्याप्त आतंकवाद विरोधी इकाइयां

 

आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस), आतंकी हमलों का मुकाबला करने के लिए राज्य के गृह मंत्रालयों द्वारा चलाए जा रहे विशेष पुलिस बल हैं। कुछ राज्यों के लिए विशेष इकाइयां हैं लेकिन इकाइयों निष्क्रिय या कम सज्जित हैं। केवल महाराष्ट्र (मुंबई)  आतंकवाद विरोधी इकाई है – फोर्स वन।

 

(घोष 101reporters.com से जुड़े हैं। 101reporters.com जमीनी पत्रकारों को राष्ट्रीय नेटवर्क है। घोष राजनीतिक और सामाजिक प्रभाव संबंधित मुद्दों पर लिखते हैं।)

 

(यह लेख मूलत: अंग्रेज़ी में 04 जनवरी 2016 को  indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।)

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे Respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Views
3567

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *